पाकिस्‍तान का काला सच: भारत के खिलाफ अब ये बड़ी प्लानिंग, अलर्ट पर सेना    

पंजाब के लुधियाना में पिछले साल एक खालिस्‍तानी माड्यूल के सामने आने के बाद हथियारों की तस्‍करी के मामलों की जांच शुरू कर दी गई। ये जांच दो संदिग्‍धों से की गई पूछताछ  के आधार पर शुरू की गई है।

नई दिल्‍ली: पाकिस्तान भारत में फिर से खालिस्तानी आतंकवाद की जड़ों को फैलाने की पुरजोर कोशिश कर रहा है। पाकिस्तान के इस कदम को लेकर भारत के केंद्रीय गृह मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारी सतर्क हो गये हैं। अब उनकी नजर भारत में पाकिस्‍तान की ओर से भेजे जा रहे हथियारों को लेकर मिल रही इंटेलिजेंस रिपोर्ट्स पर है। इस रिपोर्ट में यह सामने आया है कि पाकिस्‍तान भारत में खालिस्‍तानी आतंकवाद  को फिर खड़ा करना चाहता है।

बता दें कि पंजाब के लुधियाना में पिछले साल एक खालिस्‍तानी माड्यूल के सामने आने के बाद हथियारों की तस्‍करी के मामलों की जांच शुरू कर दी गई। ये जांच दो संदिग्‍धों से की गई पूछताछ  के आधार पर शुरू की गई है।

ये भी देखें : मुजफ्फरपुर शेल्टर होम कांड: फिर टली आरोपितों की सजा, अब 20 जनवरी को फैसला

पाकिस्‍तानी हैंडलर्स ने खालिस्‍तान जिंदाबाद फोर्स  के वरिष्‍ठ लोगों से की मुलाकात

नवंबर, 2019 में लुधियाना से एक नर्स  और एक ड्राइवर को गिरफ्तार किया गया था। नर्स फरीदकोट  में काम करती थी, जबकि ड्राइवर दुबई  में नौकरी करता था। इसके अलावा मिले इंटेलिजेंस इनपुट के आधार पर गृह मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकारियों का मानना है कि हरियाणा और राजस्‍थान के रास्‍ते भारी मात्रा में हथियार भारत में भेजे जा चुके हैं।

सूत्रों के मुताबिक, भारत में खालिस्‍तानी आतंकवाद को जिंदा करने की कोशिश कर रहे पाकिस्‍तानी हैंडलर्स ने बब्‍बर खालसा इंटरनेशनल और खालिस्‍तान जिंदाबाद फोर्स  के वरिष्‍ठ लोगों से हाल में पाकिस्‍तान में मुलाकात की थी।

ये भी देखें : ‘हिंदू आतंकी’ बयान पर घमासान, BJP-कांग्रेस आमने सामने

भारत में मानव तस्‍करी के लिए रास्‍तों की तलाश

गृह मंत्रालय के वरिष्‍ठ अधिकार यह आकलन कर रहे हैं कि खालिस्‍तानी आतंकियों के प्रशिक्षण के लिए पाकिस्‍तान में भारतीय सीमा के नजदीक कोई ट्रेनिंग कैंप बनाया गया है या नहीं। साथ ही यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि पाकिस्‍तान भारत में हथियार, ड्रग्‍स, विदेशी मुद्रा, मानव तस्‍करी के लिए पंजाब से सटे कौन से रास्‍तों का इस्‍तेमाल करता है। दरअसल, इस सब जानकारी के जरिये गृह मंत्रालय के अधिकारी ये जानना चाहते हैं कि खालिस्‍तानी आतंकी किस रास्‍ते से भारत में घुसपैठ कर सकते हैं।

ये भी देखें : अभी-अभी शोक में डूबा कपूर खानदान, नहीं रही ये दिग्गज, बॉलीवुड इंडस्ट्री में..

पंजाब पुलिस की जांच के मुताबिक, पकड़े गए दोनों आरोपियों को पंजाब में आतंकवाद को जिंदा करने का काम सौंपा गया था। इसके लिए उन्‍हें विदेश से पैसा मिल रहा था।