×

राष्ट्रपति जिंगपिंग कर रहे चीन को बर्बाद, देश में ही उठी विरोध की आवाज

अपनी रणनीतियों के कारण दुनिया के कई बड़े देशों की आलोचना का शिकार हो रहे राष्ट्रपति जिनपिंग खुद की पार्टी के लोगों का विरोध झेल रहे हैं।

Shivani
Updated on: 18 Aug 2020 5:34 PM GMT
राष्ट्रपति जिंगपिंग कर रहे चीन को बर्बाद, देश में ही उठी विरोध की आवाज
X
President Jinping leading china into disaster facing own communist party opposition
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली: चीन की हरकतों के चलते दुनिया के कई बड़े देश उसके खिलाफ हो गए हैं। भारत, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन और जापान तो खुल कर चीन का विरोध कर रहे हैं लेकिन अब अपनी रणनीतियों के कारण अन्य देशों की आलोचना का शिकार हो रही जिनपिंग सरकार खुद के लोगों की भी आलोचना झेल रही है। रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन के एक राजनीतिक स्कूल के पूर्व प्रोफेसर ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग पर देश को बर्बाद करने का आरोप लगाया है।

चीन के सेंट्रल पार्टी स्कूल की पूर्व प्रोफेसर काई शिआ ने लगाया जिनपिंग पर आरोप

चीन के एक प्रमुख राजनीतिक स्कूल की पूर्व प्रोफेसर काई शिआ ने राष्ट्रपति शी जिनपिंग पर गंभीर आरोप लगाए। काई शिआ चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के 'सेंट्रल पार्टी स्कूल' में लोकतांत्रिक राजनीति की प्रोफेसर रहीं हैं। उनके मुताबिक, जिनपिंग का अपनी ही पार्टी के भीतर काफी विरोध हो रहा है।

President Jinping leading china into disaster facing own communist party opposition

शिआ बोली देश को बर्बाद कर रहे जिनपिंग

एक मीडिया इंटरव्यू में काई शिआ ने कहा कि जिनपिंग अपने ही देश को बर्बाद कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि जिनपिंग चीन को तबाही की ओर ले जा रहे हैं। बता दें कि इसके पहले सोमवार को ही काई शिआ को उनकी पार्टी से निकल दिया गया था। ऐसा एक ऑडियो सामने आने के बाद किया गया, जिसमे वे जिनपिंग की आलोचना कर रही थीं।

ये भी पढ़ेंः बीसीसीआई ड्रीम-11 पर मेहरबान, मगर इसमें भी लगा है चीनी कंपनी का पैसा

राष्ट्रपति की आलोचना करने पर पार्टी ने शिआ को निकाला

पार्टी से निकाले जाने के बाद शिआ ने कहा, 'जिनपिंग के शासन में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी विकास के लिए काम नहीं कर रही, बल्कि यह विकास में बाधा बन रही है। मैं मानती हूं कि पार्टी से बाहर होने की इच्छा रखने वाली मैं अकेली नहीं हूं। मैं कई साल पहले ही पार्टी छोड़ने का मन बना चुकी थी।'

ये भी पढ़ेंः देश का सबसे बड़ा दानी एक भिखारी, किया ऐसा कारनामा, जान रह जाएंगे दंग

जिनपिंग सेंट्रल पार्टी स्कूल के प्रमुख रह चुके

बताया गया कि काई शिआ 1992 से ही चीन के 'सेंट्रल पार्टी स्कूल' में प्रोफेसर थीं। सेंटल स्कूल ने अपने एक बयान में कहा कि काई शिआ की बयानबाजी से देश की प्रतिष्ठा को क्षति पहुंची। वहीं शिआ को पार्टी से निकाले जाने का स्कूल ने समर्थन करते हुए ख़ुशी जाहिर की। बता दें कि एक दौर में शी जिनपिंग सेंट्रल पार्टी स्कूल के प्रमुख हुआ करते थे।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story