कोरोना से अमेरिका में हालात बेकाबू: यहां डर से प्रेग्नेंट महिलाएं कर रही ये काम…

पूरी दुनिया कोरोना के खौफ से आतंकित है। सुपरपॉवर अमेरिका पर भी कोरोना का कहर पूरी तरह बरस रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मामले 2 लाख से ऊपर पहुंच गए हैं और 4500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हालात यहां तक पहुंच गए कि यहां युद्ध जैसी स्थिति बन गई है और महिलाएं शहर छोड़ रही हैं।

Published by suman Published: April 2, 2020 | 10:03 pm

नई दिल्ली:  पूरी दुनिया कोरोना के खौफ से आतंकित है। सुपरपॉवर अमेरिका पर भी कोरोना का कहर पूरी तरह बरस रहा है। अमेरिका में कोरोना वायरस से संक्रमित कुल मामले 2 लाख से ऊपर पहुंच गए हैं और 4500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। हालात यहां तक पहुंच गए कि यहां युद्ध जैसी स्थिति बन गई है और महिलाएं शहर छोड़ रही हैं।

अमेरिका में कोरोना वायरस का भयंकर रूप

दरअसल, अमेरिका ने कोरोना वायरस संक्रमण के मामले में चीन और इटली को भी पीछे छोड़ दिया है। इसी बीच स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि अभी अमेरिका में कोरोना वायरस का भयंकर रूप सामने आना बाकी है। अमेरिकी राष्ट्रपति ने भी आने वाले दो हफ्तों को मुश्किल बताया है।  न्यूयॉर्क सिटी, जो यहां कोरोना के मामलों का मुख्य केंद्र बना हुआ है। यहां से प्रेग्नेंट महिलाएं दूसरे सुरक्षित शहरों की तरफ भाग रही हैं।

 

यह पढ़ें…लालू प्रसाद को कोरोना का खौफ, करीबी जमानत दिलाने के लिए कर रहे मंथन

 

एक रिपोर्ट के मुताबिक, न्यूयॉर्क की एक महिला 31 हफ्ते की गर्भवती हैं। वे न्यूयॉर्क से कोलारेडो चली गई हैं। उन्होंने न्यूयॉर्क के एक हॉस्पिटल में बच्चे को जन्म देने की योजना बनाई थी, लेकिन अब उन्हें यह काफी डरावना लग रहा है। उनका कहना है कि न्यूयॉर्क छोड़ना सही फैसला है। जैसे ही मैंने प्लेन ने उड़ान भरी थी, मैं बुरी तरीके से रोने लगी थी, मुझे अपना घर छोड़ने का दुख है। महिला का कहना है कि यहां अस्पतालों में सुरक्षात्मक उपकरण और वेंटिलेटर तक नहीं बचे है।  यहां तक कि डॉक्टर और नर्स तक इस वायरस से संक्रमित हैं।

 

 

यह पढ़ें…लॉन्च हुआ दो स्क्रीन वाला लैपटॉप, दंग करने वाली है खासियत, जानें कीमत

गर्भवती महिलाओं का  विरोध

पिछले हफ्ते ही न्यूयॉर्क के दो प्रमुख अस्पताल प्रेस्बिटेरियन और माउंट सिनाई ने लेबर रूम और डिलेवरी रूम में सहायक व्यक्तियों पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिसका कई गर्भवती महिलाओं ने विरोध भी किया था। डरावनी बात यह भी है कि संक्रमण के आधे से अधिक मामले अकेले न्यूयॉर्क में हैं। प्रदेश के गवर्नर एंड्रू कुओमो का कहना है कि बाकी प्रदेशों में भी स्थिति भयावह हो सकती है। इसी बीच अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस में कहा है कि अमेरिका ने खतरनाक कोरोना वायरस को पूरी तरह से हराने के लिए उसके खिलाफ हर मोर्चे पर युद्ध छेड़ रखा है।

उन्होंने कहा कि सरकार पूरी कोशिश कर रही है कि देश में मास्क, ग्लव्स जैसे मेडिकल सुरक्षा उपकरणों की कोई कमी न हो. रिपोर्ट्स के मुताबिक स्वास्थ्यकर्मियों का कहना है कि उनसे कहा गया है कि वो एक ही मास्क का बार-बार इस्तेमाल करें और जरूरत पड़ने पर स्कार्फ का इस्तेमाल करें। बता दें कि ताजा आंकड़ों के मुताबिक अब तक कोरोना वायरस के कारण पूरी दुनिया में 40 हजार से ज्यादा लोगों की मौत चुकी हैं. पूरी दुनिया इस वायरस से लड़ रही है। इधर भारत में भी कोरोना का संकट गहराता जा रहा है। सरकार ने इस समस्या से निपटने के लिए 21 दिन का लॉकडाउन घोषित कर रखा है।