×

अब नहीं बचेगा कोरोना: चीन के लैब में मारा गया वायरस, खोजे ये चार एंटीबाॅडी

चीन के वैज्ञानिकों ने COVID- 19 महामारी को खत्म करने का फॉर्मूला ढूंढ निकाला है। चीन के वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस को एक एंटीबॉडी से खत्म करना मुश्किल है, इसलिए इसे चार एंटीबॉडी मिलकर हराएंगे।

Shreya

ShreyaBy Shreya

Published on 15 May 2020 4:09 AM GMT

अब नहीं बचेगा कोरोना: चीन के लैब में मारा गया वायरस, खोजे ये चार एंटीबाॅडी
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली: चीन से शुरू हुए कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है। दुनियाभर के तमाम साइंटिस्ट इस वायरस का खात्मा करने के लिए वैक्सीन बनाने में जुटे हुए हैं। इस बीच खबर है कि चीन के वैज्ञानिकों ने COVID- 19 महामारी को खत्म करने का फॉर्मूला ढूंढ निकाला है। चीन के वैज्ञानिकों का कहना है कि कोरोना वायरस को एक एंटीबॉडी से खत्म करना मुश्किल है, इसलिए इसे चार एंटीबॉडी मिलकर हराएंगे।

चार एंटीबॉडी का चौतरफा हमला

चार एंटीबॉडी मिलकर कोरोना वायरस पर चौतरफा हमला करेंगे। इस चौतरफे हमले से वायरस की बाहरी कंटीली प्रोटीन वाली लेयर खत्म हो जाएगी। उसके बाद वायरस शरीर की कोशिकाओं से चिपन नहीं पाएगा। अंत में विकसित ना हो पाने के कारण खत्म हो जाएगा। चीन के 24 से ज्यादा वैज्ञानिकों के एक ग्रुप ने इस बीमारी से रिकवर हो चुके मरीजों के शरीर से चार एंटीबॉडी खोज निकालने में सफल हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें: ‘मजदूरों का काल’ बना घर वापसी का रास्ताः UP में मौतों का दौर जारी, 6 ने तोड़ा दम

वायरस की बाहरी कटीली परत को खत्म करते हैं एंटीबॉडी

साथ ही देखा गया कि चारों एंटीबॉडी का कॉकटेल कोरोना वायरस का खात्मा करने में सफल हो रहा है। ये चारों एंटीबॉडी कोरोना वायरस की बाहरी कटीली परत को छूते ही अपना काम करने लगते हैं यानि उनको खत्म करने लगते हैं। इससे वायरस शरीर की कोशिकाओं से चिपक नहीं पाता।

कोरोना के खिलाफ एक बेहतरीन वैक्सीन

चीन के वैज्ञानिकों ने उम्मीद जताई है कि वो लोग इन चारों एंटीबॉडी का इस्तेमाल कर कोरोना के खिलाफ एक सफल वैक्सीन बना सकेंगे। वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर कुछ भी नहीं होता है तो एक ऐसी वैक्सीन को तो तैयार हो ही जाएगी जो कोरोना को मारने में ना सही लेकिन उसे रोकने में कामयाब हो। यानि प्रिवेंटिव वैक्सीन तो तैयार हो ही जाएगी।

यह भी पढ़ें: बर्थडे स्पेशल: धक-धक गर्ल की आज भी है डिमांड, जानें माधुरी से जुड़ी रोचक बातें

भविष्य में आएगा काम

वहीं अगर COVID- 19 भविष्य में म्यूटेशन कर अपना स्वरूप बिगाड़ता है तो चारों एंटीबॉडीज में से कोई एक उसके साथ विकसित होकर आगे के लिए काम आएगा। इसका मतलब ये है कि जो एंटीबॉडी वायरस के साथ बदलेगा वहीं कोरोना वायरस का खात्मा भी करेगा।

कौन-कौन से हैं ये चार एंटीबॉडी

कोरोना को खत्म करने के लिए चीन के वैज्ञानिकों ने जिन चारों एंटीबॉडी को खोजा है, वो बी38, एच4, बी5 और एच2 हैं। ये चारों एंटीबॉडी वायरस के बाहरी कंटीली प्रोटीन (एस-प्रोटीन) वाली लेयर को खत्म कर शरीर की कोशिकाओं के ऊपर लगे एंजाइम ACE-2 से चिपकने नहीं देते हैं।

यह भी पढ़ें: बाबा बद्रीनाथ धाम के खुले कपाट, PM मोदी के नाम से पहली पूजा, सिर्फ इतने लोग रहे मौजूद

ऐसे करते हैं वायरस पर हमला

इन चारों एंटीबॉडी के चौतरफा वार से कोरोना वायरस का एस-प्रोटीन पिघलने लगता है और कुछ ही देर में वायरस का खात्मा हो जाता है। वैज्ञानिकों ने कोरोना वायरस से ठीक हो चुके मरीजों के शरीर से इन चारों एंटीबॉडीज को खोज निकाला है। वहीं इनका प्रयोग चूहों पर सफल भी रहा है।

वैज्ञानिकों ने देखा कि चारों एंटीबॉडी में से दो कोरोना वायरस से पूरी तरह से चिपक जाती हैं और उसे खत्म करती है। और बाकी के दो वायरस के आसपास रहते हुए कोरोना की रासायनिक प्रक्रिया को बढ़ने नहीं देते। इस हमले से कोरोना वायरस निष्क्रिय हो जाता है।

यह भी पढ़ें: पूर्व सीएम के परिवार में मौत: शोक की लहर, इन दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story