अब अमेरिका की नजर तिरछीः एयर इंडिया को रोका, इसलिए नहीं देगा एंट्री

अमेरिका ने वंदे भारत मिशन को मनमाने तरीके से चलाने का आरोप लगाया है और उसने अपने देश में विशेष विमानों को एंट्री देने से मना कर दिया है।

वॉशिंगटन: कोरोना वायरस लॉकडाउन के कारण खाड़ी देशों और दुनियाभर में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए सरकार की तरफ से ‘वंदे भारत मिशन’ (Vande Bharat Mission) की शुरूआत की गई। इस मिशन के तहत विशेष विमानों के जरिए दूसरे देशों में फंसे भारतीय नागरिकों को वापस लाया जा रहा है। लेकिन अब अमेरिका इस मिशन में रोड़ा अटका रहा है। अमेरिका ने वंदे भारत मिशन को मनमाने तरीके से चलाने का आरोप लगाया है और उसने अपने देश में विशेष विमानों को एंट्री देने से मना कर दिया है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से जंग में योगी सख्तः थाने से लेकर जेल तक सब जगह करें ये व्यवस्था

भारत एविएशन से जुड़े एग्रीमेंट को तोड़ रहा

अमेरिका ने आरोप लगाया है कि भारत एविएशन से जुड़े एग्रीमेंट को तोड़ रहा है। अमेरिका का कहना है कि भारत सरकार ने कोरोना वायरस के मद्देनजर अभी इंटरनेशनल फ्लाइट्स शुरू नहीं की हैं, लेकिन वंदे भारत मिशन के तहत दूसरे देशों में फंसे भारतीयों की वतन वापसी कराने विशेष विमानों का संचालन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: कुछ ऐसा था अंग्रेजों का जमाना, जिसकी आमदनी होती थी दो रुपये महीना

अमेरिकी विमान कंपनियों के चाटर्ड फ्लाइट को मंजूरी नहीं

अमेरिका के ट्रांसपोर्ट डिपार्टमेंट (DOT) का कहना है कि अमेरिकी विमान कंपनियों के चाटर्ड फ्लाइट को मंजूरी नहीं दी जा रही है। भारत सरकार ने अमेरिकी विमानन कंपनियों को लेकर भेदभाव किया है। इसलिए यह कदम उठाया जा रहा है। उनका कहना है कि एअर इंडिया खुद वंदे भारत मिशन के तहत उड़ान भर रही है।

30 दिन के अंदर लागू होगा आदेश

DOT ने कहा है कि इसके मद्देनजर इंडो-यूएस रूट पर 22 जून से एअर  इंडिया को चार्टर्ड फ्लाइट की इजाजत नहीं होगी। स्पेशल केस में DOT से इजाजत लेनी होगी। 22 जून को जारी यह आदेश 30 दिन के अंदर लागू हो जाएगा।

यह भी पढ़ें: चीन को अमेरिका से इस मामले में लगा था झटका, अब ट्रंप ने दिया ये बयान

भारत मनमाने तरीके से ऑपरेट कर रहा विमानों को

DOT का कहना है कि भारत सरकार ने दूसरे देशों से अपने नागरिकों की वापसी कराने के लिए एअर  इंडिया के प्‍लेन लगा रखे हैं, इन विमानों को भारत मनमाने तरीके से ऑपरेट कर रहा है। अमेरिका के मुताबिक, उसके एअर लाइंस पर भारत में रोक लगाई हुई है, इससे अमेरिकी एअर लाइंस को काफी नुकसान हो रहा है। अमेरिका का आरोप है कि एअर इंडिया पहले की तुलना में ज्यादा फ्लाइट का संचालन कर रहा है।

इसलिए उठाया ये कदम

डीओटी ने अपने आदेश में कहा कि वह यह कदम उठा रहे हैं कि क्योंकि भारत सरकार ने अमेरिकी विमानों के परिचालन अधिकार को बाधित कर दिया है और वह अमेरिकी विमानों के साथ भेदभावपूर्ण और प्रतिबंधात्मक रवैया अपना रही है।

यह भी पढ़ें: गला रेत कर हुई थी दारोगा की हत्याः दो साल बाद खुलासा, सभी अभियुक्त गए जेल

25 मार्च से ही रद्द हैं अंतरराष्ट्रीय उड़ानें

बता दें कि भारत में कोरोना वायरस के चलते 25 मार्च से ही सभी अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को रद्द कर दिया गया है। गौरतलब है कि भारत ने कोरोना वायरस महामारी के चलते घरेलू फ्लाइट का संचालन तो शुरू कर दिया है लेकिन इंटरनेशनल फ्लाइट पर अभी भी रोक जारी रखी है। हालांकि विदेशों में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए एअर इंडिया के सहयोग से सरकार ने 6 मई को वंदे भारत मिशन की शुरुआत की थी।

यह भी पढ़ें: झुका ड्रैगनः काम आई कूटनीति, पूर्वी लद्दाख से अपने सैनिक हटाने पर हुआ राजी

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।