दुल्हन की तरह सजाया गया विधानभवन, 16 से होने जा रहा है ये कार्यक्रम

दो दिवसीय कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन (सीपीए) सम्मेलन के लिए विधानभवन को दुल्हन की तरह सजाया गया है। 16 एवं 17 जनवरी को होने वाले सम्मेलन केंद्र…

लखनऊ।  दो दिवसीय कामनवेल्थ पार्लियामेंट्री एसोसिएशन (सीपीए) सम्मेलन के लिए विधानभवन को दुल्हन की तरह सजाया गया है। 16 एवं 17 जनवरी को होने वाले सम्मेलन केंद्र सरकार के कई केंद्रीय मंत्रियों को आमंत्रित किया गया है। सीपीए के अध्यक्ष के साथ उनके सचिवालय के प्रतिनिधि भी शिरकत करेंगे। सीपीए पार्लियामेंटरी संस्थाओं का अंतर्राष्ट्रीय संघ है तथा वर्तमान में सीपीए संगठन में 53 देश व उसके 193 राज्य शामिल हैं।

सभी राज्यों के विधानसभा व विधान परिषद  के अध्यक्ष शामिल होंगे

इस आयोजन में ब्रिटेन, कनाडा, आस्ट्रेलिया, यूगांडा समेत कई देशों के स्पीकर और वहां के राज्यों के विधानमंडलों के अध्यक्ष व सभापति भी शामिल होंगे। भारत के सभी राज्यों के विधानसभा के अध्यक्ष व विधान परिषद के सभापति इस सीपीए के सदस्य हैं। ये सब भी इस आयोजन में शामिल होंगे।

 

ये भी पढ़ें-यूपी में विमुक्ति जनजाति आयोग का गठन होगा

कॉमनवेल्थ पार्लियामेन्ट्री एसोशिएशन (सीपीए) के लिए उत्तर प्रदेश के विधान भवन को दुल्हन की तरह से सजाया गया है। विधान भवन के सामने से गुजरने वाले मुख्य मार्ग से ही इस सजावट को देखा जा सकता है। विधान भवन के लोक भवन के सामने स्थित एक नंबर गेट के अन्दर लगी चैधरी चरण सिंह की प्रतिमा के दोनों और विशेष पंडाल लगाए गए हैं।

गैलरी में एक विशाल चित्र प्रदर्शनी भी लगाई गयी है

सम्मेलन में शामिल होने वाले प्रतिनिधियों के लिए भोजन आदि की व्यवस्था होगी। मुख्यद्वार के अंदर बाहर और अंदर के हिस्सों को भी फूलों और गुलदस्तों से विशेष अंदाज में सजाया गया है। विधान मंडल की गैलरी में एक विशाल चित्र प्रदर्शनी भी लगाई गयी है।

इस आयोजन में मुख्य सम्मलेन सत्र केवल 16 और 17 तारीख को ही होना है। 15 जनवरी को सीपीए में भाग लेने वाले प्रतिनिधिगण लखनऊ पहुंचेंगे। इसी दिन शाम को 5 बजे सीपीए के भारतीय परिक्षेत्र की कार्यकारी समिति की बैठक होगी। बैठक के बाद 8 बजे से पास ही मौजूद होटल रेनेसां में अतिथियों को विधानसभा अध्यक्ष द्वारा डिनर दिया जाएगा।

मुख्य सम्मलेन विधान सभा सदन में होगा

ये भी पढ़ें-काशी में गूंजेंगी गीत रामाणय की स्वलहरियां, CM योगी और देवेंद्र फडनवीस करेंगे शिरकत

दूसरे दिन 16 जनवरी को लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला राष्ट्रमंडल संसदीय संघ के भारत प्रक्षेत्र के इस सम्मेलन का आधिकारिक उद्घाटन करेंगे। लोकसभा अध्यक्ष के अलावा राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शिरकत करेंगे। राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश के भी उपस्थित रहने की संभावना है। मुख्य सम्मलेन विधान सभा सदन में होगा।

पहले दिन उदघाटन स्तर के बाद एक प्लेनरी सेशन बजटीय प्रस्तावों के पुनरीक्षण के लिए विधायकों का क्षमता निर्माणष् आयोजित होगा। इसी प्रकार दूसरे दिन का प्लेनरी सेशन ष् विधायी व्यवसाय पर विधायकों का ध्यान केंद्रित करने में वृद्धिष् आयोजित होगा। इसमें राष्ट्रमंडल देशों के भारतीय परिक्षेत्र के स्पीकर व पीठासीन अधिकारी शामिल होंगे।

उप्र विधान मंडल के दोनों सदनों के सदस्यों को भी आमंत्रण भेजा गया है

ये भी पढ़ें-CWC में सोनिया का मोदी सरकार पर हमला, कहा- धर्म के आधार पर बांटता है CAA

जानकारी के अनुसार देश के सभी राज्यों की विधानसभाओं के अध्यक्ष व विधान परिषदों के सभापति के साथ राष्ट्रमंडल देशों के सभी सात क्षेत्रीय समितियों के दो से तीन संसदीय प्रतिनिधि सम्मलेन में रहेंगे। इसके अलावा लोकसभा व राज्यसभा के 25 -25 सदस्य भी हिस्सा लेंगे। सम्मेलन में भाग लेने के लिए उप्र विधान मंडल के दोनों सदनों के सदस्यों को भी आमंत्रण भेजा गया है।

 

इस सम्मेलन में संसदीय परंपराओं, मुद्दों व सदन चलाने के नियमों पर भी चर्चा होगी। सम्मेलन में संसदीय प्रणाली के विभिन्न मुद्दों पर विचार.विमर्श किया जाएगा। उत्तर प्रदेश को इस आयोजन का पहली बार मौका मिला है। इस मौके पर यूपी की संसदीय परंपराओं व राज्य की प्रगति के बारे में भी बताया जाएगा।