अमेरिका का बड़ा बयान, चीन के खिलाफ भारत को देंगे सैन्य मदद, बौखलाया ड्रैगन

भारत और चीन में तनाव के बीच अमेरिका ने बड़ा ऐलान किया है। अमेरिकी ने कहा कि अगर युद्ध होता है तो भारती सैन्य मदद करेगा। अमेरिका ने चीन को सख्त संदेश दिया है।

नई दिल्ली: भारत और चीन में तनाव के बीच अमेरिका ने बड़ा ऐलान किया है। अमेरिकी ने कहा कि अगर युद्ध होता है तो भारती सैन्य मदद करेगा। अमेरिका ने चीन को सख्त संदेश दिया है।

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के चीफ ऑफ स्‍टाफ मार्क मेडोस ने कहा कि प्रशांत महासागर हो या उसके आगे हम अपनी प्रभावी शक्ति की भूमिका से पीछे नहीं हटेंगे।

मार्क मेडोस ने चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि हमारा रुख सख्‍त रहेगा फ‍िर चाहे वह भारत के साथ चीन के विवाद से जुड़ा हुआ हो या कहीं और। उन्‍होंने यह भी कहा कि चीन की सीमा से सटा कोई भी देश पेइचिंग की आक्रामक कार्रवाई से सुरक्षित नहीं बचा है।

यह भी पढ़ें…विकास दुबे की लव स्टोरी: दोस्त की बहन से प्यार, फिर ऐसे की शादी

इस तनाव के बीच साउथ चाइना सी में दो एयरक्राफ्ट कैरियर तैनात को लेकर उन्होंने कहा कि हमारा संदेश साफ है। हम मूकदर्शक बनकर नहीं देख सकते। चाहे चीन हो या कोई और हम उस इलाके या किसी और अन्‍य जगह पर किसी और देश को सबसे शक्तिशाली, प्रभावी ताकत का दर्जा नहीं लेने देंगे। मार्क मेडोस ने हमारी सैन्‍य ताकत मजबूत है और आगे भी मजबूत बनी रहेगी। फ‍िर चाहे वह भारत और चीन के बीच संघर्ष से जुड़ा हो या कहीं और।

यह भी पढ़ें…कानपुर शूटआउट: शक के दायरे में 200 पुलिसकर्मी, खंगाले जा रहे हैं कॉल डिटेल

दुनिया की श्रेष्‍ठ सैन्‍य ताकत है अमेरिकी

अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के चीफ ऑफ स्‍टाफ का कहना है किअमेरिका का मिशन है कि यह सुनिश्चित किया जाए कि विश्‍व यह जान ले कि अमेरिका अभी भी दुनिया की श्रेष्‍ठ सैन्‍य ताकत है। अमेरिका ने यह बयान ऐसे समय में दिया है जब चीन ने सोमवार को कहा कि अग्रिम मोर्चे पर तैनात सैनिक भारत से लगती वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गलवान घाटी में पीछे हटने और तनाव कम करने की दिशा में ‘प्रगति’ के लिए ‘प्रभावी कदम’ उठा रहा है।

यह भी पढ़ें…शहीद CO की चिट्ठी पुलिस रिकार्ड से गायब, SSP की दुहाई नहीं मिल रही शिकायत

भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच गत 30 जून को लेफ्टिनेंट जनरल स्तर की बातचीत हुई थी। इस दौरान दोनों पक्ष गतिरोध को समाप्त करने के लिए ‘प्राथमिकता’ के रूप में तेजी से और चरणबद्ध तरीके से कदम उठाने के लिए सहमत हो गए थे।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।