अमेरिका का चीन पर सनसनीखेज आरोप, राष्ट्रपति ट्रंप बोले- हमारे देश पर हमला हुआ है

चीन से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है। चीन पर इस किलर वायरस को लेकर जानकारी छुपाने का आरोप है। चीन और अमेरिकी में जुबानी जंग तेज हो गई है। कोरोना वायरस ने अमेरिका में तांडव मचा रखा है।

वाशिंगटन: चीन से फैला कोरोना वायरस पूरी दुनिया में तबाही मचा रहा है। चीन पर इस किलर वायरस को लेकर जानकारी छुपाने का आरोप है। चीन और अमेरिकी में जुबानी जंग तेज हो गई है। कोरोना वायरस ने अमेरिका में तांडव मचा रखा है। अब इस बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका पर हमला हुआ था। डोनाल्‍ड ट्रंप ने यह बयान ऐसे समय में दिया जब अमेरिका में कोरोना ने 47,000 से अधिक लोगों की जान ले ली है और 8,52,000 से अधिक लोग संक्रमित हैं।

अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि हम पर हमला हुआ। यह हमला था। यह कोई फ्लू नहीं था। कभी किसी ने ऐसा कुछ नहीं देखा, 1917 में ऐसा आखिरी बार हुआ था। जब फ्लू से हमला हुआ और अब ये हुआ, लेकिन हम इससे उबर कर वापसी करेंगे। वह कई हजार अरब डॉलर के प्रोत्साहन पैकेजों के परिणामस्वरूप बढ़ते अमेरिकी राष्ट्रीय ऋण के बारे में किए एक सवाल का जवाब में यह बातें कहीं।

यह भी पढ़ें…तहसीलदार पर बड़ा आरोप, बेटे की बेबसी या शातिर दिमाग

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि उनका प्रशासन वैश्विक महामारी से प्रत्यक्ष रूप से प्रभावित लोगों और उद्योगों की मदद के लिए आगे आया है। राष्ट्रपति ने कहा कि हमारे पास कोई विकल्प नहीं है। क्या है? मुझे हमेशा हर चीज की चिंता रहती है। हमें इस समस्या से पार पाना ही होगा। उन्होंने कहा कि दुनिया के इतिहास में हमारी अर्थव्यवस्था सबसे बड़ी रही है…. चीन से बेहतर, किसी भी अन्य देश से बेहतर।

ट्रंप ने कहा कि हमने पिछले तीन साल में इसे खड़ा किया और फिर अचानक एक दिन उन्होंने कहा कि तुम्हे इसे बंद करना होगा। अब, हम इसे दोबारा खोल रहे है और हम बेहद मजबूत होगें लेकिन दोबारा खोलने के लिए आपको उस पर कुछ धन लगाना होगा। उन्होंने कहा कि हमने अपनी कंपनियों को बचा ली।

यह भी पढ़ें…अमेरिका में कोरोना वायरस से पैदा हुई ऐसी स्थिति, डॉक्टरों में मचा हड़कंप

तो वहीं विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने निशाना साधते हुए कहा कि चीन ने दुनिया से काफी कुछ छिपाया है। वह झूठ बोल रहा है। हर किसी को सच जानने का हक है और अभी भी काफी हद तक सच को चीन छुपा रहा है और इस तरह की लैब अभी भी चीन में जारी हैं, जिनकी वजह से कोरोना वायरस की शुरुआत हुई।

यह भी पढ़ें…लॉकडाउन का मतलब है टोटल लॉकडाउन, सख्ती से किया जाए पालन- CM योगी

अमेरिकी विदेश मंत्री ने सनसनीखेज दावा किया है कि सिर्फ वुहान ही नहीं, बल्कि चीन में ऐसी कई लैब हैं जहां पर इस तरह के प्रयोग हो रहे हैं जो आगे चलकर खतरनाक साबित होंगे। अमेरिका कई देशों को मदद देता है, ताकि वह परमाणु शक्ति समेत अन्य शक्तियों का सही तरीके से इस्तेमाल करें, हमें इस बात की चिंता है कि चीनी सरकार आगे चलकर किस तरह इस तरह की लैब से निपटेगी।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App