स्कूल में भयानक ब्लास्ट: बिछ गई बच्चों की लाशें, दहल गया देश

स्कूल में हुए भयानक ब्लास्ट देश में हड़कंप मच गया है। इस ब्लास्ट के बाद शोर-गुल मच गया। इस घटना में कम से कम पांच बच्चों की मौत की जानकारी मिल रही है।

Published by Shivani Awasthi Published: February 15, 2020 | 9:43 am
Modified: February 15, 2020 | 11:50 am

दिल्ली: स्कूल में हुए भयानक ब्लास्ट (Blast) देश में हड़कंप मच गया है। इस ब्लास्ट के बाद शोर-गुल मच गया। इस घटना में कम से कम पांच बच्चों की मौत की जानकारी मिल रही है। वहीं तीन अन्य घायल हो गये हैं। बताया जा रहा है कि धमाका धार्मिक स्कूल में हुआ है।

अफगानिस्तान के धार्मिक स्कूल में धमाका, 5 बच्चों की मौत:

घटना अफगानिस्तान की है, जहां उत्तरी प्रांत कुंदुज में अचानक जोरदार विस्फोट हो गया। बताया जा रहा है कि यह विस्फोट एक स्कूल में हुआ, जिसमें अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक कम से कम पांच बच्चों की मौत हो गयी है। वहीं तीन अन्य घायल हो गये हैं। बता दें कि गृह मंत्रालय के हवाले से इस हटना की जानकारी दी गयी है। बताया गया कि विस्फोट दश्त-ए-आर्ची जिले में स्थित एक धार्मिक स्कूल में हुआ है।

ये भी पढ़ें: ये पुलिसकर्मी बना आतंकी, अपने ही साथी पुलिसकर्मियों की बिछा दी लाशें

गौरतलब है कि इससे पहले म्यांमार के एक स्कूल में भी आंतकी संगठन का मोर्टार टकरा गया था, जिसमें 20 बच्चे जख्मी हो गये थे। दरअसल, मामला म्यांमार के बुथीडाउंग टाउनशिप का है, जहां म्यांमार के सैन्य जवानों पर आतंकी साजिश के तहत मोर्टार हमला कर दिया गया।

आतंकी हमले में दागा गया मोर्टार स्कूल से टकराया, 20 छात्र घायल

यह हमला राखिने प्रांत में स्थानीय आतंकवादी समूह अराकान सेना ने किया था। हालाँकि आतंकी हमले में सेना के जवान घायल नही हुए बल्कि हमले के मकसद से दागा गया मोर्टार वहां स्थित एक प्राथमिक स्कूल में गिर गया। जिसकी चपेट में आने से वहां खेल रहे स्कूली बच्चे घायल हो गये। जानकारी के मुताबिक, 20 छात्र घायल हुए हैं।

ये भी पढ़ें: इन विद्रोहियों ने सेना को दिया झटका: मार गिराया ये लड़ाकू विमान

blast

म्यांमार सैन्य जवान थे आतंकियों का निशाना

इस हमले की जानकारी रक्षा सेवाओं के कमांडर-इन-चीफ ने दी। उन्होंने कहा कि अरकान सेना के आतंकवादियों ने बुथीडाउंग टाउनशिप में म्यांमार के सैन्य जवानों को निशाना बनाने के मकसद से यह मोर्टार दागा था। सुरक्षा बलों ने भी जवाबी कार्रवाई की और इसके बाद ये आतंकवादी वहां से पीछे चले गए थे।

ये भी पढ़ें: चीन की ये हकीकत: नहीं जानते होंगे आप, सच्चाई आपको कर देगी हैरान