×

प्रधानमंत्री की एंट्री बैन: नहीं जाने को मिला यहाँ, इंतजार में खड़ी रहीं PM

ऐसे में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार, न्यूजीलैंड सरकार ने 2 दिन पहले ही लॉकडाउन के नियमों में ढील देते हुए रेस्टोरेंट और कैफे खोलने की इजाजत दी है।

Vidushi Mishra
Updated on: 17 May 2020 1:44 PM GMT
प्रधानमंत्री की एंट्री बैन: नहीं जाने को मिला यहाँ, इंतजार में खड़ी रहीं PM
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

नई दिल्ली। दुनिया आज कोरोना जैसी महामारी से जूझ रही है। कई दिनों से चल रहे लॉकडाउन के बाद भी कोरोना के आकंड़ें थमने का नाम नहीं ले रहे हैं और कहीं-कहीं जहां लॉकडाउन में थोड़ी बहुत ढील भी दी गई है वहां है। इसी सिलसिले में न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा ऑर्डन अपने पार्टनर के साथ एक कैफे में गए। जब कैफे में पहुंची तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए कैफे मैनेजर ने न्यूजीलैंड के प्रधानमंंत्री को अंदर आने से मना कर दिया।

ये भी पढ़ें....सख्त आदेश: 90 किलो पोटी करना होगा सब को, न होने पर मिलेगी कड़ी सजा

रेस्टोरेंट और कैफे खोलने की इजाजत

ऐसे में सामने आई एक रिपोर्ट के अनुसार, न्यूजीलैंड सरकार ने 2 दिन पहले ही लॉकडाउन के नियमों में ढील देते हुए रेस्टोरेंट और कैफे खोलने की इजाजत दी है।

लेकिन इसके लिए कुछ नियमों का प्रावधान भी रखा गया। न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा ऑर्डन अपने पार्टनर क्लॉर्क ग्रेफोर्ड के साथ वेलिंगटन के मशहूर कैफे ओलिव में पहुंची थीं।

अब जैसे ही जेसिंडा उस कैफे में अंदर जाने लगीं तो उस कैफे के मैनेजर ने उन्हें यह कह कर रोक दिया कि बैठने की जगह नहीं है और सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का हवाला दिया।

वहीं कैफे में पहले से ही काफी लोग थे और टेबल खाली नहीं थी। इसके बाद ऑर्डन भी बाकी ग्राहकों की तरह ही टेबल खाली होने का इंतजार करती रहीं।

ये भी पढ़ें....सीमा सुरक्षा बल बीते 24 घंटे में कोरोना के 10 नए मामले आए सामने

45 मिनट के इंतजार के बाद

अंदर जाने पर कैफे के मैनेजर ने पीएम को कहा कि जैसे ही कोई सीट खाली होगी, उन्‍हें ऑफर कर दी जाएगी। सामने आई रिपोर्ट के अनुसार, करीब 45 मिनट के इंतजार के बाद पीएम के बैठने के लिए कैफे में व्यवस्था हो गई।

न्यूजीलैंड की इस पूरी घटना के बाद कैफे के मालिकों पर कोई आरोप नहीं लगा है। जबकि पीएम की तरफ से कहा गया कि यह उनकी गलती है क्‍योंकि वे कैफे के अंदर रिजर्वेशन कराना भूल गई थीं।

मिली रिपोर्ट के अनुसार, यह घटना तब सामने आई जब जोए नाम के यूजर ने ट्वीट किया कि हे भगवान जेसिंडा ऑर्डन ने ऑलिव में प्रवेश करने की कोशिश की लेकिन जगह नहीं होने की वजह से उन्हें मना कर दिया गया।

ये भी पढ़ें....1 साल 12 लाख मौत: तम्बाकू पर प्रतिबंध, थूकने पर भी बैन लगाने की अपील

बुकिंग की व्यवस्था नहीं कर सका

इसी सिलसिले में इस ट्वीट पर प्रधानमंत्री के पार्टनर क्लॉर्क ग्रेफोर्ड ने जवाब देते हुए लिखा कि मुझे इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए, मैं अन्य स्थान पर बुकिंग की व्यवस्था नहीं कर सका। जब कोई जगह खाली होती है तो उसे पाने की कोशिश करना बहुत अच्छा लगता है। उन्होंने कैफे वाले की सर्विस की तारीफ भी की।

आपको बता दें कि पीएम जेसिंडा ने ही घोषणा की थी कि न्यूजीलैंड में व्यापक स्तर पर कम्युनिटी ट्रांसमिशन नहीं हुआ है। उन्‍होंने कुछ व्यवसायों को खोलने की इजाजत देते हुए सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी करने को कहा था।

लेकिन जेसिंडा ने यह भी ऐलान किया था कि हम अर्थव्यवस्था तो खोलने जा रहे हैं, लेकिन हम लोगों की सोशल लाइफ नहीं खोलने जा रहे हैं।

ये भी पढ़ें....लॉक डाउन में टूटी साढ़े नौ सौ वर्ष पुरानी परंपरा, नहीं आईं बाले मियां की बारातें

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story