×

आसमान से दौड़ी तबाही: तेजी से आ रही धरती पर, नासा की हालत खराब

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही का जंजाल बिछा रखा है। ऐसे में इन बढ़ते खतरो के बीच धरती से दूर स्पेस यानी अंतरिक्ष में आज एक भयानक खगोलीय घटना होने वाली है। 

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 24 July 2020 6:42 AM GMT

आसमान से दौड़ी तबाही: तेजी से आ रही धरती पर, नासा की हालत खराब
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ने दुनियाभर में तबाही का जंजाल बिछा रखा है। ऐसे में इन बढ़ते खतरो के बीच धरती से दूर स्पेस यानी अंतरिक्ष में आज एक भयानक खगोलीय घटना होने वाली है। अमेरिका अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने अलर्ट जारी कर बताया है कि 24 जुलाई को 170 मीटर बड़ा एक उल्का पिंड(एस्टेरॉयड) पृथ्वी के बहुत पास से गुजरेगा। बेहद पास से गुजरने वाले इस उल्का पिंड का नाम 'एस्टेरॉयड 2020 एनडी' रखा गया है। यह उल्का पिंड, काफी तेज रफ्तार से पृथ्वी के पास से गुजरेगा।

ये भी पढ़ें... फोन की बंपर सेल: Vivo X50 और X50 प्रो पर भारी छूट, मिल रहा हजारों का फायदा

पृथ्वी से करीब से होकर गुजरेगा

नासा की तरफ से चेतावनी के मुताबिक, उल्का पिंड-एस्टेरॉयड 2020 एनडी 48,000 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से पृथ्वी के पास से गुजरेगा। यह उल्का पिंड पृथ्वी से करीब .034 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट (50 लाख 86 हजार 328 किलोमीटर) दूर से होकर गुजरेगा।

यह उल्का पिंड 170 मीटर बड़ा बताया जा रहा है। इसको लेकर नासा ने पूर्व चेतावनी जारी कर दी है। नासा ने अपने बयान में इस उल्का पिंड(एस्टेरॉयड) की व्याख्ता करते हुए कहा है कि पृथ्वी से इस उल्का पिंड की दूरी इसे संभावित रूप से खतरनाक बनाती है।

एस्टेरॉयड से खतरे की संभावना

नासा ने कहा है कि 0.05 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट या उससे कम की दूरी से पृथ्वी के पास से गुजरने वाले उल्का पिंड(एस्टेरॉयड) खतरनाक होते हैं। एस्टेरॉयड 2020 एनडी(Asteroid 2020 ND) पृथ्वी से करीब .034 एस्ट्रोनॉमिकल यूनिट (50 लाख 86 हजार 328 किलोमीटर) दूर से गुजरेगा।

ये भी पढ़ें...चुनाव आयोग की खुली पोल: BJP आईटी सेल को दी ये जिम्मेदारी, लगे गंभीर आरोप

लेकिन नासा ने कहा है कि यह जरूरी नहीं है कि इसका असर पृथ्वी पर पड़ेगा। नासा ने यह भी कहा कि भले ही उल्का पिंड को PHA के रूप में वर्गीकृत किया गया हो, लेकिन यह पृथ्वी पर जरूरी प्रभाव नहीं डालेगा। इसका मतलब केवल यह है कि इस एस्टेरॉयड से खतरे की संभावना है।

द प्लेनेटरी सोसायटी के अनुसार, अंतरिक्ष(स्पेस) में तीन फीट के लगभग एक अरब उल्का पिंड(एस्टेरॉयड) मौजूद है, लेकिन इनसे पृथ्वी को कोई खतरा नहीं है। जिससे अब मुश्किले इतनी ज्यादा नहीं दिखाई दे रही हैं।

ये भी पढ़ें...दोस्तों की धोखेबाजी: अपने ही यार को दी दर्दनाक मौत, देख कांप उठे लोग

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story