चीन की तलाश शुरू: अब खोजने जा रहा इसको, सबसे बड़े टेलिस्कोप की लेगा मदद

पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को फैलाने का आरोप झेल रहा चीन, अब एलियंस की तलाश शुरू करने जा रहा है। इस काम के लिए चीन अपने सबसे बड़े टेलिस्कोप (Telescope) की मदद लेगा।

बीजिंग: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को फैलाने का आरोप झेल रहा चीन, अब एलियंस की तलाश शुरू करने जा रहा है। इस काम के लिए चीन अपने सबसे बड़े टेलिस्कोप (Telescope) की मदद लेगा। एलियंस की खोज करने के लिए एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल इंटेलिजेंस (SETI) के वैज्ञानिकों ने तैयारी भी शुरू कर दी है।

एलियंस को खोजने के लिए किया जाएगा इस टेलिस्कोप का इस्तेमाल

एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल इंटेलिजेंस (SETI) के वैज्ञानिकों की योजना है कि अतंरिक्ष में एलिंयस को खोजने के लिए फाइव हंड्रेड मीटर अपर्चर स्फेरिकल टेलिस्कोप (FAST) का इस्तेमाल किया जाएगा। आधिकारिक तौर पर चीन के वैज्ञानिक इस साल सितंबर महीने से अतंरिक्ष में एलिंयस की खोज करने का काम शुरू करेंगे।

यह भी पढ़ें: देश धर्मनिरपेक्ष का पक्षधर है तो यहां आर्टिकल 30 की क्या आवश्यकता: गजेंद्रमणि

2011 में शुरू हुआ था टेलिस्कोप निर्माण का कार्य

बता दें कि FAST टेलिस्कोप (दूरबीन) का निर्माण 2011 में शुरू हुआ था। जो साल 2016 में बनकर पूरा हुआ था। इस टेलिस्कोप का इस्तेमाल इस साल जनवरी में करना शुरू किया गया है। एक्स्ट्राटेरेस्ट्रियल इंटेलिजेंस (SETI) के वैज्ञानिकों ने मार्च महीने में एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी, जिसमें बताया गया था कि वो कैसे FAST टेलिस्कोप का इस्तेमाल कर रहे हैं।

वैज्ञानिकों ने सबसे पहले रेडियो फ्रिक्वेंसी की वजह से होने वाली बाधाओं को हटाने पर काम किया ताकि अंतरिक्ष से धरती पर आने वाले एलियंस के सिग्नलों को खोजा में मदद मिल सके।

यह भी पढ़ें: नेपाल द्वारा भारत के भू-भाग को अपना बताना देश के लिए खुली चुनौती: प्रमोद तिवारी

टेलिस्कोप की मदद से कम्युनिकेशन स्थापित कर पाएंगे वैज्ञानिक

चीन के वैज्ञानिकों का दावा है कि वो इस टेलिस्कोप की मदद से वो एलियंस के साथ कम्युनिकेशन स्थापित कर पाएंगे। वैज्ञानिक धरती की ओर से आने वाले सभी तरंगों को फिल्टर कर सुदूर अंतरिक्ष से आने वाले सिग्नलों को खोजने की कोशिश कर रहे हैं।

सितंबर में शुरू किया जाएगा मिशन

चीन के SETI प्रोजेक्ट के सीनियर साइंटिस्ट झांग तोंगजी ने बताया कि एलियंस को खोजने का मिशन इस साल सितंबर में शुरू किया जाएगा। इस परियोजना की वजह से दुनिया के अन्य परियोजनाओं को कोई परेशानी नहीं होगी।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान का हाल बुरा: आतंकियों के नीच इरादे हुए फेल, सेना ने सिखाया सबक

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App