‘इसमें तेरा घाटा, मेरा कुछ नहीं जाता’, कुछ ऐसा है पाकिस्तान का हाल

अब पाकिस्तान को फल और सब्जियों के अलावा आर्टिफिशन जूलरी, कॉस्मेटिक्स, साबुन, फेस वॉश जैसे सामान महंगे पड़ेंगे। दरअसल, जब ये सभी सामान भारत से आते थे तो 15 से 20 फीसदी तक सस्ते होते थे लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

‘इसमें तेरा घाटा, मेरा कुछ नहीं जाता’, कुछ ऐसा है पाकिस्तान का हाल

‘इसमें तेरा घाटा, मेरा कुछ नहीं जाता’, कुछ ऐसा है पाकिस्तान का हाल

नई दिल्ली: पाकिस्तान ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद भारत से होने वाले निर्यात पर पूरी तरह पाबंदी लगा दी है। पाकिस्तान को लग रहा है कि भारत पर इसका असर पड़ेगा लेकिन उल्टा पाकिस्तान को इसका खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: आतंकी हमले पर अलर्ट जारी: बकरीद, रक्षा बंधन, 15 अगस्त पर ISIS की बड़ी साजिश

भारत से निर्यात किये जाने वाले सामानों पर रोक लगाने के बाद पाकिस्तान में टमाटर 300 रुपये किलो हो गये हैं। टमाटर का बढ़े हुए इस दाम से पाकिस्तानी जनता बुरी तरह जूझ रही है। भारत से रोज हरी सब्जियां और टमाटर-प्याज भारी मात्रा में पाकिस्तान निर्यात किया जाता था।

आर्थिक तंगी से गुजर रहा पाकिस्तान

हालांकि, सिर्फ टमाटर या अन्य सब्जियों के ही नहीं, पाकिस्तान में और भी चीजों के दाम बढ़ गए हैं। इसका सीधा असर पाकिस्तान की जनता पर पड़ रहा है। अब आलम ये है कि आर्थिक तंगी से गुजर रहे पाकिस्तान को अब और परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: बाढ़ बनी काल: लगातार मौतों का सिलसिला जारी, हुआ करोड़ो का नुकसान

पाकिस्तान की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, चीन और कोरियाई प्रॉडक्ट्स के मुकाबले भारत का सामान 30 से 35 पर्सेंट तक सस्ता है। यही नहीं, इस सामान के पाकिस्तान आने में समय भी कम लगता है। साथ ही, ढुलाई का खर्च कम रहता है। मगर अब भारत से निर्यात पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई है, जिसकी वजह से पाकिस्तान को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।

पाकिस्तान में हर सामान हुआ महंगा

इन सबके के बावजूद पाकिस्तानी इंडस्ट्री का कहना है कि वह सरकार के फैसले के साथ है। भले ही उसे नुकसान क्यों न उठाना पड़े लेकिन वह कोई भी सामान भारत से नहीं लेंगे। अब पाकिस्तान को फल और सब्जियों के अलावा आर्टिफिशन जूलरी, कॉस्मेटिक्स, साबुन, फेस वॉश जैसे सामान महंगे पड़ेंगे। दरअसल, जब ये सभी सामान भारत से आते थे तो 15 से 20 फीसदी तक सस्ते होते थे लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।