×

अमेरिका को चेतावनी: तानाशाह की क्रुर बहन ने उठाया सख्त कदम, 4 साल की हिदायत

किम जोंग उन की शक्तिशाली बहन किम यो जोंग ने अमेरिका को कड़ी चेतावनी दी है। किम यो जोंग ने अमेरिकी जो बाइडेन प्रशासन को चेतावनी दी है कि यदि वे 4 साल शांति से सोना चाहते हैं तो कलह पैदा करने वाले कदमों से दूर रहें।

Newstrack
Updated on: 16 March 2021 7:14 AM GMT
अमेरिका को चेतावनी: तानाशाह की क्रुर बहन ने उठाया सख्त कदम, 4 साल की हिदायत
X
किम यो जोंग ने अमेरिकी जो बाइडेन प्रशासन को चेतावनी दी है कि यदि वे 4 साल शांति से सोना चाहते हैं तो कलह पैदा करने वाले कदमों से दूर रहें।
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

प्‍योंगयांग। नॉर्थ कोरिया के महाक्रूर तानाशाह किम जोंग उन की शक्तिशाली बहन किम यो जोंग ने अमेरिका को कड़ी चेतावनी दी है। किम यो जोंग ने अमेरिकी जो बाइडेन प्रशासन को चेतावनी दी है कि यदि वे 4 साल शांति से सोना चाहते हैं तो कलह पैदा करने वाले कदमों से दूर रहें। बता दें, किम यो जोंग का यह बयान ऐसे वक्त पर आया है जब अमेरिका के विदेश मंत्री पहली बार दक्षिण कोरिया और जापान की यात्रा पर इस हफ्ते जा रहे हैं। ऐसा माना जा रहा है कि इस यात्रा के दौरान उत्‍तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम पर वार्ता हो सकती है।

ये भी पढ़ें...नम आंखों से दी गई बलिदानी: लखनऊ के अश्विनी कुमार को अंतिम विदाई, देखें तस्वीरें

तीखी आलोचना

ऐसे में नॉर्थ कोरिया की सरकारी संवाद एजेंसी केसीएनए ने जानकारी देते हुए बताया कि किम यो जोंग ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया के संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास की भी तीखी आलोचना की।

इस बारे में किम जोंग उन ने सरकारी समाचार पत्र रोडोंग सिनमुन से बातचीत में कहा, 'अमेरिका के नए प्रशासन को एक सलाह है जो इलाके में हमारी जमीन पर बारुद की दुर्गंध को फैलाना चाहता है।' उन्‍होंने कहा, 'अगर अमेरिका आने वाले 4 साल के लिए शांति के साथ सोना चाहता है तो यह उसके लिए अच्‍छा होगा कि वह पहले कदम के रूप में इस दुर्गन्ध से दूर रहे।'

kim sister

बता दें, इससे पहले अमेरिका ने कहा था कि वह बीते कई हफ्तों से उत्‍तर कोरिया के साथ राजनयिक संपर्क स्‍थापित करने के प्रयास कर रहा है। उत्‍तर कोरिया ने अभी तक नहीं माना है कि जो बाइडेन अमेरिका के राष्‍ट्रपति बन गए हैं।

जिसके चलते उत्‍तर कोरिया के मिसाइल और परमाणु हथियार कार्यक्रम को लेकर दोनों देशों के बीच में विवाद बना हुआ है। लेकि नउत्‍तर कोरिया अमेरिका के राजनयिक संपर्क स्‍थापित करने के प्रयासों पर कोई जवाब नहीं दे रहा है।

ये भी पढ़ें...Ind vs Eng: जीत के इरादे से उतरेगी टीम इंडिया, ऐसी हो सकती है प्लेइंग इलेवन

किम यो जोंग बेहद क्रूर

दरअसल बहन किम यो-जोंग पहली बार 2018 में चर्चा में आईं, जब उन्होंने दक्षिण कोरिया का दौरा किया। बता दें, वे किम वंश की पहली ऐसी सदस्य थीं जिन्होंने पहली बार दक्षिण कोरिया की धरती पर कदम रखा था। यहां पर वे शीतकालीन ओलंपिक में अपनी टीम के साथ आई थीं। तभी इसी साल उन्हें कई बार किम जोंग उन के साथ मिलकर रणनीति बनाते हुए भी देखा गया।

सूत्रों के मुताबिक विशेषज्ञ इस बात की चेतावनी देते हैं कि किम यो जोंग बेहद क्रूर हैं। ऐसा माना जाता है कि यो जोंग इस बात का फैसला करती थीं कि जोंग उन तक कौन से मुद्दे ले जाए जाने के लिए अहम हैं।

इसके साथ ये भी कहा जाता है कि यो जोंग पार्टी के लोगों को उन्हें सम्मान और डर से पेश आने के लिए कहती थीं। वहीं नॉर्थ कोरिया की मीडिया हमेशा उनका जिक्र करती है क्योंकि वाइस डायरेक्टर का पद भले ही न मिला हो, हैसियत वही है। भले ही किम यो जोंग उत्‍तर कोरियाई तानाशाह की छोटी बहन हैं लेकिन किम यो जोंग बहुत प्रभावशाली और शक्तिशाली हैं।

ये भी पढ़ें...दिल्ली में मिला खतरनाक वायरस: दक्षिण अफ्रीका से आया था संक्रमित, मचा हड़कंप

Newstrack

Newstrack

Next Story