ट्रंप का एलानः अमेरिकी विरासत की करेंगे रक्षा, चुनाव में लगा रहे राष्ट्रवाद का तड़का

अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में कड़े मुकाबले में फंसे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में राष्ट्रवाद का रंग घोलने में जुट गए हैं। उन्होंने नेशनल आर्काइव्स म्यूजियम में एक कार्यक्रम के दौरान खुद को अमेरिकी विरासत का रक्षक बताते हुए बड़ा एलान किया।

america-donald-trump

ट्रंप का एलानः अमेरिकी विरासत की करेंगे रक्षा, चुनाव में लगा रहे राष्ट्रवाद का तड़का (social media)

वाशिंगटन: अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में कड़े मुकाबले में फंसे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप चुनाव में राष्ट्रवाद का रंग घोलने में जुट गए हैं। उन्होंने नेशनल आर्काइव्स म्यूजियम में एक कार्यक्रम के दौरान खुद को अमेरिकी विरासत का रक्षक बताते हुए बड़ा एलान किया। उन्होंने कहा कि उनके दोबारा सत्ता में आने पर स्कूलों में राष्ट्रप्रेम और राष्ट्रवाद को पाठ्यक्रम में शामिल किया जाएगा। वामपंथी विचारधारा पर प्रहार करते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा कि देश के स्कूलों में पढ़ाई के दौरान अमेरिकी विचारधारा पढ़ाई जाएगी।

ये भी पढ़ें:IPL 2020: दिल्ली-पंजाब में आज हाईवोल्टेज जंग, गेल और पंत का दिखेगा जलवा

ट्रंप को बिडेन से मिल रही कड़ी चुनौती

कोरोना वायरस की रोकथाम में लापरवाही के आरोप झेल रहे ट्रंप को डेमोक्रेटिक उम्मीदवार जो बिडेन से राष्ट्रपति चुनाव में कड़ी चुनौती मिल रही है। इस बाबत किए गए कई सर्वे में बिडेन ट्रंप पर बढ़त बनाए हुए हैं। अब राष्ट्रपति ट्रंप चुनाव में राष्ट्रवाद का रंग घोलने की कोशिश में जुट गए हैं।

राष्ट्रवाद की शिक्षा के लिए बनेगा कमीशन

उनका कहना है कि मैं अमेरिका को नस्लवादी समाज के तौर पर पेश करने वाली बातों को अमेरिकी स्कूलों तक नहीं पहुंचने दूंगा। उन्होंने एक कमीशन बनाने की भी बात कही जो स्कूलों में राष्ट्रवादी शिक्षा की पृष्ठभूमि तैयार करेगा।

उन्होंने कहा कि अमेरिका में पिछले कुछ महीनों के दौरान नस्लीय हिंसा की घटनाएं हुई हैं और इस दौरान ऐतिहासिक स्थलों और मूर्तियों को भी नुकसान पहुंचाया गया। डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार बिडेन पर हमला करते हुए उन्होंने कहा कि हिंसा फैलाने वाले लोगों में वह भी शामिल हैं।

america-donald-trump
america-donald-trump (social media)

नेशनल हीरोज की दी जाएगी जानकारी

ट्रंप ने कहा कि अमेरिकी विरासत और नेशनल हीरोज को कभी भुलाया नहीं जा सकता। उन्होंने कहा कि हमारी पूरी कोशिश होगी कइ युवा समुदाय अमेरिका से प्यार करना सीखे और उसे अपने हीरोज के बारे में पूरी जानकारी हो।

मई में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस के हाथों मौत के बाद देश में ब्लैक लाइव्स मैटर की शुरुआत हुई थी। घटना के बाद अमेरिका के कई हिस्सों में हिंसा और आगजनी हुई थी। उसके बाद से लगातार ट्रंप डेमोक्रेटिक पार्टी के वामपंथी विचारधारा से प्रेरित होने का आरोप लगाते रहे हैं।

वामपंथी विचारधारा पर ट्रंप का हमला

ट्रंप इससे पहले भी राष्ट्रवाद का मुद्दा उठा चुके हैं और उन्होंने वामपंथी विचारधारा पर हमले किए हैं। ट्रंप का कहना है कि हाल के दिनों में हुई हिंसा की घटनाएं देश में पैदा हो रही वामपंथी विचारधारा का नतीजा है और यह हमारे स्कूलों में पढ़ाई जाती रही है। अब वक्त आ गया है कि हम स्कूलों में पढ़ने वालों को अपने देश के महान इतिहास के बारे में जानकारी दें और उन्हें अपने नेशनल हीरोज के बारे में बताएं।

कल्चरल बार के जरिए जीत की कोशिश

जानकारों का कहना है कि दरअसल ट्रंप कल्चरल वार के जरिए जीत का रास्ता तलाश करने की कोशिश में जुटे हुए हैं। राइस यूनिवर्सिटी में इतिहास के प्रोफेसर डगलस ब्रिंकले का कहना है कि अमेरिकी स्कूलों में नागरिक अधिकारों और इतिहास के बारे में जो पाठ्यक्रम चलाया जा रहा है, ट्रंप उसे बदलना चाहते हैं।

ये भी पढ़ें:आज फिर आया भूकंप: थरथराई धरती, झटकों से सहम गए लोग

उनकी नजर कल्चरल वार के जरिए जीत पर टिकी है। वे एक तरह से श्वेत लोगों की वकालत करने में जुटे हुए हैं। कई मौकों पर उन्होंने अश्वेत समुदाय के योगदान का कोई जिक्र तक नहीं किया है। उनका कहना है कि हम इन चीजों को नजरअंदाज नहीं कर सकते।

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App