×

नोट कर लें समय: पृथ्वी के करीब से गुजरेगा ये विशालकाय एस्टेरॉयड, होगा ऐसा नजारा

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अनुसार, इस विशालकाय एस्टेरॉयड (2001 एफओ32) की खोज बीस साल पहले की गई थी, जिसका व्यास 915 मीटर (तीन हजार फुट) है। 21 मार्च को यहीं Asteroid पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरेगा।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 13 March 2021 8:12 AM GMT

नोट कर लें समय: पृथ्वी के करीब से गुजरेगा ये विशालकाय एस्टेरॉयड, होगा ऐसा नजारा
X
नोट कर लें समय: पृथ्वी के करीब से गुजरेगा ये विशालकाय एस्टेरॉयड, होगा ऐसा नजारा
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: 21 मार्च को एक विशालकाय एस्टेरॉयड (Asteroid) पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरने वाला है। जब ये पृथ्वी के करीब से गुजरेगा तो इसी रफ्तार 1,24000 किलोमीटर प्रति घंटे होगी, जो कि पृथ्वी के करीब से गुजरने वाले अन्य एस्टेरॉयड की तुलना में बहुत अधिक है। हालांकि बताया जा रहा है कि इससे पृथ्वी पर ज्यादा असर नहीं होगा।

बीस साल पहले की गई थी इसकी खोज

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अनुसार, इस विशालकाय एस्टेरॉयड (2001 एफओ32) की खोज बीस साल पहले की गई थी, जिसका व्यास 915 मीटर (तीन हजार फुट) है। 21 मार्च को यहीं Asteroid पृथ्वी के बेहद करीब से गुजरेगा। तब पृथ्वी से इसकी दूरी बीस लाख किलोमीटर होगी, ऐसे में पृथ्वी पर इससे ज्यादा असर नहीं होगा।

यह भी पढ़ें: बम धमाके से दहला अफगानिस्तान: कई लोगों की मौत, चारों तरफ बिखरीं लाशें

EARTH (सांकेतिक फोटो- सोशल मीडिया)

कब गुजरेगा ये पृथ्वी के बगल से

NASA के मुताबिक, यह एस्टेरॉयड सुबह करीब चार बजे के आसपास पृथ्वी के बगल से गुजरने वाला है। इसके बाद करीब 21 साल तक यानी 2052 तक ये पृथ्वी के करीब नहीं आएगा। नासा के जेट प्रोपल्शन लैबोरेटरी (जेपीएल) के प्रमुख वैज्ञानिक प्रो. लांस बेनर ने बताया कि फिलहाल इस एस्टेरॉयड के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं है।

यह भी पढ़ें: इटली में कोरोना का तांडव: नई लहर के बाद लॉकडाउन, सरकार ने सब कुछ किया बंद

सुलझ सकते हैं अंतरिक्ष के कई अनसुलझे रहस्य

ऐसा कहा जा रहा है कि इसके करीब आने के दौरान अनुसंधान से अंतरिक्ष के कई अनसुलझे रहस्यों को सुलझाने में सफलता मिल सकती है। नासा के खगोलविदों (Astronomers) की मानें तो इसके आकार व संरचना को लेकर विस्तृत जानकारी उसकी सतह पर पड़ने वाली रोशनी से होगी। जब सूर्य की किरणें एस्टेरॉयड की सतह पर पड़ेगी तो चट्टान चमक उठेंगे। जिसकी मदद से विस्तृत जानकारी जुटाई जा पाएगी।

यह भी पढ़ें: चीन पर बनी रहेगी सख्त निगाहें, क्वाड की बैठक में जो बाइडन दिए संकेत

दोस्तों देश और दुनिया की खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story