×

चिकन खाने वालों को खतरा, मुर्गियां फैला रही मौत, इस देश मे बैन

इंग्लैण्ड में करोड़ों चिकन पर इसलिए प्रतिबन्ध लग गया क्योंकी उन्होंने बीमारियां और कमियां पाई गयीं। देश की फ़ूड स्टैण्डर्ड एजेंसी ने बताया कि जिन मुर्गियों पर रोक लगी उनमे से या तो पूरी मुर्गी या उसके किसी हिस्से में कोई न कोई कमी पाई गयी थी।

Shivani
Published on: 25 Aug 2020 5:00 PM GMT
चिकन खाने वालों को खतरा, मुर्गियां फैला रही मौत, इस देश मे बैन
X
england 61 million chickens rejected due to disease
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: चिकन खाने वालों को तब तगड़ा झटका लगा, जब इंग्लैंड और वेल्स में करोड़ों चिकन के उपयोग से मना कर दिया। दरअसल, देश में करीब 5.90 करोड़ मुर्गियां ऐसी पाई गईं, जिनमे कमियां थीं। तो वहीं 3.90 करोड़ मुर्गियों में बीमारी पाई गयी। ऐसे में 6.1 करोड़ से ज्यादा मुर्गियों पर रोक लगा दी गयी। देश के इस फैसले के बाद रोजाना करीब 35 हजार चिकन वापस लौटाए जाने लगे।

इंग्लैंड में 6.1 करोड़ मुर्गियों पर लगा प्रतिबन्ध:

इंग्लैण्ड में करोड़ों चिकन पर इसलिए प्रतिबन्ध लग गया क्योंकी उन्होंने बीमारियां और कमियां पाई गयीं। देश की फ़ूड स्टैण्डर्ड एजेंसी ने बताया कि जिन मुर्गियों पर रोक लगी उनमे से या तो पूरी मुर्गी या उसके किसी हिस्से में कोई न कोई कमी पाई गयी थी।करोड़ों मुर्गियां बीमार पाई गयी। ऐसे में ये मुर्गियां इंसानों के खाने लायक नहीं थीं।

ये भी पढ़ेंः युवराज का खुलासा: नापसंद थी ये IPL टीम, छोड़ना चाहते थे साथ

रोजाना करीब 35 हजार चिकन वापस लौटाए गए

रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश में जांच का एक डाटा मिला जो साल 2016 जुलाई से 2019 जून के बीच का है। इस दौरान मुर्गियों में बिहारी या कमियों का पता चला। डाटा सामने आने के बाद इन मुर्गियों को स्लॉटर हाउस भेजना सही नहीं था क्यों कि इन्हे खाना उपयुक्त नहीं था।

चिकन में बीमारी या कमियां होने की मिली जानकारी

हजारों की तादात में मुर्गियों को रोजाना वापस भेजा जाने लगा। मात्र स्कॉटलैंड में साल 2016 से 2018 के बीच कुल 17 लाख बीमार मुर्गियां मिलीं, लेकिन करीब 25 लाख मुर्गियों को तत्काल वापस कर दिया गया।

ये भी पढ़ेंः सुशांत लेते थे ड्रग्स? नारकोटिक्स ब्यूरो करेगा जांच, हुआ ये बड़ा दावा

इंसानों के खाने लायक नहीं करोड़ो चिकन

वहीं अब इस बाबत नया डाटा पिछले महीने आया। इसके मुताबिक, आमतौर पर पोल्ट्री फॉर्म्स में 10 हजार मुर्गियों में से 400 मर जाती थीं। यानी 4 फीसदी या तो मर जाती हैं या फिर बीमारियों की वजह से मार दी जाती थीं। वहीं इंग्लैंड और वेल्स में 30 लाख चिकन तो स्लॉटर हाउस में जाते समय हार्ट अटैक से मर जाते हैं।

ये भी पढ़ेंः बनाना है धनवान: तिजोरी में रखें ये चीजें, बनी रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा

देश मे हर हफ्ते काटी जाती हैं 2 करोड़ मुर्गियां:

इस बारे में FSA के प्रवक्ता ने स्पष्ट किया कि ये मुर्गियों के खिलाफ किसी प्रकार की ज्यादती नहीं है, बल्कि इंसानों को बचाने का एक प्रयास है। गौरतलब है कि इंग्लैंड में चिकन भारी मात्रा में खाया जाता है। ऐसे में आंकड़ो के मुताबिक, हर हफ्ते देश मे 2 करोड़ मुर्गियां काटी जाती हैं। जिनमे से सबसे ज्यादा मुर्गियां 35 दिनों में बड़ी हो जाने वाली प्रजाति की होती हैं।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story