बेअंदाज विधायक का ये सम्मानः प्रदेश अध्यक्ष ने बरसाए फूल, वीडियो वायरल

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वायरल वीडियो में प्रदेश अध्यक्ष सिंह भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह पर फूल बरसाते नजर आ रहे हैं।

Swatantra Dev Singh

भाजपा विधायक पर फूल बरसाया स्वतंत्र देव सिंह ने (फोटो- सोशल मीडिया)

बलिया: भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वायरल वीडियो में प्रदेश अध्यक्ष सिंह भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह पर फूल बरसाते नजर आ रहे हैं । भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है । यह वीडियो जिले के सिकंदरपुर क्षेत्र के कठौड़ा ग्राम में कल आयोजित कार्यक्रम का है। प्रदेश अध्यक्ष सिंह कल श्री कृष्ण मंदिर का शिलान्यास व भूमि पूजन कार्यक्रम में शिरकत करने आये थे।

वायरल वीडियो में प्रदेश अध्यक्ष श्री सिंह भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह के बगल में बैठे दिखाई दे रहे हैं । वायरल वीडियो में प्रदेश अध्यक्ष भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह पर फूल बरसाते नजर आ रहे हैं । फूल बरसने से प्रफुल्लित भाजपा विधायक सिंह हाथ जोड़कर भाजपा विधायक को प्रणाम करते वीडियो में दिखाई दे रहे हैं । इस वीडियो के वायरल होने के बाद राजनैतिक गहमागहमी बढ़ गई है । भाजपा के सलेमपुर के सांसद रवींद्र कुशवाहा इस कार्यक्रम में मौजूद थे ।

Swatantra Dev Singh
(फोटो- सोशल मीडिया)

एक साथ मंच पर बैठे थे प्रदेश अध्यक्ष और भाजपा विधायक

प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह द्वारा विधायक सुरेंद्र सिंह पर फूल बरसाने के मसले पर पूछे जाने पर उन्होंने स्वीकार किया कि प्रदेश अध्यक्ष भाजपा विधायक एक साथ मंच पर बैठे थे । प्रदेश अध्यक्ष जी ने भाजपा विधायक पर पुष्प वर्षा क्यों की , इसका सही जबाब प्रदेश अध्यक्ष जी ही दे सकते हैं । उन्होंने इसके साथ ही कहा कि भाजपा विधायक का मसला प्रदेश नेतृत्व के संज्ञान में है । पार्टी नेतृत्व को ही इसपर निर्णय लेना है । भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा के निर्देश के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने पिछले दिनों भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह को नोटिस जारी कर एक सप्ताह में जबाब देने को कहा था।

यह भी पढ़ें: खतरे में अमेरिकी दूतावास: कभी भी हो सकता है हमला, जारी किया गया हाई अलर्ट

विधायक सुरेंद्र सिंह के तेवर नरम नहीं

जिले के रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर ग्राम में गत 15 अक्टूबर को सरकारी सस्ते गल्ले की दुकान के आवंटन के दौरान जय प्रकाश पाल गामा की हत्या के मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह का भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह द्वारा खुलकर बचाव करने को लेकर भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा ने नाराजगी जताई थी । अलबत्ता नोटिस जारी होने के बाद भी भाजपा के बैरिया क्षेत्र के विधायक सुरेंद्र सिंह के तेवर नरम नहीं हुए हैं । उन्होंने गत 22 अक्टूबर को अपने आवास पर संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा कि जय प्रकाश पाल गामा अपराधी था। उसके विरुद्ध ट्रेन डकैती समेत चार मुकदमे दर्ज थे।

surendra singh
(फोटो- सोशल मीडिया)

 

गामा ने अपने गांव के त्रिलोकी नाथ तिवारी की भूमि पर जबर्दस्ती कब्जा कर लिया था तथा प्रतिरोध करने पर त्रिलोकी नाथ तिवारी पर जान लेने की नीयत से हमला किया था । उन्होंने इसके साथ ही कहा था कि एक सैनिक के हाथों अपराधी की मौत हुई है । भाजपा विधायक ने इसके साथ ही दावा किया था कि पार्टी उनके कदम में उनके साथ है । उन्होंने कहा था  पिछले दिनों दल के वरिष्ठ नेताओं से उनकी मुलाकात हुई है । सभी नेताओं ने उनसे कहा कि उनका कदम सही है।

यह भी पढ़ें: झारखंड उपचुनावः चाय की चुस्की लेे रहे CM सोरेन, पारा मिलिट्री की मांग कर रही BJP

धीरेंद्र प्रताप सिंह से गलती हुई, लेकिन वह अपराधी नहीं

उन्होंने कहा था कि शीर्ष नेतृत्व से बात कर लिया हूँ , दूसरे पक्ष को न्याय दिलाना है। यह पूछे जाने पर कि जब पार्टी नेतृत्व कदम को सही ठहरा रहा है तो फिर नोटिस जारी क्यों किया , उन्होंने कहा था कि यह परम्परा है। उन्होंने मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह का एक बार फिर बचाव करते हुए कहा कि धीरेंद्र प्रताप सिंह से गलती हुई है , लेकिन वह अपराधी नहीं है। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि कार्यकर्ताओं के मान सम्मान के लिए वह अपना जीवन त्याग करने को तैयार हैं ।

भाजपा विधायक कहते हैं कि आम लोग उनके समर्थन में हैं । वह कहते हैं कि वह वाराणसी ट्रामा सेंटर में घायलों को देखने गये , उनके आने की खबर पर हजार लोग जुट गये । बलिया जिले के रसड़ा में उनका अभूतपूर्व स्वागत किया गया । उनके निवास पर भारी संख्या में लोग उमड़ रहे हैं तथा उनके कदम में सहयोगी होने का भरोसा दिला रहे हैं । भाजपा विधायक ने सोशल नेटवर्किंग साइट्स फेसबुक पर पोस्ट कर अपने कदम का सार्वजनिक रूप से भी इजहार कर दिया ।

उन्होंने लिखा ‘ विपत्ति काल में अपने सहयोगी, संबंधी,भाई और कार्यकर्ताओं को छोड़ना महा पाप होता है । इसलिए हमने अपने धर्म का निर्वहन किया है और करता रहूंगा ,चाहे इसके लिए मुझे कोई भी कठिनाई का सामना करना पड़े ,वो मुझे सहर्ष स्वीकार होगा ‘। भाजपा विधायक श्री सिंह के पुत्र विद्या भूषण सिंह हजारी ने भी अपने पिता के सुर में सुर मिलाते हुए फेसबुक पर पोस्ट किया ‘ जिन नेताओं को पद से प्यार है डरते रहे, हमें अपने कार्यकर्त्ताओं का सम्मान एवं प्रतिष्ठा ही प्यारी है। सत्य पराजित नहीं हो सकता।’

यह भी पढ़ें: चीन की बिकाऊ मीडिया! जिनपिंग सरकार का पूरा कब्जा, ऐसे होता है इस्तेमाल

सुरेंद्र सिंह भाजपा के इशारे पर बयानबाजी कर रहे

भाजपा के पूर्व सहयोगी योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कल आरोप लगाया कि भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह भाजपा के इशारे पर बयानबाजी कर रहे हैं । उन्होंने भाजपा विधायक पर बेतुके बयानबाजी के जरिये जातीय उन्माद फैलाने का आरोप लगाया । हालांकि भाजपा सांसद रवींद्र कुशवाहा ओम प्रकाश राजभर के आरोप को खारिज करते हुए कहते हैं कि जातीय राजनीति करने वाले ओम प्रकाश राजभर का बयान हास्यास्पद है । वह केवल राजभरों की आड़ में ठगी का काम करते हैं ।

इस बीच जिले के दुर्जनपुर ग्राम में पिछले दिनों सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के आवंटन के दौरान हुए हिंसक झड़प के मामले में दूसरे पक्ष के प्रार्थना पत्र पर आज 21 व्यक्तियों के विरुद्ध नामजद व 30 अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज हो गया । मुकदमे में आवंटन के दौरान मारे गए जय प्रकाश पाल को भी आरोपी बनाया गया है।

रेवती थाना के प्रभारी प्रवीण सिंह ने बताया कि अपर सिविल जज , जूनियर डिवीजन , चतुर्थ न्यायालय अविनाश कुमार मिश्र द्वारा रेवती थाना क्षेत्र के दुर्जनपुर ग्राम की आशा प्रताप सिंह के कल प्रार्थना पत्र पर दिये गये आदेश के परिप्रेक्ष्य में आज रेवती थाना में भारतीय दंड विधान की बलवा , धारदार हथियार से संगठित होकर हमला , जान लेने की नीयत से हमला , गम्भीर रूप से घायल करना , पथराव , अपशब्द देना व जान से मारने की धमकी देना के आरोप की धारा के साथ ही क्रिमिनल ला एमेंडमेंट एक्ट की धारा 7 में 21 व्यक्तियों के विरुद्ध नामजद व 30 अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया गया है । उन्होंने जानकारी दी कि मुकदमे के नामजद आरोपी में जय प्रकाश पाल का भी नाम है।

यह भी पढ़ें: एनेक्सी पर बवालः हादसे से गुस्साई भीड़, सरकारी गाड़ियों में तोड़ फोड़ जारी

दुकान के आवंटन के दौरान हुई थी जय प्रकाश पाल की हत्या

जय प्रकाश पाल की गत 15 अक्टूबर को दुर्जनपुर ग्राम में सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के आवंटन के दौरान हत्या हो गई थी । उन्होंने बताया कि पुलिस मुकदमा दर्ज कर मामले की छानबीन कर रही है । मुकदमे की वादिनी आशा प्रताप सिंह जय प्रकाश पाल की हत्या के मामले में मुख्य आरोपी धीरेंद्र प्रताप सिंह की भाभी हैं । उल्लेखनीय है कि अपर सिविल जज अविनाश कुमार मिश्र ने दण्ड प्रक्रिया संहिता की धारा 156 ( 3 ) के अंतर्गत आशा प्रताप सिंह द्वारा दिये गए प्रार्थना पत्र को स्वीकार करते हुए कल रेवती थानाध्यक्ष को प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कर नियमानुसार विवेचना करने का आदेश दिया था ।

आशा प्रताप सिंह ने प्रार्थना पत्र में कहा है कि गत 15 अक्टूबर को दुर्जनपुर ग्राम के सरकारी सस्ते गल्ले के दुकान के आवंटन के लिये खुली बैठक हो रही थी । उप जिलाधिकारी द्वारा बैठक निरस्त कर देने के बाद उनके पक्ष के सभी लोग अपने घर जा रहे थे कि पुरानी रंजिश को लेकर गोलबंद होकर लाठी डंडे , हाकी , लोहे की राड व नाजायज असलहा से लैस होकर जान लेने की नीयत से हमला कर दिया गया , जिसमें धीरेंद्र प्रताप सिंह सहित आठ लोग घायल हो गए ।

अनूप कुमार हेमकर

यह भी पढ़ें: बिहार में ही कोरोना वैक्सीन फ्री क्यों, बाकी राज्य PAK में हैं या पुतिन देंगे?: शिवसेना

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App