परमाणु बम वाले विमान: चीन का नया कारनामा, आसमान में हड़कंप

ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने जानकारी दी है कि शनिवार को चीन के फाइटर जेट ताइवान के एयर सीमा पर प्रवेश कर गए। इसमें चीन के 8 बॉम्बर प्लेन थे और 4 फाइटर जेट थे

Published by Shivani Awasthi Published: January 24, 2021 | 7:37 pm
china-taiwan-tensions-chinese-warplanes-reach-taiwan-defence-identification-zone

लखनऊ: चीन अपने पड़ोसी देशों की सीमाओं पर घुसपैठ करने और सीमा विस्तार की रणनीति पर काम करने में जुटा हुआ है, कभी चीन की पीएलए लद्दाख में भारतीय सीमा में प्रवेश की कोशिश करती है, तो कभी चीनी पनडुब्बियां जापान जलसीमा क्षेत्रों में घुसपैठ करती हैं, वहीं अब चीन के लड़ाकू विमान ताइवान डिफेंस आइडेंटिफिकेशन जोन में पहुंच गए। ये दमदार लड़ाकू विमान एक दो नहीं बल्कि संख्या में 12 थे तो परमाणु बम गिराने की क्षमता रखते हैं।

ताइवान के आसमान में 12 चीनी लड़ाकू विमानों की उड़ान

दरअसल, ताइवान के रक्षा मंत्रालय ने जानकारी दी है कि शनिवार को चीन के फाइटर जेट ताइवान के एयर सीमा पर प्रवेश कर गए। बताया जा रहा है कि इसमें चीन के 8 बॉम्बर प्लेन थे और 4 फाइटर जेट थे, जिन्हें ताइवान के एयर डिफेंस आइडेंटिफिकेशन जोन में डिटेक्ट किया गया।

ये भी पढ़ें- आतंकियों के उड़े चीथड़े: एक गोली में 5 ISIS आतंकी ढेर, SAS स्नाइपर का खौफ

चीन के 8 बॉम्बर प्लेन और 4 फाइटर जेट परमाणु हमले में सक्षम

रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीनी लड़ाकू विमानों को देख ताइवान हरकत में आया और तत्काल चीनी एयरक्राफ्ट्स को विमान वापस लेने की चेतावनी दी गई। इसके बाद ताइवान ने एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम भी एक्टिवेट कर दिया गया। ताइवान आसमान में चीन एयरफोर्स की गतिविधियों की निगरानी कर रहा है।

Russia-China

चीन-ताइवान तनाव बढ़ा

गौरतलब है कि चीन और ताइवान के बीच पहले से ही तनाव बना हुआ है। एक ओर तो चीन ताइवान को अपना हिस्सा मानता है तो वहीं ताइवान खुद को स्वतंत्र देश बताता है। पिछले दिनों दोनों देशों में तनाव काफी बढ़ गया था।

ये भी पढ़ें- Newstrack की टाॅप 5 खबरें, चीन के LAC पर साजिश से किसानों के ट्रैक्टर रैली तक

इतने फाइटर जेट का उड़ान भरना असामान्य

वहीं, चीन के लड़ाकू विमानों और बॉम्बर जेट की उड़ान को ताइवान ने असमान्य बताते हुए कहा कि परमाणु क्षमता वाले आठ H-6K बॉम्बर प्लेन और चार फाइटर जेट का उड़ान भरना असामान्य है। वजह ये है कि बीते कुछ महीनों में साउथ चाइना सी पर ताइवान और परातस आइलैंड के बीच विमानों का संचालन किया जा रहा है। हालांकि, इस दौरान ज्यादातर एक या दो विमान ही उड़ान भर सकें। ऐसे में ताइवान को चीन पर शंका है।

China Taiwan

अमेरिका ने दिया ताइवान को समर्थन

वहीं अमेरिका ताइवान को सहयोग कर रहा है और चीन से लगातार ताइवान पर दबाव न डालने को लेकर अपील कर रहा है। अमेरिका विदेश मंत्रालय ने इस बाबत कहा कि चीन, ताइवान के ऊपर मिलिट्री, डिप्लोमेटिक, इकोनॉमिक दबाव बनाना बंद कर दें।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App