वाह रे इमरान! अब बुर्के वाली सांसदों को ‘सजवाएगी’ पाक सरकार

सीनेट की एक समिति ने इस्लामाबाद की शीर्ष सिविक एजेंसी से संसदीय आवास परिसर में ब्यूटी पार्लर खोलने के लिए कहा है। हैरानी की बात तो ये है कि ये आदेश एक ऐसे देश में हुआ है जहां की करीब सभी सांसद मुस्लिम हैं, और महिलाओं को बुर्के में रखा जाता है। ऐसे में ब्यूटी पार्लर का औचित्य क्या है, ये समझ से परे है…

नई दिल्ली: जहां एक तरफ पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है, पूरे देश में लोग रोटी के लिए तरस रहे हैं, वहीं पाकिस्तान के पीएम और हुक्मरान ऊटपटांग कारनामों से बाज नहीं आ रहे. अब पाकिस्तान की संसद परिसर के लिए एक ऐसा ऐलान कर दिया गया जिससे वहां की जनता भी हैरान है।

दरअसल, पाक संसद परिसर में शुक्रवार को महिला सांसदों के लिए एक ब्यूटी पार्लर खोलने का आदेश दिया गया है। सीनेट की एक समिति ने इस्लामाबाद की शीर्ष सिविक एजेंसी से संसदीय आवास परिसर में ब्यूटी पार्लर खोलने के लिए कहा है। हैरानी की बात तो ये है कि ये आदेश एक ऐसे देश में हुआ है जहां की करीब सभी सांसद मुस्लिम हैं, और महिलाओं को बुर्के में रखा जाता है। ऐसे में ब्यूटी पार्लर का औचित्य क्या है ये समझ से परे है…

70 महिलाओं और अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित हैं सीटें

बता दें कि पाकिस्तान की नेशनल असेम्ब्ली पाकिस्तान की द्वीसदनीय संसद(मजलिस-ए शूरा), जिसका उच्चसदन सेनेट है, का निम्नसदन है। उर्दू भाषा मैं इसे कौमी इस्म्ब्ली कहा जाता हैं। इसमें कुल 342 सीटें हैं, जिनमें से 242 चुनाव के जरिये चुने जाते हैं और बाक़ी के 70 महिलाओं और अल्पसंख्यकों के लिए आरक्षित हैं। क़ौमी इस्म्ब्ली पाकिस्तान की संधीय विधायिका की वह इकाई है, जिसे जनता द्वारा चुना जाता है।

ये भी पढ़ें—अफगानिस्तान शांति में भारत की पहल: US-तालिबान समझौते में विदेश सचिव भी मौजूद

सीनेट की आवास समिति में हुआ फैसला

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक समिति में शामिल महिला सीनेटरों ने यह मुद्दा उठाया था। सीनेट की आवास समिति की बैठक संसद भवन परिसर में हुई, और इसी बैठक में तय हुआ है कि महिला सांसदों के लिए ब्यूटी पार्लर खोला जाएगा। इतना ही नहीं, समिति ने राजधानी विकास प्राधिकरण (सीडीए) को इस बात के लिए फटकार लगाई कि उसके निर्देशों के बावजूद अभी तक महिला सांसदों के लिए पार्लियामेंट लॉज में ब्यूटी पार्लर क्यों नहीं खोला गया है। रिपोर्ट के मुताबिक सीनेटर कुलसूम परवीन ने समिति से कहा कि समिति संयोजक का स्पष्ट निर्देश था कि सीडीए अधिकारी पॉर्लियामेंट लॉज में ब्यूटी पार्लर के लिए जगह आवंटित करें और सीनेटर समीना सईद से संपर्क करें।

संसद में रोजमर्रा के इस्तेमाल वाली चीजों के लिए एक स्टोर भी खोले जा चुके हैं

गौरतलब है कि इस्लामाबाद स्थित संसद परिसर में ब्यूटी पार्लर खोलने से पहले भी कई प्रतिष्ठान खोले जा चुके हैं। संसदीय आवास परिसर में हाल ही में रोजमर्रा के इस्तेमाल वाली चीजों के लिए एक स्टोर खोला गया है। जहां संसद पाक परिसर में ब्यूटी पार्लर खोलने का आदेश दिया गया है, जबकि पाकिस्तान में महंगाई अपने चरम पर है, वहां अर्थव्यवस्था की हालत बेहद खराब है। वहीं अब पाकिस्तान की जनता सरकार के इस फैसले का विरोध भी कर रही है।

ये भी पढ़ें—उन्नाव कांड: पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में चार मार्च को आएगा कोर्ट का फैसला