पत्रकार खशोगी की हत्या पर UN ने कहा, मर्डर में सऊदी युवराज के हाथ होने का सबूत

संयुक्त राष्ट्र की एक स्वतंत्र विशेषज्ञ ने बुधवार को कहा कि पत्रकार जमाल खशोगी की पिछले साल अक्टूबर में हुई हत्या से सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान का संबंध होने के ‘‘ठोस सबूत’’ हैं। इसके साथ ही उन्होंने सलमान की निजी विदेशी संपत्तियों पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया।

जिनेवा: संयुक्त राष्ट्र की एक स्वतंत्र विशेषज्ञ ने बुधवार को कहा कि पत्रकार जमाल खशोगी की पिछले साल अक्टूबर में हुई हत्या से सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान का संबंध होने के ‘‘ठोस सबूत’’ हैं। इसके साथ ही उन्होंने सलमान की निजी विदेशी संपत्तियों पर प्रतिबंध लगाने का आह्वान किया।

विश्व निकाय की न्याय से इतर हत्या मामलों की विशेष प्रतिनिधि एग्नेस कल्लामार्ड की नयी रिपोर्ट में खशोगी की हत्या के पीछे सऊदी युवराज की संभावित सीधी भूमिका के बारे में आरोपों का विस्तृत विवरण है। स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ कल्लामार्ड ने संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुतारेस से मामले में औपचारिक आपराधिक जांच शुरू करने का भी आग्रह किया।

यह भी पढ़ें…यहां PUBG के खिलाफ जारी हुआ फतवा, बताया- इस्लाम की तौहीन

खशोगी की दो अक्टूबर को इस्तांबुल स्थित सऊदी वाणिज्य दूतावास में हत्या कर दी गई थी। वह वाशिंगटन पोस्ट के लिए काम करते थे और सऊदी युवराज के आलोचक थे। शुरू में सऊदी अधिकारियों ने कहा था कि उन्हें खशोगी के बारे में कुछ पता नहीं है, लेकिन बाद में कहा कि वाणिज्य दूतावास में उनकी हत्या दुष्ट तत्वों द्वारा की

सऊदी अभियोजकों ने मामले में युवराज को किसी भी तरह के आरोपों से दोषमुक्त कर दिया है। कल्लामार्ड ने कहा कि उनकी जांच में ‘‘स्थापित हुआ है कि इस संबंध में ठोस सबूत है जिससे युवराज सहित उच्च स्तर के सऊदी अधिकारियों की व्यक्तिगत जांच आगे आवश्यक हो जाती है।’’

यह भी पढ़ें…खांसी, जुकाम से लेकर इन बिमारियों में फायदा करती है अदरक, जानें फायदे

संयुक्त राष्ट्र विशेषज्ञ ने उल्लेख किया कि खशोगी की हत्या के बाद अब तक जारी अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध हत्या से संबंधित कमान श्रृंखला और वरिष्ठ नेतृत्व की जिम्मेदारियों से जुड़े प्रमुख सवालों का समाधान करने में विफल रहे हैं।

उन्होंने कहा कि खशोगी की हत्या में युवराज की जिम्मेदारियों से संबंधित ठोस सबूत के मद्देनजर इस तरह के प्रतिबंधों में तब तक युवराज और विदेशों में स्थित उनकी निजी संपत्तियों को भी शामिल किया जाना चाहिए जब तक कि यह सबूत नहीं मिला जाता कि हत्या के मामले में युवराज की कोई भूमिका नहीं है।

यह भी पढ़ें…फतेहपुर में बस-ट्रक की टक्कर से सात यात्रियों की मौत, 25 घायल

विशेषज्ञ ने कहा कि सऊदी अरब और तुर्की द्वारा अब तक की गई जांच अंतरराष्ट्रीय मानकों को पूरा करने में विफल रही हैं। रिपोर्ट में कहा गया कि अपराध स्थल की ‘‘पूरी तरह से सफाई किए जाने से’’ संकेत मिलता है कि सऊदी जांच अच्छी भावना से नहीं की गई और यह न्याय को नष्ट करने के बराबर है।

कल्लामार्ड ने कहा कि इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि गुतारेस मामले में आधिकारिक अंतरराष्ट्रीय आपराधिक जांच शुरू कराएं। उन्होंने अमेरिका की संघीय जांच एजेंसी एफबीआई का भी आह्वान किया कि वह मामले की जांच करे।

एएफपी