जयाप्रदा ने आजम पर तो हसन ने शाह को लिया निशाने पर

अखिलेश आजम खान से मिलने आए उनका हक बनता है उनके पार्टी के आदमी से मिलने का अखिलेश यादव इस बार आम जनता से मिलने या विकास के लिए नहीं आए। सिर्फ एक व्यक्ति से मिलने आए जयाप्रदा ने कहा मैं अखिलेश जी से पूछना चाहती हूं जब मैं सपा में थी तो मुझे न्याय कब मिला एआरटीओ मेरे ऑफिस में आया और मेरी गाड़ी की लाल बत्ती उतार ली।

मुरादाबाद/रामपुर:  पूर्व सांसद जयप्रदा आज भाजपा के जन जागरण कार्यक्रम में रामपुर पहुंची रामपुर पहुंचने के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने जयप्रदा का स्वागत किया । जयाप्रदा ने अखिलेश यादव पर निशाना साधा और उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव आजम खान के लिए तो रामपुर आए लेकिन जब एआरटीओ ने मेरी लाल बत्ती मेरे ऑफिस में घुसकर उतारी थी तब उनको मेरा ध्यान नहीं आया था । अखिलेश जब रामपुर आए थे तो पीड़ित परिवारों से भी उनको मिलना चाहिए था ।

ये भी देखें : हद है भईया! अब इसका भी काट डाला चालान, वाह रे यूपी पुलिस

जयाप्रदा से मीडिया ने सवाल किया कि अखिलेश यादव ने अपने रामपुर दौरे के में कहा था कि जब सपा सरकार आएगी तो आजम खान पर दर्ज मुकदमे वापस होंगे इस पर जयाप्रदा ने कहा हर लीडर को हर व्यक्ति से मिलने का अधिकार है ।

इसी दौरान अखिलेश आजम खान से मिलने आए उनका हक बनता है उनके पार्टी के आदमी से मिलने का अखिलेश यादव इस बार आम जनता से मिलने या विकास के लिए नहीं आए। सिर्फ एक व्यक्ति से मिलने आए जयाप्रदा ने कहा मैं अखिलेश जी से पूछना चाहती हूं जब मैं सपा में थी तो मुझे न्याय कब मिला एआरटीओ मेरे ऑफिस में आया और मेरी गाड़ी की लाल बत्ती उतार ली। उसमें मेरा कोई कसूर नहीं था तो आप मुझे बचाने के लिए क्यों नहीं आए जयाप्रदा ने कहा एआरटीओ का क्या कोई हैसियत है।

ये भी देखें : जियो टीवी दे रहा ये ऑफर, देख सकेंगे भारत-दक्षिण अफ्रीका की सीरीज़

जो एक सांसद की गाड़ी की लाल बत्ती उतार ले जयाप्रदा ने कहा मैं पूछना चाहती हूं अखिलेश यादव से मुलायम सिंह से के कि जब मैं मुश्किल में थी तो वह मुझे बचाने क्यों नहीं आए क्योंकि मैं एक औरत हूं और हिंदू हूं जयाप्रदा ने कहा क्योंकि अखिलेश राजनीति कर रहे हैं। उपचुनाव करीब है और इन्हें मुसलमानों के वोट चाहिए इसलिए इन्हें रामपुर की याद आई ,,जयाप्रदा ने कहा अखिलेश यादव जिंन गरीबो की जिन किसानों की जमीन आज़म खान ने हड़पी हैं उनके घर पर उनसे मिलने क्यों नहीं गए।

अगर आप न्याय करना चाहते हो तो आप को उनके घर पर भी जाना चाहिए, जयप्रदा ने आजम खान पर तंज़ करते हुए कहा अगर ऐसे ही भीख मांग कर यूनिवर्सिटी बना सकते हैं तो इस दुनिया में सभी लोग यूनिवर्सिटी बना देंगे।

ये भी देखें : यूपी: बिजली वृद्धि पर काग्रेंस का हंगामा, एक हजार ने दी गिरफ्तारी

सपा सांसद आजम खान 2 महीने से रामपुर से बाहर है इस पर जयाप्रदा ने कहा आजम खान साहब इससे पहले लोगों को भगा देते थे जब मैं सिटिंग एमपी रही। तुम मुझे रामपुर से भगाकर मैं एक ऐसी जगह बैठकर मुरादाबाद से काम करती थी तो आज जो बोया है वही काट रहे हैं आज़म खान पर इतने केसेस है इतनी एफआईआर हैं कि उन्हें अपनी गिल्टी पर एहसास है वह क्या किया है और लोगों को कितना परेशान किया है।

मुसलमान विदेशी हो गया, और बाकी सब शरणार्थी हो गए

वहीं मुरादाबाद से सपा सांसद एसटी हसन ने एक बड़ा बयान देते हुए कहा है कि जम्मू-कश्मीर से हटाई गई धारा-370 पर कहा  कि वो और उनकी पार्टी जम्मू कश्मीर से धारा-370 को हटाने का शुरू से विरोध करते रहे है  सपा सांसद ने कहा कि वो केंद्र सरकार से पूछते है की धारा 370 हटाने से उन्हें क्या मिला।

जम्मू-कश्मीर पहले भी हमारा था। और आगे भी हमारा ही रहेगा दरअसल वो पूर्व मुख्यमंत्री फारुख अब्दुल्ला की घर में नजरबंद किये जाने के सवाल का जवाब दे रहे थे।  हसन ने गृहमंत्री अमित शाह को घेरते हुए कहा कि उन्होंने लोकसभा मैं कई बार बयान दिये थे ।

ये भी देखें : घुटनों के नीचे कुर्ती! लड़कियों पर ऐसा फरमान, जिसे सुन हर कोई रह गया दंग

फारुख अब्दुल्ला को नजरबंद नही किया गया । वो अपने निजी काम के चलते लोकसभा में नहीं पहुंच पा रहे है। उनका बयान सरासर गलत था।  जम्मू-कश्मीर के सारे नेता बंधक बने हुए  इससे कौन खुश है।  मोदी सरकार देश को क्या संदेश देना चाहती है।  ये हम लोगो को अच्छी तरह से मालूम है ये बाटने वाली सियासत है, देश उसकी तरफ जा रहा है।  इससे हमारी नश्लों को बहुत बड़ा नुकसान होने जा रहा है।

एनआरसी पर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि किसी व्यक्ति से 50 साल पुराना रिकार्ड मांगना प्रॉब्लम पैदा करना है और पर्दे के पीछे इसका मक़सद कुछ और ही है।  बहुत सी बातें ऐसी होती है जिन्हें समझी जाती है।  जबान से कही नही जाती  हम लोग एनआरसी का पूरी तरह विरोध करते है।  हमारा कहना है कि विदेशी यहां न रहे  लेकिन सबके साथ एक जैसा व्यवहार होना चाहिए और मुसलमान विदेशी हो गया और बाकी सब शरणार्थी हो गए ।