×

समुद्र यात्रा में भी कोरोना: पत्नी के साथ उतारा, तो हुई हालत खराब

रयान ओसबोर्न ने अपनी पत्नी एलेना मनीगेट्टी के साथ फरवरी के अंतिम सप्ताह में कैनरी आइलैंड से अपनी यात्रा शुरू की। कैनरी आइलैड उत्तर-पश्चिम अफ्रीका के किनारे अटलांटिक महासागर में स्थित है। यहां रयान और एलेना ने अपनी यात्रा की शुरुआत की।

SK Gautam
Updated on: 23 April 2020 7:55 AM GMT
समुद्र यात्रा में भी कोरोना: पत्नी के साथ उतारा, तो हुई हालत खराब
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: आपको जानकर हैरानी होगी कि पूरी दुनिया जब कोरोना महामारी के खिलाफ जंग लड़ रही है तो वहीं दूसरी तरफ एक ऐसा कपल इस समस्या से बिल्कुल अनजान पिछले 25 दिनों से समुद्र में यात्रा कर रहे थे। यात्रा खत्म हुई तो एक किनारे परा आनें पर पता चला कि पूरी दुनिया भयानक कोरोना वायरस की चपेट में है।

पहले धन जुटाए फिर नाव खरीदी

बता दें कि ब्रिटेन के मैनचेस्टर के रयान ओसबोर्न को अपनी पत्नी एलेना मनीगेट्टी के साथ पूरी दुनिया की सैर करने इच्छा थी। जिसके लिए रयान ने पहले धन जुटाए, फिर नौकरी छोड़ी और एक नाव खरीदी। नाव खरीदने का मुख्य मकसद था समुद्री की लम्बी यात्रा करने का।

कैनरी आइलैड अटलांटिक महासागर में स्थित है

रयान ओसबोर्न ने अपनी पत्नी एलेना मनीगेट्टी के साथ फरवरी के अंतिम सप्ताह में कैनरी आइलैंड से अपनी यात्रा शुरू की। कैनरी आइलैड उत्तर-पश्चिम अफ्रीका के किनारे अटलांटिक महासागर में स्थित है। यहां रयान और एलेना ने अपनी यात्रा की शुरुआत की। जाना था ब्राजील के ऊत्तरी इलाके में स्थित सेंट विंसेंट द्वीप तक। ये खबर डेली मेल वेबसाइट पर प्रकाशित हुई है।

ये भी देखें: फर्ज पर कर दी जान कुर्बान, दो रुपया डॉक्टर कोरोना पीड़ितों के रेड जोन में थे एक्टिव

रयान और एलेना ने अपने घर वालों से कहा था-

रयान और एलेना ने अपने घर वालों को कहा था कि हमें छुट्टी मनाते समय कोई बुरी खबर न सुनाई जाए। इसलिए किसी ने भी उन्हें कोरोना वायरस की जानकारी नहीं दी। 25 दिन बाद जब वे सेंट विंसेंट द्वीप पर पहुंचे दुनिया की हालत जानकर हैरान रह गए।

कोरोना की जानकारी कब मिली

दोनों को कोरोना की जानकारी तब मिली जब वे सेंट विंसेंट द्वीप पहुंचे जहां इस कैरेबियाई द्वीप की सीमाएं सील हो चुकी थीं। क्रूज शिप के हजारों यात्रियों को भी समुद्र में ही छोड़ रखा है ताकि अगर वे संक्रमित हैं तो धरती पर संक्रमण और न फैले।

ये भी देखें:नेता प्रतिपक्ष की सीएम योगी से बड़ी मांग, लॉकडाउन में मांगी ये रियायत

25 दिनों के बाद कैरिबियन आईलैंड से मिली जानकारी

ऐलेना और रयान ने ब्लॉग सेलिंग किटीवेक में बताया कि फरवरी में हमने सुना था कि चीन में एक वायरस था, लेकिन 25 दिनों के बाद कैरिबियन आईलैंड से हमें पूरी जानकारी मिली। हमें पता चला कि कोरोनावायरस का प्रकोप बहुत बुरी तरह से दुनिया पर पड़ा है।

रयान ने कहा कि जब हम किनारे पर पहुंचे तो पता चला कि ये वायरस अभी तक खत्म नहीं हुआ है। कैरिबियाई द्वीप पर पहुंचने में विफल होने के बाद, दोनों ने नाव को ग्रेनाडा की तरफ मोड़ दिया।

ये भी देखें:गुजरात को सता रहा इस बात का डर, सरकार ने घटा दी जांचों की संख्या

दोनों को सेंट विंसेंट में जाने की अनुमति नहीं मिली

दोनों को सेंट विंसेंट में जाने की अनुमति नहीं मिल रही थी। जब रयान ने बताया कि हम 25 दिनों से समुद्र में है। फिर उन्होंने अपना जीपीएस हिस्ट्री दिखाया तो उन्हें सेंट विंसेंट में आने की अनुमति मिली।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story