‘एक के बाद एक बैंक होंगे बंद’, संजय सिंह ने BJP सरकार पर बोला हमला

दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने एनपीआर के खिलाफ प्रस्ताव पास कर दिया है। वहीं आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा है कि एनपीआर एनआरसी को लागू करने की दिशा में पहला कदम है।

लखनऊ: दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने एनपीआर के खिलाफ प्रस्ताव पास कर दिया है। वहीं आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने कहा है कि एनपीआर एनआरसी को लागू करने की दिशा में पहला कदम है। इस जनसंवाद अभियान में शामिल होने के लिए लखनऊ पहुंचे आप के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने पेंस कांफ्रेंस कर ये बातें कहीं।

संजय सिंह ने कहा कि एनआरसी लागू होने से मुस्लिमों से ज्यादा हिंदुओं को नुकसान होगा। उन्होंने कहा कि इससे सबसे ज्यादा नुकसान अपना राज्य छोड़कर अन्य राज्यों में जा बसे पूर्वांचलियों को होगा। संजय सिंह का कहना है कि असम में जो एनआरसी कराई गई है उसमें से लगभग 3 लाख पूर्वांचली बाहर हुए हैं।

यह भी पढ़ें…कोरोना वायरस: अब तक का सबसे बड़ा खुलासा, दुनिया से ये झूठ बोल रहा चीन

आप के सांसद ने कहा कि असम में एनआरसी के बाद 19 लाख लोग बाहर किए गए। जिसमें से 14 लाख हिंदू है और 5 लाख मुस्लिम। 14 लाख हिंदुओं में से करीब 3 लाख लोग पूर्वांचली है जो बिहार, झारखंड, यूपी से जाकर वहां बसे हैं। अब उनके पास न तो असम के कागजात हैं और न ही अपने राज्यों के। ऐसे में वो लोग अपने ही देश में विदेशी साबित हो रहे हैं। जो पूर्वांचली एनआरसी से बाहर हुए हैं उनके वीडियों सामने आ रहे हैं।

यह भी पढ़ें…सपा की कार्यकारिणी बैठक: BJP के खिलाफ हल्लाबोल, यूपी को बताया हत्या प्रदेश 

इसके साथ ही उन्होंने आरोप लगाया कि असम के डिटेंशन सेंटर में 29 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने कहा है कि मैं पूछना चाहता हूं कि हम किस ओर बढ़ रहे हैं? उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी (आप) का सदयस्ता अभियान 23 मार्च तक चलेगा। अब तक लगभग यूपी में 5 लाख सदस्य बन चुके हैं। उन्होंने कहा कि  तीन महीने तक जनसंवाद अभियान यूपी में करेंगे। जनसंवाद के माध्यम से यूपी की जनता को सरकार की खामियों के बारे में बताएंगे।

यह भी पढ़ें…अंकित शर्मा पर चाकूओं से हुआ इतनी बार हमला, पोस्टमॉर्टम में चौंकाने वाले खुलासे

संजय सिंह ने कहा कि बीजेपी सुनियोजित तरीके से हिन्दू मुस्लिम की राजनीति कर रही है।  दिल्ली में हुए हिंसक प्रदर्शन में जो भी दोषी पाया जाए उसका नार्को टेस्ट कराया जाए। यूपी में कानून व्यवस्था की स्थिति बहुत खराब है और आज यूपी में कंडीशन ये है कि आम व्यक्ति घर में पैसा नही रख सकता।  हिंदुस्तान की तमाम बैंके अभी डूबेंगे। देश के तमाम पूंजीपतियों ने बैंकों से साढ़े दस लाख का कर्जा ले रखा है। देश के बैंक खाली हो चुके हैं और एक के बाद एक बैंक होंगे बंद। आज बैंकों का संकट सबसे बड़ा संकट है।