आर्थिक मंदी से जूझ रहा पाकिस्तान, अब बनाया ऐसा रिकॉर्ड

पाकिस्तानी रुपया भी अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अब तक के सबसे निचले स्तर पर जा पहुंचा है। 1 अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 152 के स्तर पर पहुंच गया है।

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में इमरान खान की सरकार आने के बाद से ही पाकिस्तान को आर्थिक मंदी का सामना करना पड़ रहा है। इमरान खान सरकार के कार्यकाल के एक साल के अंदर ही पाकिस्तान को आर्थिक कंगाली से जूझना पड़ रहा है। हालात ऐसे हो गए हैं कि कोई भी देश पाकिस्तान का साथ देने के लिए आगे नहीं बढ़ रहा। आर्थिक कंगाली से जूझ रहा पाकिस्तान दुनिया के सामने मदद के लिए हाथ फैला रहा है। वहीं पाकिस्तान की इस हालत ने अंजाने में एक रिकॉर्ड बना दिया है। दरअसल, इमरान खान सरकार ने एक साल के अंदर कर्ज का रिकॉर्ड लिया है।

कर्ज में डूबा पाकिस्तान-

आंकड़ों के अनुसार, इमरान खान् सरकार के एक साल के कार्यकाल के दौरान देश के कुल कर्ज में पाकिस्तानी रुपयों के हिसाब से 7509 अरब रुपये की वृद्धि हुई है। पाकिस्तानी मीडिया से मिली जानकारी के मुताबिक, कर्ज का आंकड़ों में इतनी वृद्धि हो चुकी है कि इस जानकारी स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान ने पीएम कार्यालय को भिजवा दिया है। स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के अनुसार, अगस्त 2018 से अगस्त 2019 के बीच पाकिस्तान नें 2804 अरब रुपये का कर्ज ले लिया है। वहीं घरेलू बैंकों से 4705 अरब रुपये का कर्ज लिया है।

यह भी पढ़ें: शिखर वार्ता: राष्ट्रपति जिनपिंग, पीएम मोदी संग इन मुद्दों पर करेंगे चर्चा

पिछले 2 महीनों से ज्यादा बिगड़ी हालत-

स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के आंकड़ॆं के अनुसार, पिछले दो महीनों में पाकिस्तान की आर्थिक स्थिति में सबसे ज्यादा खराबी आई है। पाकिस्तान के कर्ज में पिछले दो महीनों में 1.43 फीसदी की बढ़ोत्तरी हुई है। इस समय पाकिस्तान का मौजूदा कर्ज 32,240 अरब रुपये है। पिछले साल 2018 में ये कर्ज 24,732 अरब रुपये था।

आए दिन डॉलर के मुताबिक पाकिस्तानी रुपयों में कमजोरी आ रही है, जिसकी वजह से मार्च में पाकिस्तान में मंहगाई दर पिछले साल के शीर्ष स्तर 9.41 फीसदी जा पहुंचा था। वहीं अप्रैल में मंहगाई दर 8.8 फीसदी दर्ज हुआ था।

यह भी पढ़ें: स्वामी चिन्मयानंद के मामले में पीड़िता का बयान दर्ज कराकर उसे वापस ले जाया गया

खाने-पीने की कीमतों में हुआ इजाफा-

पाकिस्तान में आर्थिक स्थिति खराब होने की वजह से खाने-पीने में भी मंहगाई दी गई है। पाकिस्तान में दूध 180 रुपये प्रति लीटर के दाम से बिक रहा था। वहीं सेब 400 रुपये प्रति किलो जा पहुंचा। साथ ही संतरे 360 रुपये और केले 150 रुपये दर्जन बिकने रहे हैं। पाकिस्तान में मटन 1100 रुपये किलो के हिसाब से बिक रहा है। बता दें कि मार्च के मुकाबले मई में प्याज के दाम में 40 फीसदी, टमाटर के दाम में 19 फीसदी और मूंग की दाल के दाम में 13 फीसदी का इजाफा हुआ था। वहीं गुड़, शक्कर, फल्लियां, मछली, मसाले, घी, चावल, आटा, तेल, चाय, गेंहू की कीमतों में 10 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

प्रति व्यक्ति आय में आई कमी-

इतना ही नहीं प्रति व्यक्ति आय भी प्रति वर्ष 1,652 डॉलर से घटकर 1,497.3 डॉलर हो गई है। पाकिस्तान के आर्थिक सलाहकार के अनुसार, पाकिस्तान करीब 100 अरब डॉलर का विदेशी कर्ज वापस लौटाने की हालत में नहीं है।

वहीं पाकिस्तानी रुपया भी अमेरिकी डॉलर के मुकाबले अब तक के सबसे निचले स्तर पर जा पहुंचा है। 1 अमेरिकी डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 152 के स्तर पर पहुंच गया है।

यह भी पढ़ें: धनतेरस पर सुस्त रहेगा मार्केट, इस वजह से लोग नहीं खरीद रहे सोना