पाकिस्तानी एयर फोर्स के पहले हिंदू पायलट बने राहुल देव, छा गए सोशल मीडिया पर

पाकिस्तानी एयर फोर्स के इतिहास में पहली बार एक रिकॉर्ड बन गया है। वहां की एयरफोर्स में एक हिंदू पायलट का सिलेक्शन हुआ है। पायलट…

इस्लामाबाद: पाकिस्तानी एयर फोर्स के इतिहास में पहली बार एक रिकॉर्ड बन गया है। वहां की एयरफोर्स में एक हिंदू पायलट का सिलेक्शन हुआ है। पायलट का नाम है- राहुल देव। वह पाकिस्तानी एयर फोर्स में जनरल ड्यूटी पायलट के पद पर चयनित हुए हैं।

ये भी पढ़ें: लाॅकडाउन: पहले दिन बेपरवाह नजर आए लोग, फिजिकल डिस्टेंसिंग व मास्क से बेखबर

पाकिस्तानी आर्मी में भी हैं हिंदू

पाकिस्तानी मीडिया के अनुसार, राहुल देव सिंध प्रांत के हैं। वहां के थारपरकर जिले में हिंदू समुदाय के लोग बड़ी तादाद में रहते हैं। ऑल पाकिस्तान हिंदू पंचायत के सचिव रवि दवानी ने राहुल देव के पाकिस्तानी एयर फोर्स में पायलट के पद पर सिलेक्शन होने की खुशी जताई है। उन्होंने कहा है कि अल्पसंख्यक समुदाय के कई लोग पाकिस्तानी आर्मी और सिविल सर्विसेज में पहले से भी सेवा दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें: सरकार ने लोगों को दिया तगड़ा झटका, इतनी महंगी हो गई शराब

सोशल मीडिया पर छा गए हैं

सोशल मीडिया पर भी राहुल देव की खूब चर्चा और प्रशंसा हो रही है। पाकिस्तान में कई हिंदू डॉक्टर्स भी हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकार अल्पसंख्यकों पर ध्यान देती है तो आने वाले दिनों में और भी कई राहुल देव देश की सेवा के लिए तैयार मिलेंगे। एक पिछड़े इलाके से होने के बावूजद राहुल ने पाकिस्तानी एयर फोर्स में जनरल ड्यूटी पायलट की बड़ी पोस्ट हासिल कर ली। इसी को लेकर सोशल मीडिया पर राहुल देव की इस उपलब्धि को असाधारण बताया जा रहा है।

ये भी पढ़ें: जिला आयुक्त ने दिए कड़े निर्देश, अस्पतालों को लेकर कही ये बात

बहुत ही पिछड़े इलाके से आते हैं राहुल

जिस जिले से राहुल देव आते हैं वहां का मानव विकास सूचकांक पूरे सिंध प्रांत में सबसे खराब है। मूलभूत ढांचा, स्वास्थ्य सुविधाएं और शिक्षा व्यवस्था की स्थिति बुरी है। पिछले कुछ वर्षों में जिले की स्थिति खाद्यान्न और जल संकट की वजह से और खराब चल रही है। इतनी सारी चुनौतियों के बावजूद राहुल देव ने एक मिसाल कायम की है।

ये भी पढ़ें: युवा वैज्ञानिकों ने तैयार की इतनी सस्ती जांच किट, फटाफट देगी कोरोना की रिपोर्ट

पाकिस्तानी पीएम इमरान के एलान हो रहे झूठ साबित

बता दें कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने 2018 के चुनाव के समय एलान किया था कि वह अल्पसंख्यकों के नागरिक, सामाजिक और धार्मिक अधिकारों की सुरक्षा करेंगे। हालांकि, सत्ता पाने के बाद भी उन्होंने अल्पसंख्यकों के लिए कुछ किया नहीं। पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को अभी तक वह अधिकार और सम्मान हासिल नहीं हुआ, जो उन्हें मिलना चाहिए था।

ये भी पढ़ें: कोरोना का अजीब रहस्य: वैज्ञानिक भी हैरान, मरीजों में दिखे ये बदलाव

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बने रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलो करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।