×

प्रत्यर्पण से बचने के लिए नीरव मोदी की नई चाल, अब बनाया चूहे-कीड़े का बहाना

अब सुनवाई के चौथे दिन नीरव मोदी ने प्रत्यर्पण से बचने के लिए नया पैंतरा अपनाते हुए मुंबई की जेलों में चूहे और कीड़े होने की बात कही है।

Ashiki
Published on: 15 May 2020 4:20 AM GMT
प्रत्यर्पण से बचने के लिए नीरव मोदी की नई चाल, अब बनाया चूहे-कीड़े का बहाना
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: धोखाधड़ी और मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों से घिरे नीरव मोदी के खिलाफ प्रत्यर्पणपर ब्रिटेन की अदालत में सुनवाई हो रही है। इसके पहले नीरव मोदी के वकील ने उसके मानसिक स्वास्थ्य का बहाना बनाते हुए मुंबई की आर्थर रोड जेल में मानसिक रोगों के चिकित्सक न होने की दलील दी थी।

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन के बीच देश के कई राज्यों में मजदूरों का प्रदर्शन, प्रशासन में मचा हड़कंप

जेल में चूहे-कीड़े होने की कही बात

अब सुनवाई के चौथे दिन नीरव मोदी ने प्रत्यर्पण से बचने के लिए नया पैंतरा अपनाते हुए मुंबई की जेलों में चूहे और कीड़े होने की बात कही है। दरअसल भारत ने ब्रिटिश अदालत को मुंबई की ऑर्थर रोड जेल का पूरा विवरण दिया है जहां प्रत्यर्पण के बाद नीरव मोदी को रखा जाना है।

भगौड़े नीरव मोदी के वकील ने सुनवाई के दौरान कोर्ट में कहा कि मुंबई की आर्थर रोड जेल में चूहे और कीड़े हैं। साथ ही वकील ने दलील दी कि जेल परिसर में नालियां हैं और पास ही झुग्गी बस्ती भी है, जहां शोर भी बहुत होता है। नीरव मोदी के वकील ने यह भी कहा कि यदि उसे आर्थर रोड जेल में रखा गया तो यह उसके मानवाधिकारों का उल्लंघन होगा।

ये भी पढ़ें: अब नहीं बचेगा कोरोना: चीन के लैब में मारा गया वायरस, खोजे ये चार एंटीबाॅडी

वहीं भारत की ओर से कहा गया कि नीरव मोदी को प्रत्यर्पण के बाद आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 में रखा जाएगा जो कि आर्थिक मामलों से जुड़े अपराधियों के लिए ही बनाया गया है। भारतीय एजेंसियों की ने आर्थर रोड जेल की एक वीडियो भी अदालत में पेश की, जिसमें दिखाया गया कि कहीं भी चूहे नजर नहीं आ रहे।

ये भी पढ़ें: पूर्व सीएम के परिवार में मौत: शोक की लहर, इन दिग्गज नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

सुनवाई सितंबर तक टली

साथ ही बताया गया कि बैरक के पास कोई भी खुला नाला नहीं है। बैरक में प्रत्येक कैदी के लिए भरपूर स्थान भी है। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद ब्रिटेन की अदालत ने मोदी के प्रत्यर्पण मामले पर सुनवाई सितंबर तक टाल दी है। अदालत इस मामले पर सुनवाई सात सितंबर से दोबारा शुरू करेगी।

ये भी पढ़ें: कोरोना: शरीर के इन अंगों को बुरी तरह प्रभावित कर रहा वायरस, नए अध्‍ययन में सामने आई बात

Ashiki

Ashiki

Next Story