तबाही का खौफनाक मंजर: यहां नोवेल कोरोना वायरस का प्रकोप

भारतीय टीचर चीन में पहली विदेशी नागरिक हैं जो सीवियर एक्युट रेस्पायरेटरी सिंड्रॉम (SARS) जैसे वायरस की चपेट में आ चुकी हैं। इस वायरस की चपेट में आने के बाद उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

 नई दिल्ली: एक खतरनाक वायरस ने आजकल चीन में भयंकर तबाही मचाया है। इस नोवेल कोरोना नाम के वायरस के कारण भयंकर  दहशत फैली हुई है। यह वायरस चीन के वुहान और शेनजेन शहर में धीरे-धीरे अपने पैर पसार रहा है। वहीं अब एक भारतीय टीचर भी इस वायरस की चपेट में आ चुकी हैं। और उनकी हालत गंभीर बतायी जा रही है।

भारतीय भी चपेट में 

बता दें कि भारतीय टीचर चीन में पहली विदेशी नागरिक हैं जो सीवियर एक्युट रेस्पायरेटरी सिंड्रॉम (SARS) जैसे वायरस की चपेट में आ चुकी हैं। इस वायरस की चपेट में आने के बाद उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। जिसके बाद प्रीति माहेश्वरी को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया है। प्रीति माहेश्वरी शेंजेनव के इंटरनेशनल स्कूल में टीचर हैं।

ये भी देखें : लखनऊ: घंटाघर में CAA, NRC के खिलाफ महिलाओं का प्रदर्शन जारी

 

 

प्रीति को वेंटिलेटर पर रखा गया है

प्रीति के पति आयुष्मान कोवाल ने बताया कि डॉक्टरों ने वायरस की चपेट में आने की पुष्टि की है। शुक्रवार को प्रीति गंभीर रूप से बीमार हो गई थी। प्रीति के पति ने बताया कि प्रीति आईसीयू में है और उनका इलाज चल रहा है। प्रीति को वेंटिलेटर पर रखा गया है। उन्होंने बताया कि प्रीति बेहोश है और उनसे मिलने के लिए दिन में कुछ घंटों का ही वक्त डॉक्टर देते हैं। डॉक्टरों का कहना है कि इससे उबरने के लिए लंबा वक्त लग जाएगा।

वहीं इस वायरस के कारण लोगों में काफी डर का माहौल है। दरअसल, इस वायरस का संबंध SARS से जुड़ा है। साल 2002-2003 में चीन और हांगकांग में इससे करीब 650 लोगों की चली गई थी। वहीं अब ताजा मामले में वुहान से 17 नए मामले सामने आए हैं। जिसके चलते कुल मामले 62 हो गए हैं।

 

ये भी देखें : रोहित शर्मा ने चहल के लिए मजे, रेसलर ‘द रॉक’ के साथ फोटो शेयर कर किया ट्रोल

बहुत ही खतरनाक है ये नोवेल कोरोना वायरस

WHO की प्राथमिक जांच से मिली जानकारी के मुताबिक यह वायरस सी-फूड से जुड़ा है। कोरोना वायरस विषाणुओं के परिवार का है और इससे लोग बीमार पड़ रहे हैं। यह वायरस ऊंट, बिल्ली और चमगादड़ सहित कई पशुओं में भी प्रवेश कर रहा है। दुर्लभ स्थिति में पशु मनुष्यों को भी संक्रमित कर सकते हैं।