जेल गए आईएएस राजीव कुमार, इस बड़े घोटाले से जुड़ा है इनका नाम

नोएडा भूखंड आवंटन मामले में बहुत से बड़े लोगों का नाम आया था। उन्ही में से एक आरोपी IAS राजीव कुमार ने 18 नवंबर सोमवार को CBI कोर्ट में सरेंडर कर दिया।

Published by Roshni Khan Published: November 24, 2019 | 2:04 pm

नोएडा/गाजियाबाद: नोएडा भूखंड आवंटन मामले में बहुत से बड़े लोगों का नाम आया था। उन्ही में से एक आरोपी IAS राजीव कुमार ने 18 नवंबर सोमवार को CBI कोर्ट में सरेंडर कर दिया। उन्‍हें जेल भेज दि‍या गया। राजीव कुमार कैडर में 1983 बैच के अधिकारी थे। आरोप है कि नोएडा सेक्टर-14ए में एक गेस्ट हाउस के लैंडयूज को चेंज कर उसे रेसीडेंशियल करवाया था। साथ ही उस रेसीडेंशियल एरिया में ग्रीन बेल्ट की 105 वर्गमीटर अतिरिक्त भूखंड को भी शामिल किया गया था।

ये भी देखें:देवेन्द्र फडणवीस की पत्नी के आगे फेल ये बड़ी-बड़ी एक्ट्रेसेस, लव केमिस्ट्री दमदार

तीन साल की काटेंगे सजा…

IAS राजीव कुमार को सरेंडर के बाद कोर्ट ने जेल भेज दिया। प्राधिकरण की पूर्व चेयरमैन और पूर्व वरिष्ठ IAS ऑफिसर नीरा यादव पहले ही सरेंडर कर जेल जा चुकी हैं।

नोएडा प्लॉट आवंटन घोटाले में सीबीआई कोर्ट ने दोनों को दोषी करार दि‍या था। उन्‍हें 3-3 साल की सजा सुनाई थी। इसे लेकर दोनों दोषी हाईकोर्ट चले गए थे। वहां उनकी याचिका 25 फरवरी को खारिज कर दी गई थी। जिसके बाद नीरा यादव ने 14 मार्च को CBI कोर्ट में सरेंडर कर दिया और उन्हें जेल भेज दिया गया था।

IAS राजीव कुमार सुप्रीम कोर्ट चले गए। 28 मार्च को कोर्ट ने सरेंडर के लिए 4 सप्ताह का टाइम दे दिया। सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिया गया टाइम खत्म होने वाला है, इसलिए सोमवार को इन्‍होंने सरेंडर कर दि‍या।

ये भी देखें:पलटी मंत्रियों की कार! हुआ भीषण सड़क हादसा, इस मंत्री की चली गई जान

2002 में CBI ने दाखिल की चार्जशीट

जांच की CBI ने की और 2002 में चार्जशीट दाखिल कि‍या। जिसमें IAS राजीव कुमार और नीरा यादव को CBI कोर्ट ने आरोपी ठहराया था।

क्या कहती है पहली और दूसरी चार्जशीट?

– पहली चार्जशीट में राजीव कुमार पर यह आरोप लगा गया था नीरा यादव के सहयोग से नोएडा सेक्टर-51 में 450 वर्गमीटर का एक भूखंड आवंटित कराया था। यह बाद में सेक्टर-44 ए में परिवर्तित कर दिया गया। उसके बाद सेक्टर-14ए में इसे परिवर्तित करा दिया गया और साइज 300 वर्गमीटर कर दिया गया। भूखंड के पास में 105 वर्ग मीटर खाली पड़ी हरित पट्टी को भी भूखंड में शामिल कर लिया गया।

दूसरी चार्जशीट में नीरा यादव पर उनकी दो पुत्रियों को नियमों की अनदेखी कर भूखंड आवंटित करने का आरोप है।

ये भी देखें:यहां है RRB,NTPC एडमिट कार्ड से जुड़ी जानकारी, ऐसे हो जाएं अपडेट

– इसमें कहा गया था कि नीरा ने अपनी बेटी संस्कृति और सुरुचि के नाम पर दो दुकानों का आवंटन किया। उसी आधार पर सेक्टर-44 में आवासीय भूखंड आवंटित कर दिए। उनकी एक बेटी संस्कृति विदेश में थी और दूसरी सुरुचि दिल्ली के किरोड़ीमल में पढ़ रही थीं। एक भूखंड नीरा यादव ने सेक्टर-14ए में भी आवंटित करा लिया। फोटो: राजीव कुमार और नीरा यादव।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App