CAA प्रदर्शन: ‘मोदी जी’ मेरे मम्मी-पापा को ले आओ, पुलिस ने..

आपको बता दें कि चम्पक के माता पिता एकता शेखर और रवि शेखर सामाजिक कार्यकर्ता हैं। 19 दिसंबर को बनारस में प्रदर्शन में दोनों को गिरफ्तार किया गया है।

वाराणसी: पिछले एक पखवारे से बिना मम्मी-पापा के रह रही मासूम चम्पक के परिजनों के सब्र का बांध छलकने लगा है। चम्पक के माता पिता की रिहाई के लिए परिजनों ने सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई। परिजनों ने पीएम के संसदीय कार्यालय में एक ज्ञापन दिया और चम्पक के मम्मी पापा को जेल से छोड़ने की अपील की।

ये भी पढ़ें—लखनऊ के नॉन वेज रेस्तराओं में ताले, बवाल के बाद से बैरे-कारीगर नदारद

चम्पक के परिजनों ने की अपील

चम्पक की दादी शीला तिवारी की माने तो 1 साल 4 महीने की चम्पक अभी तक अपनी माँ का दूध पीती थी। लेकिन मां के जेल जाने की वजह वह इससे महरूम है, लिहाज से बाजार का दूध दिया जा रहा है। इसकी वजह से उसकी सेहत पर असर पड़ रहा है। दादी बताती हैं पिछले कुछ दिनों से तो उसने बाजार का दूध भी पीना छोड़ दिया है। दिन रात अपनी माँ के लिए रोती है। हम प्रधानमंत्री से अपील करते हैं कि वह चम्पक की मजबूरी को समझे और उसकी मम्मी पापा को जेल से रिहा करें।

ये भी पढ़ें—प्रियंका गांधी पर CRPF का बड़ा खुलासा, कहा- हमने नहीं बल्कि…

नहीं मिला ठोस आश्वासन

इस बीच परिजनों को अभी तक रिहाई के बाबत कोई ठोस आश्वासन नहीं मिला है। ना तो संसदीय कार्यालय के कर्मचारियों ने उचित जवाब दिया और ना ही किसी प्रशासनिक अधिकारी की तरफ से अभी तक आश्वासन मिला है। आपको बता दें कि चम्पक के माता पिता एकता शेखर और रवि शेखर सामाजिक कार्यकर्ता हैं। 19 दिसंबर को बनारस में प्रदर्शन में दोनों को गिरफ्तार किया गया है।

ये भी पढ़ें—सरकार ने बदला ये नियम: चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ अब 65 साल में होंगे सेवानिवृत्त