ट्रंप के अकाउंट पर हल्ला: निजी बैंक खाते की जानकारी हुई लीक, जाने पूरा मामला

ये उस समय हुआ जब ट्रंप की प्रेस सेक्रेटरी Kayleigh McEnany पत्रकारों को कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति द्वारा किए गए कामों और फैसलों की जानकारी दे रही थीं।

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस से जूझ रही है। इस वायरस के प्रकोप से दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका भी अछूता नहीं रह गया है। अमेरिका में इस वायरस को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। अमेरिका की ऐसी हालत के लिए लोग राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को भी निशाना बना रहे हैं। ऐसे में ट्रंप एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए हैं। लेकिन इस बार वो कोरोना वायरस की वजह से नहीं आए हैं। असल में प्रेस सेक्रेटरी ने गलती से ट्रम्प के निजी बैंक अकाउंट की जानकारी सार्वजनिक कर दी। ये खबर आग की तरह अमेरिका सहित पूरी दुनिया में फ़ैल गई। जिसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रम्प एक बार फिर सुर्ख़ियों में आ गए।

ट्रंप के निजी बैंक खातों की जानकारी हुई सार्वजानिक

ये पूरा वाकया उस समय हुआ जब डोनाल्ड ट्रंप की प्रेस सेक्रेटरी Kayleigh McEnany पत्रकारों को कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति के द्वारा किए गए कामों और फैसलों की जानकारी दे रही थीं। उस समय जानकारी देते हुए दस्तावेजों को दिखाते वक्त Kayleigh McEnany ने गलती से ट्रंप के निजी बैंक खातों की जानकारी भी सार्वजानिक कर दी।

ये भी पढ़ें-   अभिनेत्री सोनाक्षी की बढ़ी मुश्किलें, दाखिल हुई 100 पन्नों की चार्जशीट

दरअसल शुक्रवार को Kayleigh McEnany ने ये एलान किया था कि राष्ट्रपति ट्रंप कोरोना वायरस से जंग लड़ने के लिए अपनी तिमाही आमदनी (वेतन) का चेक स्वास्थ्य और मानव सेवा विभाग को बतौर दान देंगे।

बाद में दी गई सफाई

इसी एलान के बाद जब प्रेस सचिव Kayleigh McEnany दान में दिए जाने वाले 1 लाख डॉलर की जानकारी दे रहीं थीं। तो वो 1 लाख डॉलर की चेक की तस्वीरें पत्रकारों को दिखा रहीं थीं। इसी दौरान प्रेस सचिव Kayleigh McEnany से धोखे से राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के निजी बैंक खातों की जानकारी भी गलती से सार्वजनिक हो गई। बाद में इस घटना को लेकर एक अधिकारी की ओर से एक मीडिया प्रकाशन को बताया गया कि वो अपना वेतन इस वायरस के इलाज को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए दे रहे थे।

ये भी पढ़ें-   जनपद एटा में आइसोलेशन वार्ड में संक्रमित किशोरी की उपचार के दौरान मौत

लेकिन मीडिया ने इसे प्रमुखता देने की जगह शर्मनाक कारण ढूंढ निकाला। तथ्यों को रिपोर्ट करने की जगह चेक असली है या नहीं इस पर ध्यान केंद्रित किया गया। हालांकि, निजी जानकारी सार्वजनिक होने के बाद दूसरों द्वारा हैकिंग में इसके इस्तेमाल किए जाने का जोखिम बना रहता है