×

चीनी नागरिक चार्ली पेंग के खिलाफ जांच में कई चौंकाने वाली बातें आई सामने

चीनी नागरिक चार्ली पेंग के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। उसके उपर हवाला कारोबार में शामिल होने का आरोप है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 17 Aug 2020 12:58 PM GMT

चीनी नागरिक चार्ली पेंग के खिलाफ जांच में कई चौंकाने वाली बातें आई सामने
X
चीनी नागरिक चार्ली पेंग की फाइल फोटो
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: चीनी नागरिक चार्ली पेंग के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया है। उसके उपर हवाला कारोबार में शामिल होने का आरोप है।

शुरूआती जांच में ये पता चला है कि वह न केवल हवाला का कारोबार चला रहा था, बल्कि भारत में निर्वासित जीवन बिता रहे तिब्बती धर्म गुरु दलाई लामा की जासूसी भी कर रहा था।

उसने अपने काले कारनामों को छिपाने के लिए खुद की एक कम्पनी भी बनाई थी। जिसकी आड़ में वह ये सब काम किया करता था।

प्रवर्तन निदेशालय की प्रतीकात्मक फोटो प्रवर्तन निदेशालय की प्रतीकात्मक फोटो

नेपाल की भारतीय शख्स के साथ अमानवीयता, 20 घंटों में कर दिया ऐसा हाल

उसने दिल्ली एनसीआर की साइबर सिटी गुरुग्राम के सेक्टर 59 गोल्फ कोर्स रोड स्थित पर्म स्प्रिंग प्लाजा के पते पर इनविन लॉजिस्टिक्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी रजिस्टर्ड कराई थी। जबकि प्लाजा के मैनेजर ने

पूछताछ में बताया कि यहां तो इस नाम की कोई कंपनी कभी रही ही नहीं। जांच एजेंसियां चार्ली से लगातार दिल्ली और गुरुग्राम के उन सभी पतों के बारे में भी पूछताछ कर रही हैं, जिनके आधार पर उसने अपना आधार कार्ड बनवाया या फिर फर्जी कंपनियां रजिस्टर्ड कराईं।

भारत ने बताई नेपाल के दावों की हकीकत, विवादित नक्शे पर कही ये बात

चीनी नागरिक चार्ली पेंग की फाइल फोटो चीनी नागरिक चार्ली पेंग की फाइल फोटो

शातिर है चार्ली

चार्ली काफी शतिर दिमाग का शख्स का है। वह इसी तरह कई फर्जी पतों के जरिए नकली कंपनियों का संचालन कर हवाला का कारोबार कर रहा था और जासूसी का गोरखधंधा भी चला रहा था।

हालांकि सूत्र बताते हैं कि इस पते पर कुछ समय पहले तक चार्ली की कंपनी हुआ करती थी, लेकिन उसने खाली कर दिया था। चार्ली को साल 2018 में पकड़ने वाले अधिकारियों के अनुसार वह काफी शातिर और तेज दिमाग का आदमी है।

जांच में हिंदी और अंग्रेजी भाषा का ज्ञान न होने का हवाला देकर जांच अधिकारियों को गुमराह करता है। साल 2018 में भी इसके खिलाफ जासूसी और हवाला का सबूत मिला था, तब यह जानकारी मिली थी कि वो चैट एप्लिकेशन के जरिये लोगों से बात करता था। उसको डिकोड करना काफी कठिन काम था।

नेपाल ने बदली चाल: भारत-चीन के रिश्तों पर कही ये बड़ी बात…

Newstrack

Newstrack

Next Story