आर्मेनिया-अजरबैजान में भीषण युद्ध: अब कूदा ये देश, हुआ ये बड़ा ऐलान

मास्को में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की देखरेख में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों में 10 घंटे बातचीत हुई थी। लावरोव ने कहा कि यह संघर्षविराम विवाद निपटाने के लिए बातचीत का मार्ग खोलेगा।

Armenia-Azerbaijan War

आर्मेनिया-अजरबैजान में भीषण युद्ध: अब कूदा ये देश, हुआ ये बड़ा ऐलान (फोटो: सोशल मीडिया)

लखनऊ: आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच भीषण युद्ध जारी है। लेकिन अब इस बीच एक अच्छी खबर आई है। रूस की कोशिशों को कामयाबी मिली है दोनों देश युद्धविराम पर समहत हो गए हैं। रूस के विदेश मंत्री ने राजधानी मॉस्को में दोनों देशों के बीच युद्धविराम की घोषणा करवाई है। मॉस्को में मुलाकात के बाद आर्मेनिया और अजरबैजान शनिवार दोपहर 12 बजे ये युद्धविराम मानेंगे। दोनों देश एक-दूसरे देश के सैनिकों के शव और युद्धबंदियों को लौटाएंगे। इसके बाद आर्मेनिया-अजरबैजान के बीच बातचीत फिर से शुरू की जाएगी।

इस ऐलान से पहले मास्को में रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव की देखरेख में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों में 10 घंटे बातचीत हुई थी। लावरोव ने कहा कि यह संघर्षविराम विवाद निपटाने के लिए बातचीत का मार्ग खोलेगा।

27 सितंबर से शुरू है जंग

आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच 27 सितंबर से भीषण शुरू हुआ है। ये युद्ध 4400 वर्गकिलोमीटर के नागरनो-काराबख इलाके पर कब्जे को लेकर हो रहा है। दोनों देशों के सैनिक मारे गए हैं, टैंक, ड्रोन और हेलिकॉप्टर्स को भी नुकसान पहुंचा है। दोनों देशों ने एक दूसरे पर टैंकों, तोप और फाइटर जेट से हमला किया है। इस युद्ध के दौरान खतरनाक हथियारों का इस्तेमाल किया गया है।

Armenia-Azerbaijan War

ये भी पढ़ें…भारत की बड़ी जीत: NAM की बैठक में कश्मीर मसले पर PAK की कर दी बोलती बंद

नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को लेकर विवाद

अर्मीनिया और अजरबैजान पड़ोसी देश हैं। दोनों देशों के बीच ये विवाद 4400 वर्ग किलोमीटर में फैला नागोर्नो-काराबाख क्षेत्र को लेकर है। नागोर्नो-काराबाख इलाका अंतरराष्‍ट्रीय रूप से अजरबैजान का हिस्‍सा है, लेकिन इस पर आर्मेनिया के जातीय गुटों का कब्‍जा है। 1991 में इस इलाके के लोगों ने खुद को अजरबैजान से स्वतंत्रता का ऐलान करते हुए आर्मेनिया का हिस्सा घोषित कर दिया। इसी बात को लेकर दोनों देशों में पहले भी लड़ाई हुई है। लेकिन पहली बार इतना भीषण जंग हुई है।

ये भी पढ़ें…भारत-इजरायल का कमाल: 1 मिनट में पता चलेगा कोरोना है या नहीं, करना होगा ये काम

2018 में शुरू हुआ था तनाव

इस तनाव की शुरुआत साल 2018 से शुरू हुई थी। दोनों देशों ने सीमा से सटे क्षेत्रों में अपनी सेनाओं को बढ़ा दिया था। इसके बाद इस तनाव ने जंग का रूप ले लिया। ये दोनों देश कभी सोवियत संघ का हिस्सा थे। दोनों देश ईरान और तुर्की के बीच में पड़ते हैं। इस युद्ध में सनैकिों समेत सैकड़ों लोगों की मौत हुई है।

ये भी पढ़ें…आ रहा चक्रवाती तूफान: इन राज्यों में होगी मूसलाधार बारिश, अलर्ट हुआ जारी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App