×

यूनिवर्सिटी के अंदर आतंकी ने 40 से अधिक लोगों पर बरसाई थी गोलियां, अरेस्ट

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति ने कहा कि आदिल पिछले तीन साल से गायब चल रहा था और यह अफवाह थी कि वह पढ़ाई के लिए विदेश गया था। उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने हमले को अंजाम दिया है उनकी कई पहचानें हैं

Newstrack
Updated on: 14 Nov 2020 10:58 AM GMT
यूनिवर्सिटी के अंदर आतंकी ने 40 से अधिक लोगों पर बरसाई थी गोलियां, अरेस्ट
X
काबुल के अंदर सुरक्षा बढ़ा दी गई है और शहर के अंदर हर जगह सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जा रही है। लोगों से अफवाहों से बचने के लिए कहा गया है। 
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

काबुल: इस वक्त की बड़ी खबर काबुल से आ रही है। पुलिस ने काबुल यूनिवर्सिटी में हुए घातक हमले के पीछे का मास्टरमाइंड को दबोच लिया है। ये जानकारी अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति अमरुल्लाह सालेह ने दी।

उन्होंने फेसबुक पर पोस्ट करके इस बात की पुष्टि की। साथ ही ये बताया कि काबुल यूनिवर्सिटी पर हुए घातक हमले के पीछे का मास्टरमाइंड जिसने कम से कम 22 लोगों की हत्या की थी उसे अरेस्ट कर लिया गया है।

पकड़ा गया संदिग्ध अपराधी पंजशीर प्रांत का रहने वाला है और उसका नाम आदिल है। उसकी भर्ती हक्कानी नेटवर्क के आतंकी समूह में की गई थी।

blast ब्लास्ट (फोटो: सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें: बिकरू कांडः SSP अनंत देव निलंबित, दिनेश पी को नोटिस, SIT रिपोर्ट पर एक्शन

संदिग्ध युवक ने कबूला अपना जुर्म

सालेह ने ये भी बताया कि पकड़े गये संदिग्ध युवक ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया है। उसने बताया कि उसे अफगान सरकार पर दबाव डालने वाली गतिविधियों को अंजाम देने के लिए भेजा गया था।

काबुल यूनिवर्सिटी पर हुए हमले की जिम्मेदारी आइएस ने ली है, लेकिन अफगान सरकार ने हमले के लिए तालिबान पर आरोप लगाया है। हालांकि, तालिबान ने हमले में शामिल होने से की बात से साफ़ –साफ़ इंकार किया है।

याद दिला दें कि इस हमले में 22 लोग मारे गए थे जिसमें से 18 पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन स्कूल और लॉ फैकल्टी के छात्र थे। जबकि 40 अन्य घायल हो गए थे।

ये भी पढ़ें: नीतीश का बड़ा हमलाः चिराग पर कार्रवाई की बीजेपी को चुनौती

terrorist यूनिवर्सिटी के अंदर आतंकी ने 40 से अधिक लोगों पर बरसाई थी गोलियां, अरेस्ट (फोटो:सोशल मीडिया)

पकड़ा गया आरोपी तीन साल से लापता चल रहा था

अफगानिस्तान के उपराष्ट्रपति ने कहा कि आदिल पिछले तीन साल से गायब चल रहा था और यह अफवाह थी कि वह पढ़ाई के लिए विदेश गया था।

उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने हमले को अंजाम दिया है उनकी कई पहचानें हैं क्योंकि कभी-कभी वे खुद को हिजबुल तहरीर, या तालिबान और इस्लामिक स्टेट (IS) से खुद को जोड़ते हैं।

काबुल के अंदर सुरक्षा बढ़ा दी गई है और शहर के अंदर हर जगह सीसीटीवी कैमरों से नजर रखी जा रही है। लोगों से अफवाहों से बचने के लिए कहा गया है। चप्पे-चप्पे परसुरक्षा कर्मी तैनात हैं।

ये भी पढ़ें: दिवाली पर योगी जंगल में करेंगे मंगलः तीन घंटे वनटांगियों के बीच होंगे खास

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

Newstrack

Newstrack

Next Story