×

रिपोर्ट के अनुसार, रोजाना बिजली से मरने वालों की संख्या जानकर हो जायेंगे हैरान

बिजली कम्पनियों की उदासीनता के चलते जिस प्रकार से विद्युत दुघर्टनाओं से आम-जनमानस की जानें जा रहीं हैं अभी 2 दिन पहले चाहे ऊचाहार की घटना हो या फिर बलरामपुर की घटना हो सभी घटनाओं ने प्रदेश को हिला दिया।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 16 July 2019 3:00 PM GMT

रिपोर्ट के अनुसार, रोजाना बिजली से मरने वालों की संख्या जानकर हो जायेंगे हैरान
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ: यूपी सरकार ऊर्जा क्षेत्र में सुधार के बारे कितनी भी दावे करे वह बेमानी साबित हो रही है। समय के साथ-साथ बिजली दुर्घटनाओं में अप्रत्याशित बृद्धि हुई है। बिजली कम्पनियों की उदासीनता के चलते जिस प्रकार से विद्युत दुघर्टनाओं से आम-जनमानस की जानें जा रहीं हैं अभी 2 दिन पहले चाहे ऊचाहार की घटना हो या फिर बलरामपुर की घटना हो सभी घटनाओं ने प्रदेश को हिला दिया।

ये भी देखें : मुख्यमंत्री के बड़बोलेपन का, अफसरों पर नहीं दिखता असर: अखिलेश

जो बेहद चिंताजनक है विगत में उ0प्र0 विद्युत सुरक्षा निदेशालय द्वारा केन्द्रीय विद्युत प्राधिकरण को विद्युत दुर्घटना सम्बन्धी वर्ष 2018-19 की जो रिपोर्ट भेजी गयी है।

प्रत्येक दिन विद्युत दुर्घटना से लगभग 4 लोगों की जानें पूरे प्रदेश में रोज जा रही

उसमें जो खुलासा हुआ है उससे उ0प्र0 में अब तक प्रदेश के ऊर्जा इतिहास में सर्वाधिक विद्युत दुर्घटनाओं मरने वाले व्यक्तियों की संख्या 1116 हो गयी है जो यह सिद्ध करता है कि प्रत्येक दिन विद्युत दुर्घटना से लगभग 4 लोगों की जानें पूरे प्रदेश में रोज जा रही यह आकड़े रिपोर्टेड आंकड़े हैं वैसे क्या हाल होगा भगवान ही मालिक।

बढ़ती विद्युत दुघर्टनाओं पर अंकुश लगाने के लिये अनेकों बार मामला आयोग के सामने उठाया है, जिस पर आयोग द्वारा बिजली कम्पनियों को अनेकों बार निर्देश दिये गये। लेकिन स्थिति में सुधार नहीं हो पाया।

ये भी देखें : जानिए क्यों डॉक्टर कभी भी रात में शव का पोस्टमार्टम नहीं करते

प्रदेश में बढ़ती विद्युत दुर्घटनाओं से जहां सैकड़ों व्यक्तियों की जाने जा रही हैं वहीं बड़ी संख्या में बेजुबान जानवर भी मारे जा रहे हैं और साथ ही समय-समय पर किसानों की फसलें भी दुर्घटना में राख हो जाती हैं।

विद्युत सुरक्षा निदेशालय द्वारा जारी यह आंकड़े स्वतः बता रहे हैं कि पिछले 6 वित्तीय वर्षों में 4607 लोगों की मृत्यु हुई, जो अपने आप में चिन्ता का विषय है

विद्युत दूर्घटना का वर्ष घातक विद्युत दुर्घटना मृतक व्यक्तियों की संख्या

2012-13 1048 570

2013-14 1204 611

2014-15 1185 629

2015-16 1352 723

2016-17 1824 958

2018-19 1073 1116

ये भी देखें : धरती के भगवान : महिला को चारपाई पर लेकर आए और हंगामा शुरू कर दिया

वहीं वर्ष 2018-19 में मृत बेजुबान जानवरों पर नजर डालें तो उनकी कुल संख्या लगभग 2094 थी।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story