पहला मिशन मंगल लॉन्च करने जा रहा ये देश, इस दिन होगा लॉन्च

संयुक्त अरब अमीरात (UAE) 15 जुलाई को पहली बार मंगल ग्रह के लिए मिशन लॉन्च करने जा रहा है। ऐसा करने वाला UAE अरब देशों की दुनिया में पहला देश होगा।

Published by Shreya Published: June 9, 2020 | 4:37 pm

अबू धाबी: संयुक्त अरब अमीरात (UAE) 15 जुलाई को पहली बार मंगल ग्रह के लिए मिशन लॉन्च करने जा रहा है। ऐसा करने वाला UAE अरब देशों की दुनिया में पहला देश होगा। अगले 40 दिनों के अंदर संयुक्त अरब अमीरात अपना मंगल मिशन लॉन्च कर देगा। यह मिशन अगले साल फरवरी तक मंगल ग्रह की कक्षा में पहुंचेगा। इस मिशन के जरिए UAE यह दिखाना चाहता है कि वह भी अंतरिक्ष की दुनिया में आगे बढ़ रहा है।

संयुक्त अरब अमीरात लॉन्च करेगा ‘होप मार्स मिशन’

15 जुलाई को संयुक्त अरब अमीरात ‘होप मार्स मिशन’ लॉन्च करेगा। इसकी तैयारी साल 2014 से ही चल रही थी। इस मिशन के प्रोजेक्ट मैनेजर ओमरान शराफ ने बताया कि हम चाहते हैं कि संयुक्त अरब अमीरात (UAE) दुनिया के उन देशों में शामिल हो जाए जो मंगल तक पहुंच चुके हैं।

यह भी पढ़ें: जमातियों की हालत खराब, यूपी के 20 जिलों में पुलिस ने दाखिल किया आरोपपत्र

मार्शियन ईयर और क्लाइमेट के बारे में देगा जानकारी

उन्होंने बताया कि हम ऐसा सैटेलाइट लॉन्च करेंगे जो मंगल ग्रह के चारों तरफ उसकी कक्षा में चक्कर लगाएगा। जो हमें पूरे मार्शियन ईयर और वहां के क्लाइमेट के बारे में जानकारी देगा।

इस बारे में भी देगा जानकारी

वहीं मिशन की डिप्टी प्रोजेक्ट मैनेजर सारा-अल-अमीरी ने बताया कि यूएई का मंगल मिशन हमें उन वजहों के बारे में बताएगा किमंगल ग्रह के वातावरण में लगातार बदलाव क्यों हो रहे हैं? मंगल ग्रह की सतह पर कितनी मात्रा में ऑक्सीजन और हाइड्रोजन है।

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान से आई आफत: इस राज्य में मचेगा टिड्डी दल का आतंक, कई शहरों में अलर्ट

200 से ज्यादा संस्थानों के साथत साझा किए जाएंगे डेटा

उन्होंने बताया कि मंगल ग्रह से मिलने वाले डेटा को हम दुनिया भर के 200 से ज्यादा संस्थानों के साथ स्टडी करने के लिए साझा करेंगे। इसमें अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा भी शामिल है। इसके अलावा हमारे देश में भी उन आंकड़ों की जांच होगी और उसकी स्टडी की जाएगी।

अब देश के पास इंजीनियरिंग टैलेंट और साइंटिफिक बेस भी है

प्रोजेक्ट मैनेजर ओमरान शराफ ने कहा कि 50 साल पहले देश बने यूएई के पास पैसा तो बहुत है, लेकिन अब इंजीनियरिंग टैलेंट और साइंटिफिक बेस भी है। उन्होंने मिशन की सफलता को लेकर कहा कि 50 फीसदी मिशन मंगल फेल हो जाते हैं। इसलिए इसकी सफलता की गारंटी तो नहीं लेता लेकिन पूरी कोशिश करेंगे।

यह भी पढ़ें: फिर फंस गईं एकता: देनी होगी करोड़ों की पेनेल्टी, अब भाऊ ने भेजा लीगल नोटिस

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App