Top

अभी-अभी पूर्व सीएम अखिलेश के भाई धर्मेन्द्र यादव की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव

समाजवादी पार्टी (सपा) नेता और पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। सपा नेता ने परसों रात में बुखार आने के बाद कोरोना टेस्ट कराया था।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 14 Jun 2020 7:39 AM GMT

अभी-अभी पूर्व सीएम अखिलेश के भाई धर्मेन्द्र यादव की कोरोना रिपोर्ट आई पॉजिटिव
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: समाजवादी पार्टी (सपा) नेता और पूर्व सांसद धर्मेंद्र यादव कोरोना टेस्ट में पॉजिटिव पाए गए हैं। सपा नेता ने परसों रात में बुखार आने के बाद कोरोना टेस्ट कराया था। इसके बाद पॉजिटिव आने पर सैफई अस्पताल में एडमिट कराया गया है।

उधर दिल्ली में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए रविवार को गृहमंत्री अमित शाह ने बैठक बुलाई थी। ये बैठक करीब 1 घंटे 20 मिनट चली। इस हाई लेवल मीटिंग में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन, एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया, दिल्ली के उप राज्यपाल अनिल बैजल सहित गृह मंत्रालय के अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

केजरीवाल सरकार का बड़ा आदेश, कोरोना मरीजों के इलाज पर लिया ये फैसला

बता दें कि गृह मंत्री अमित शाह की यह बैठक इसलिए भी महत्वपूर्ण थी, क्योंकि राजधानी में कोरोना के कारण बिगड़ते हालात के पीछे केंद्र, राज्य और एमसीडी प्रशासन के बीच उचित तालमेल न होने की बातें सामने आती रही हैं।

सूत्रों ने बताया कि मीटिंग में दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने केंद्र के सामने कई मांगें रखी हैं। दिल्ली सरकार चाहती है कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना के लिए क्षमता बढ़ाई जाए। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए सभी अस्पतालों में कोविड मरीजों का इलाज होना चाहिए।

दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से कहा कि प्राइवेट अस्पतालों पर कैपिंग रेट लागू किया जाए। प्राइवेट लैब्स में भी कोरोना टेस्ट किया जाए जहां जांच की कीमत किफायती रखी जाए। कोरोना टेस्ट भी अन्य बीमारियों में होने वाले टेस्ट की तरह ही होना चाहिए और रिपोर्ट आसानी से मिलनी चाहिए।

इस राज्य में कम हो रहे कोरोना के मामले, जंग में सबसे आगे, जानें वजह

विधायक कुणाल चौधरी की कोरोना रिपोर्ट

उधर कांग्रेस विधायक कुणाल चौधरी की कोरोना रिपोर्ट आने के बाद हड़कंप मच गया। उनमे कोविड 19 की पुष्टि हुई है। कोरोना के लक्षण दिखने के बाद उन्होंने 10 जून को भोपाल एम्स में कोरोना की जांच करवाई थी। जांच रिपोर्ट आई तो होश उड़ गए।

जानकारी होते ही जिला प्रशासन ने विधायक के सम्पर्क में आये लोगों की सूची तैयार करने शुरू कर दी। वहीं परिवार समेत करीबियों की जांच और क्वारंटाइन की व्यवस्था की।

कोरोना वायरस पर नई शोध में खुलासा, जानिए क्या कहती है ये रिपोर्ट

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story