आंखों से निकले इश्क का मोती तो हो जाए सतर्क! भयंकर बीमारी का है सकेंत

आंखों से निकले आंसूओं को जो इश्क का मोती समझते थे, तो अब हो जाए सतर्क क्योंकि ये आंख का मोती नही बल्कि हो सकती है भयंकर बीमारी। क्या कभी आपने सुना है कि रोते समय किसी की आँखोें से आंसू की बजाय क्रिस्टल गिरते है? लेकिन आपको दें कि यह कोई फेक खबर नहीं है बल्कि सच वाक्या है।

नई दिल्ली : आंखों से निकले आंसूओं को जो इश्क का मोती समझते थे, तो अब हो जाए सतर्क क्योंकि ये आंख का मोती नही बल्कि हो सकती है भयंकर बीमारी। क्या कभी आपने सुना है कि रोते समय किसी की आँखोें से आंसू की बजाय क्रिस्टल गिरते है? लेकिन आपको दें कि यह कोई फेक खबर नहीं है बल्कि सच वाक्या है। जीं हां आर्मेनिया के स्पेंडरियन की रहने वाली 22 साल की सैटनिक काजारियन जब रोती हैं तो उनकी आंखों से आंसू की बजाय क्रिस्टल निकलते है।

यह भी देखें… पाकिस्तान का झूठ, बालाकोट में टेरर कैंप के फिर सक्रिय होने की रिपोर्टों को नकारा

22 साल की सैटनिक काजारियन की आंखों से रोज आंसू की जगह 50 क्रिस्टल निकलते हैं। महिला की इस बीमारी को डॉक्टर भी नहीं समझ पा रहे हैं। डॉक्टर भी महिला की आंख की जांच में लगे हुए है कि आखिर ऐसी क्या वजह है जो क्रिस्टल निकल रहे हैं।

यह भी देखें… शराब फैक्ट्री के विरोध में मातृ सदन आश्रम, व्यापरियों को GST में बदलाव की जानकारी

इसके साथ ही डॉक्टरों की टीम ये भी पता करने की कोशिश कर रही है कि आंखों से जो क्रिस्‍टल निकल रहे है वो किस चीज से बने हैं। वहीं, सैटनिक यानी पीड़ित महिला का कहना है कि इस बीमारी के कारण उसकी जिंदगी बर्बाद हो चुकी है।

ऐसे करती हैं गुजर-बसर

आइए बताते हैं कि सैटनिक की जिंदगी के बारे में। सैटनिक एक बच्चे की मां हैं। उनका परिवार खेती करके गुजर-बसर कर रहा है। वे बहुत ज्यादा अमीर नहीं है। इस स्थिति में उनका महंगा इलाज करा पाना संभव नहीं है।

उन्‍होंने बताया कि कुछ समय पहले मैं दांतों के डॉक्टर के पास गई थी। तभी मुझे आंखों में धूल जैसा कुछ महसूस हुआ। देखने पर पता चला कि ये धूल नहीं है बल्कि आंखों से क्रिस्टल जैसा कुछ निकल रहा है। आंखों से निकले क्रिस्‍टल्‍स को लेकर तुरंत नेत्र विशेषज्ञ के पास गए। शुरुआत में दवाओं से थोड़ी राहत मिली, लेकिन अब पहले के मुकाबले ज्‍यादा क्रिस्टल निकल रहे हैं।

यह भी देखें… चिन्मयानंद केस: रंगदारी मामले में छात्रा SIT के हिरासत में

डॉक्टर्स की समझ से परे है बीमारी

पीड़ित महिला सैटनिक ने बताया कि डॉक्‍टर्स को मेरी बीमारी समझ नहीं आ रही है। इसलिए इलाज भी शुरू नहीं हो पा रहा है। सैटनिक की रिश्तेदार स्‍वेतलाना अवेजियन ने बताया कि एक बार फार्म पर काम करने के दौरान काजारियन की आंखों से क्रिस्टल निकलना शुरू हो गए।

हमने पहले क्रिस्टल को हटाकर ग्लास में रख दिया। इसके बाद दर्द बढ़ता गया और एक-एक कर आंसू बाहर आते गए। हम उसे डॉक्टर के पास लेकर गए। उन्होंने पहले कभी ऐसा कुछ देखा नहीं था। इसलिए उन्हें हमारी बात पर भरोसा ही नहीं हुआ।

बीमारी असाधारण है…

इस पीड़ित महिला की बीमारी पर रशियन नेत्र विशेषज्ञ तात्याना शिलोवा ने बताया कि यह असाधारण है। इसकी पैथोलॉजी जांच होना मुश्किल है। इसलिए बीमारी की वजह समझना भी मुश्किल है। आंसू में प्रोटीन, वसा और कुछ सूक्ष्म तत्व होते हैं। अगर, इसमें नमक की मात्रा बढ़ती है तो यह क्रिस्टल में बदल जाते हैं। आंसुओं में प्रोटीन की अधिकता भी एक कारण हो सकती है।

यह भी देखें… दिल्ली-एनसीआर समेत इन राज्यों में लगे भूकंप के तेज झटके, यहां था भूकंप का केंद्र

आगे डॉक्टर शिलोवा का कहना है कि अनुवांशिक रोग भी इसका कारण हो सकते हैं। क्रिस्टल आंखों के साथ ही लीवर, किडनी जैसे अंगों में भी हो सकते हैं, जहां नमक की अधिकता होती है। इसकी तुरंत जांच होनी चाहिए। लेकिन सैटनिक की ये बीमारी अभी भी रहस्य ही बनी हुई है।

 

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App