एलन मस्क की spaceX ने अंतरिक्ष के लिए भरी उड़ान, नासा ने ऐसे रचा इतिहास

शनिवार को दो अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स के रॉकेट इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन के लिए रवाना हो गया। खबरों के मुताबिक, जैसे ही काउंटडाउन खत्म हुआ नासा के रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले नाम के दोनों अंतरिक्ष यात्रियों के साथ ड्रैगन कैप्सूल को लेकर निजी कंपनी स्पेस एक्स का रॉकेट फॉल्‍कन-9 स्‍थानीय समय के मुताबिक

केप कनेवरल : शनिवार को दो अमेरिकी अंतरिक्ष यात्रियों को लेकर एलन मस्क की कंपनी स्पेस एक्स के रॉकेट इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन के लिए रवाना हो गया। खबरों के मुताबिक, जैसे ही काउंटडाउन खत्म हुआ नासा के रॉबर्ट बेनकेन और डगलस हर्ले नाम के दोनों अंतरिक्ष यात्रियों के साथ ड्रैगन कैप्सूल को लेकर निजी कंपनी स्पेस एक्स का रॉकेट फॉल्‍कन-9 स्‍थानीय समय के मुताबिक, अपराह्न 3.22 बजे अपनी यात्रा पर रवाना हो गया।  भारतीय समयानुसार शनिवार रात करीब 1 बजे रॉकेट ने कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी। अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन (ISS) 19 घंटे की उड़ान की दूरी पर है।

यह पढ़ें…Live: लॉकडाउन 4.0 हुआ खत्म, अब तक 1.73 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित

 

 

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रक्षेपित किए गए रॉकेट ने कुछ ही मिनटों में अंतरिक्ष यात्रियों को सुरक्षित कक्षा में पहुंचा दिया। इस दौरान स्‍पेस एजेंसी नासा ऑपरेशन पर बारीकी से नजर बनाए हुए थी।

 पहली बार निजी कंपनी के रॉकेट ने

अमेरिका में पहली बार किसी निजी कंपनी के रॉकेट ने ड्रैगन कैप्सूल में अंतरिक्ष यात्रियों के साथ उड़ान भरी है। इस प्रक्षेपण के साथ ही अमेरिका में कॉमर्शियल स्‍पेस ट्रवेल के एक नए युग की शुरुआत हो गई है।इस मिशन को अमरीका के फ्लोरिडा स्थित केनेडी स्पेस सेंटर से लॉन्च किया गया।

 

 इससे पहले ये दो देश

अमेरिका से पहले रूस और चीन ऐसा कर चुके हैं। अंतरिक्ष में जाने के दौरान अंतरिक्ष यात्रियों को वहां हवा की रफ्तार नियंत्रण के दायरे में रहने की जरूरत होगी। अंतरिक्ष यात्रियों का गंतव्य यानी अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन 19 घंटे की उड़ान दूरी पर मौजूद है।

यह पढ़ें…यूपी में तबाही: मौसम ने ली 28 लोगों की जान, CM योगी ने किया मुआवजे का एलान

 

2011 के बाद…

21 जुलाई 2011 के बाद पहली बार अमेरिकी धरती से कोई मानव मिशन अंतरिक्ष में भेजा गया है। दूसरी बार में ये मिशन कामयाब रहा। इससे पहले बुधवार को खराब मौसम के चलते आखिरी पलों में इस मिशन को टाल दिया गया था।

 

डेमो-2 मिशन

अंतरिक्ष यात्री इंटरनेशनल स्‍पेस स्‍टेशन में चार महीने तक स्‍पेस स्‍टेशन पर रहेंगे और फिर धरती पर लौट आएंगे। इस मिशन को डेमो-2 मिशन का नाम दिया गया है। डेमो-1 मिशन में ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट से स्पेस स्टेशन पर सफलतापूर्वक सामान पहुंचाया गया था। स्पेसएक्स नासा के अंतरिक्ष यात्रियों को फाल्कन-9 रॉकेट के ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट के जरिए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में भेजा गया है। इस ऐतिहासिक पल के गवाह अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भी बने। उनकी बेटी इवांका अपने पति जेयर्ड और दोनों बच्चों के साथ केनेडी स्पेस सेंटर पहुंचे थे।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App