×

ट्रंप की बढ़ीं मुश्किलें: खुद की पार्टी से टूटा नाता, चुनावी रेस में भी पीछे

अमेरिकी राष्ट्रपति की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। दरअसल, उनकी पार्टी के ही कई नेताओं ने उनका समर्थन ना करने की बात कही है। इसके अलावा हाल के सर्वे में भी ट्रंप पिछड़ते हुए नजर आए।

Shreya
Updated on: 9 Jun 2020 10:10 AM GMT
ट्रंप की बढ़ीं मुश्किलें: खुद की पार्टी से टूटा नाता, चुनावी रेस में भी पीछे
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

वॉशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति की मुश्किलें बढ़ती हुई नजर आ रही हैं। दरअसल, उनकी पार्टी के ही कई नेताओं ने उनका समर्थन ना करने की बात कही है। इसके अलावा हाल के सर्वे में भी ट्रंप पिछड़ते हुए नजर आए। अमेरिका में चुनावी रेस में डेमोक्रेडिट पार्टी के उम्मीदवार जो बिडेन ट्रंप से आगे निकल गए हैं। बता दें कि अमेरिका में नवंबर 2020 में राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव होने वाले हैं।

यह भी पढ़ें: सीएम योगी का बड़ा बयान, कोरोना पर मिली सफलता पर सतर्कता जरूरी

खुद की पार्टी के नेता नहीं देंगे साथ

अमेरिका में चुनाव नजदीक हैं और इधर, ट्रंप की पार्टी रिपब्लिकन के ही कई नेता ने ये एलान कर दिया है कि वे ट्रंप का समर्थन नहीं करेंगे। साथ ही चुनावी रेस में भी ट्रंप पिछड़ गए हैं। फिलहाल ट्रंप अमेरिका में एक साथ कई मुश्किलों का सामना कर रहे हैं।

इस वजह से भी झेलनी पड़ी आलोचना

दुनियाभर में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाला देश अमेरिका है। उसने कोरोना वायरस के चलते सबसे अधिक तबाही झेली है। वहीं दूसरी ओर अमेरिका में एक अश्वेत नागरिक की पुलिस की निगरानी में मौत होने के बाद देश में बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन किया जाने लगा। इसमें ट्रंप को भी आलोचना का सामना करना पड़ा है।

यह भी पढ़ें: IIT छात्रों का कामल: बना डाला पोर्टेबेल वेंटीलेटर, कीमत जान कर दंग रह जाएंगे

अप्रूवल रेटिंग सात पॉइंट नीचे गिरी

अमेरिका के प्रमुख टीवी चैनल CNN पर सोमवार को दिखाए गए पोल के मुताबिक, पिछले महीने की तुलना में इस बार डोनाल्ड ट्रंप की अप्रूवल रेटिंग 7 पॉइंट गिर गई है। ट्रंप के खिलाफ अमेरिका में लगातार प्रदर्शन भी किए जा रहे हैं। पोल के मुताबिक, अमेरिका में अब बड़ी संख्या में लोग नस्लवाद को समस्या मानते हैं और ये संकेत ट्रंप को नुकसान पहुंचा सकता है।

केवल इतने लोगों ने ही काम का किया समर्थन

पोल में केवल 38 फीसदी लोगों ने ही देश के राष्ट्रपति के रूप में डोनाल्ड ट्रंप के काम का समर्थन किया। वहीं 57 फीसदी ने उन्हें खारिज कर दिया है। जनवरी 2019 के बाद से ट्रंप के लिए यह अब तक की सबसे निगेटिव रेटिंग है। इसके अलावा एक अन्य चैनल के पोल में ट्रंप को जो बिडेन से 7 फीसदी पॉइंट पीछे दिखाया गया था। जिसके बाद ट्रंप ने बिडेन की आलोचना करते हुए ट्वीट किया कि वह रेडिकल लेफ्ट कंट्रोल करते हैं।

यह भी पढ़ें: सिंधिया को कोरोना: मां भी हुई संक्रमित, तुरंत कराया गया भर्ती

संविधान से दूर चले गए डोनाल्ड ट्रंप

वहीं ट्रंप के ही पार्टी यानि रिपब्लिकन पार्टी के कई नेता भी नवंबर में होने वाले चुनाव में उनका समर्थन करने से पीछे हट सकते हैं। आजीवन रिपब्लिकन रहे कोलिन पॉवेल ने कहा था कि वे इस साल किसी भी हाल में ट्रंप का समर्थन नहीं दे सकते। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रहे पॉवेल ने कहा कि ट्रंप संविधान से दूर चले गए हैं।

एक रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया था कि रिपब्लिकन और पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश भी इस साल ट्रंप का समर्थन नहीं करेंगे यानी वो ट्रंप को वोट नहीं देंगे। इसकके अलावा भी कई नेता ट्रंप का समर्थन करने से पीछे हट सकते हैं।

यह भी पढ़ें: नई दिल्लीः ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां माधवी राजे कोरोना पॉजिटिव, अस्पताल में भर्ती

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story