कोरोना की मार झेल रहे पाक पर आया एक और संकट, मचेगा हाहाकार, भूखे मरेंगे लोग

कोरोना वायरस की मार झेल रहे पाकिस्तान अब एक नई मुसीबत में फंस गया है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने पाकिस्तान को 6 अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज के तहत दी जाने वाली तीसरी किस्त फिलहाल रोक दिया है।

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की मार झेल रहे पाकिस्तान अब एक नई मुसीबत में फंस गया है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने पाकिस्तान को 6 अरब डॉलर के बेलआउट पैकेज के तहत दी जाने वाली तीसरी किस्त फिलहाल रोक दिया है। रिपोर्ट में बताया पाकिस्तान कर्ज के लिए आईएमएफ की शर्तों को भी पूरा नहीं कर पाया है।

अब आईएमएफ के फंड देने से पाकिस्तान की मुश्किलें बढ़ गई हैं। कोरोना महामारी की वजह से पहले ही पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हो चुका है। आर्थिक संकट के डर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने देश में लॉकडाउन करने से भी इंकार कर दिया था।

यह भी पढ़ें…कोरोना से जंग में भारत-पाकिस्तान ऐसे आ सकते हैं साथ, शोएब अख्तर ने बताया

पाक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान ने आईएमएफ से 6 अरब डॉलर के पैकेज का अनुरोध किया था, लेकिन इस अनुरोध पर आईएमएफ विचार नहीं करेगा। कर्ज की तीसरी किस्त की मंजूरी को लेकर 6 मार्च को समीक्षा बैठक होनी थी, लेकिन आईएमएफ ने उसे 10 अप्रैल तक के लिए टाल दिया था। आईएमएफ से पाकिस्तान को 6 अरब डॉलर के पैकेज के तहत तीसरी किस्त में 45 करोड़ डॉलर का कर्ज मिलना था।

पाकिस्तान ने चीन, सऊदी अरब और यूएई से भारी-भरकम कर्ज लिया था और इसके बाद आईएमएफ का दरवाजे पर पहुंचा था। दिवालिया होने की कगार पर पहुंच चुके पाकिस्तान को आईएमएफ ने पिछले साल जुलाई महीने में 6 अरब डॉलर देने पर सहमति दी थी। इसके साथ ही, पाकिस्तान की सरकार के सामने आर्थिक सुधार लागू करने की शर्त भी रखी थी।

यह भी पढ़ें…टैक्स देने वालों के लिये खुशखबरी, तुरंत रिफंड होंगे इतने लाख

आईएमएफ ने कहा है कि फिलहाल वह कोरोना संकट के मद्देनजर पाकिस्तान को 1.4 अरब डॉलर की आपातकालीन आर्थिक मदद उपलब्ध कराने की कोशिश कर रहा है। पाक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आईएमएफ के प्रतिनिधि तेरेसा डबान सैंचेज के हवाले से लिखा है, आईएमएफ की प्राथमिकता पाकिस्तान को रैपिड फाइनेंसिंग इंस्ट्रूमेंट के जरिए आर्थिक मदद दिलाने पर है। आईएमएफ की टीम और पाकिस्तानी अधिकारी आपातकालीन कर्ज की मंजूरी के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें…कोरोना: UP में मास्‍क पहनना हुआ अनिवार्य, नहीं पहना तो होगी कड़ी कार्रवाई

पाकिस्तान में इस वक्त भुखमरी और बेरोजगारी चरम पर है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने लॉकडाउन ना करने के फैसले की आलोचना पर कहा था कि वह कोरोना वायरस से पहले लोगों को भुखमरी और गरीबी से नहीं मरने दे सकते।