हजारों यात्रियों को लेकर यहां पहुंची स्पेशल ट्रेन, थर्मल स्क्रीनिंग के बाद सभी को किया रवाना

गुजरात के बड़ोदरा से श्रमिक स्पेशल ट्रेन उत्तर प्रदेश के 58 जिलों के कुल 1815 महिला, पुरुष, बच्चों व बुजुर्गों को लेकर इत्रनगरी (कन्नौज) पहुंची।

कन्नौज: गुजरात के बड़ोदरा से श्रमिक स्पेशल ट्रेन उत्तर प्रदेश के 58 जिलों के कुल 1815 महिला, पुरुष, बच्चों व बुजुर्गों को लेकर इत्रनगरी (कन्नौज) पहुंची। इन सभी की रेलवे स्टेशन पर थर्मल स्क्रीनिंग हुई, जिसमें सभी स्वस्थ मिले। जांच के बाद सभी को रोडवेज बसों से अपने-अपने जिलों को रवाना कर दिया गया।

ये भी पढ़ें: चीन को झटका देने की तैयारी में योगी सरकार, निवेशकों को ऐसे करेगी आकर्षित

गुरुवार को सुबह कन्नौज आई श्रमिक स्पेशल ट्रेन से पहले जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र व पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह ने स्टेशन के बाहर व अंदर तैयारियों को लेकर मुआयना किया। करीब डेढ़ घंटे तक रुकी ट्रेन से यात्रियों के उतरने के बाद गाड़ी वापस लौट गई।

स्टेशन अधीक्षक को प्रवासीय व्यक्तियों के लिए किए गए प्रबंध व फिजिकल डिस्टेंसिंग बनाए रखने को लेकर नियमित रूप से लाउडस्पीकर पर बोला गया। बाहर कोतवाली सदर पुलिस ने भी एनाउंस किया। रोडवेज बसों में बैठने के बाद सभी यात्रियों को भोजन व पानी की बोतल दी गई। कई विभागों के अधिकारी व कर्मचारियों ने व्यवस्था संभाली। जिलों को जाने वाली बसों में नंबर व जिलों का नाम लिखा था, उसके बारे में यात्रियों को बताया भी गया।

ये भी पढ़ें: सर्च ऑपरेशन शुरू: सेना ने चलाई दनादन गोलियां, आतंकियों की हालत खराब

58 जिलों के लिए 50 बसें लगाई गईं

कन्नौज से उत्तर प्रदेश के 58 जिलों के लिए रोडवेज की 50 बसें लगाई गई थीं। इसमें फर्रुखाबाद के 380 बलरामपुर के 60, मैनपुरी के 27, कासगंज के 127, रायबरेली के 115, जौनपुर के 67, मऊ के छह, आजमगढ़ के 10, बलिया के चार, बहराइच के 38, सिद्धार्थनगर के 29, देवरिया के 23, एटा के 27, अंबेडकरनगर के 23, शाहजहांपुर के 100, बदायूं के 68, अमरोहा के तीन, प्रतापगढ़ के 50, गोरखपुर के 120, चंदौली के 13, वाराणसी के दो, भदोही के दो, हरदोई का एक, गाजीपुर के 16, खीरी का एक, सीतापुर के दो, इलाहाबाद के 20, मिर्जापुर के तीन, सोनभद्र के नौ, इटावा के 22, आगरा के आठ, फिरोजाबाद के आठ, रामपुर छह, मुरादाबाद के 15, बिजनौर के 35, पीलीभीत के आठ, बरेली के पांच, बस्ती के 15, कुशीनगर का एक, औरैया के पांच, जालौन के 23, बांदा के चार, बाराबंकी के तीन, लखनऊ के छह, फैजाबाद के 25, मेरठ व बागपत के तीन-तीन, बुलंदशहर के आठ, अलीगढ़ के दो, सहारनपुर के 11, मुजफ्फरनगर के चार, शामली का एक, कानपुर के 11, उन्नाव के 61, सुल्तानपुर के दो, अमेठी के चार, कन्नौज 100 व हमीरपुर के तीन कुल 1748 लोग आए। इन लोगों की गोद में बच्चे भी थे, तो संख्या 1815 हो गए।

ये भी पढ़ें: भाई को मरते देख नदी में कूदा युवक, लेकिन परिवार में छाया मातम

1815 लोगों की हुई थर्मल स्क्रीनिंग

डीएम ने बताया कि पहले 1517 लोगों के आने की लिस्ट आई थी। जो भी लोग आए हैं उनके साथ छोटे-बड़े बच्चे भी हैं। कुल 1815 लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग हुई है। जिलों की संख्या भी बढ़ी है। डीएम ने यह भी बताया कि जो भी लोग इन दिनों जीटी रोड, एक्सप्रेस-वे व अन्य रास्तों से पैदल जा रहे हैं, उनको बसों से मूल जनपद भिजवाया जा रहा है। निर्देश भी दिए हैं कि सम्बंधित अधिकारी निगाह भी रखें।

…तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी

डीएम ने कहा कि किसी भी दशा में बिना बताए बाहर से आने वाले व्यक्तियों तो अपने घरों में रुकने न दें। यदि किसी भी दशा में यदि कोई व्यक्ति बिना बताए ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों में आता है तो उसकी सूचना तत्काल संबंधित ब्लॉक एवं नगर पालिका, पुलिस स्टेशन, संबंधित तहसील व ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रों मैं बनाई गई निगरानी समिति को अवश्य दें। ऐसा न करने पर संबंधित के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

सभी को जागरूक करने को कहा

उन्होंने सभी नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्रों में भी बनाई गई निगरानी समिति को गांव एवं शहर के नागरिकों को कोविड-19 महामारी के संबंध में जागरुकता लाने एवं बाहर से आने वाले व्यक्तियों से कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने के संबंध में सभी को जागरूक करने को कहा।

21 दिनों के लिए होम क्वारंटीन

साथ ही सम्बंधित व्यक्ति की नियमित जांच के बाद ही अनिवार्य रूप से 21 दिनों के लिए होम क्वारंटीन करने को कहा। डीएम ने यह भी कहा कि भविष्य में यदि किसी व्यक्ति के बाहर घूमने की सूचना मिलती है, तो संबंधित स्थल की निगरानी समितियां भी दोषी मानी जाएंगी।

इस मौके पर अपर जिलाधिकारी (वित्त एवं राजस्व) गजेंद्र कुमार, अपर पुलिस अधीक्षक विनोद कुमार, उपजिलाधिकारी सदर शैलेष कुमार, छिबरामऊ गौरव शुक्ल, तिर्वा जयकरन, क्षेत्राधिकारी सिटी श्रीकांत प्रजापति, डीआईओएस राजेंद्र बाबू, बीएसए केके ओझा, डीपीआरओ जेके मिश्र, महिला थाना इंस्पेक्टर पूनम अवस्थी, मुख्य चिकित्सा अधीक्षक, रेलवे स्टेशन अधीक्षक, स्टेशन मास्टर, कमांडेंट आरपीएफ, इंस्पेक्टर नागेंद्र पाठक एवं अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन में अपराधियों को भी राहत, अब नहीं जाना पड़ेगा जेल

रिपोर्ट: अजय मिश्रा

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App