×

पाकिस्तान: पीएम इमरान खान की तबाही शुरू! नहीं किया ये काम तो...

Manali Rastogi
Updated on: 4 Nov 2019 9:54 AM GMT
इमरान खान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में इमरान खान सरकार को कट्टरपंथी नेता मौलाना फजलुर रहमान ने अल्टीमेटम दिया है। उन्होंने कहा कि अगर इमरान खान पाकिस्तानी पीएम की कुर्सी नहीं छोड़ेंगे तो वो पूरा पाकिस्तान बंद करा देंगे। इसके अलावा कट्टरपंथी नेता मौलाना फजलुर रहमान ने इमरान खान सरकार को ये अल्टीमेटम भी दिया है कि वो ये न समझे कि उनके पास प्लान नहीं है।

यह भी पढ़ें: तस्वीरों में देखें लखनऊ में छाया स्मॉग का प्रकोप

वैसे जमीयत उलेमा ए- इस्लाम फजल के नेता मौलाना फजलुर रहमान जो अल्टीमेटम इमरान खान को दिया था, उसकी समय सीमा रविवार रात को खत्म हो गई है, जिसके बाद अब पाकिस्तान में अभी भी विरोध-प्रदर्शन जारी रहेगा। 31 अक्टूबर से इस्लामाबाद में आजादी मार्च के हजारों प्रदर्शनकारी जमे हुए हैं।

यह भी पढ़ें: नीतीश कटारा हत्याकांड: SC ने खारिज की विकास यादव की पैरोल, कहा- पूरी करो सजा

पूरा विपक्ष पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान के इस्तीफे की मांग कर रहा है। इसके अलावा मौलाना फजलुर रहमान देश में नया चुनाव और एनआरओ (नेशनल रेकन्सिलिएशन आर्डिनेंस) लाने पर अड़े हुए हैं, जबकि सरकार ने इन मांगों को खारिज कर लगातार खारिज कर रही है। ऐसे में सरकार के खिलाफ विपक्ष प्रदर्शन जारी रखेगा।

यह भी पढ़ें: खतरा बरक़रार! इमरान सरकार नाकाम, हो रही आतंकियों की भर्ती

वहीं, इस मामले में मौलाना फजलुर रहमान का कहना है कि, ‘आज इस्लामाबाद में लॉक डाउन है, आगे हम पूरा मुल्क बंद करा देंगे, हम लोग नहीं रुकेंगे, हमारा संघर्ष जारी रहेगा।’ उन्होंने ये भी कहा कि ये हुजूम तब तक डटा रहेगा, जबतक इमरान खान को सत्ता से बाहर नहीं कर देता है।

बाकी है प्लान B और C

फजलुर रहमान ने बताया कि इस्लामाबाद में प्रदर्शन करना तो उनका प्लान A था, जबकि अभी प्लान-B और C बाकी है। उन्होंने कहा कि वे सोमवार को विपक्ष के नेताओं से मुलाकात करेंगे फिर तय करेंगे कि उन्हें इस्लामाबाद में ही प्रदर्शन करना है या फिर देश के दूसरे शहरों में भी प्रदर्शन को ले जाना है। मौलाना फजलुर रहमान के इस ऐलान के साथ ही इमरान सरकार पर दबाव और भी बढ़ गया है।

Manali Rastogi

Manali Rastogi

Next Story