×

अमेरिका में हिंसा जारी, प्रदर्शनकारी बोले- बंकर में मत छिपो, आप हमारे राष्ट्रपति नहीं

जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका में भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही हैं। लोग अभी भी सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं।प्रदर्शनकारियों ने मियामी स्थित डोनाल्ड  ट्रंप के गोल्फ रिजॉर्ट का घेराव किया।

Aditya Mishra
Updated on: 7 Jun 2020 8:56 AM GMT
अमेरिका में हिंसा जारी, प्रदर्शनकारी बोले- बंकर में मत छिपो, आप हमारे राष्ट्रपति नहीं
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

न्यूयॉर्क: जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका में भड़की हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही हैं। लोग अभी भी सड़कों पर प्रदर्शन कर रहे हैं।

प्रदर्शनकारियों ने मियामी स्थित डोनाल्ड ट्रंप के गोल्फ रिजॉर्ट का घेराव किया। उन्होंने अपने हाथों में तख्तियां पकड़ रखी थी। जिस पर लिखा था- कि बंकर ब्वॉय मत बनो।

ऐसा कहने के पीछे लोगों का आशय ये था कि पिछले दिनों जब वाशिंगटन में प्रदर्शनकारी उग्र हो गए थे तो कुछ समय के लिए राष्ट्रपति ट्रंप को सुरक्षा के लिहाज से व्हाइट हाउस में बंकर में शरण लेनी पड़ी थी।

कोरोना पर ट्रंप का बड़ा बयान, बोले- भारत और चीन में ऐसा हुआ तो अमेरिका से…

ट्रंप के विरोध में जमकर नारेबाजी

वहीं दूसरी तरफ कुछ प्रदर्शनकारियों ने 'Black Lives Matter' आंदोलन के पक्ष में नारे लगाते हुए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ तख्तियां लिए हुए थे, जिनमें लिखा था- आप हमारे राष्ट्रपति नहीं है।

कई लोगों ने कहा कि ट्रंप के खिलाफ वोट देकर इनको सत्ता से बाहर करो। सैकड़ों प्रदर्शनकारियों के समूह मैनहेट्टन और ब्रुकलिन में मार्च करते रहे और इस दौरान पुलिस उन पर नजर रखती रही लेकिन उसने किसी को हाथ नहीं लगाए।

बता दें कि शनिवार को मैनहेट्टन में प्रदर्शनों के दौरान स्वयंसेवियों ने प्रदर्शनकारियों को चिलचिलाती धूप से राहत दिलाने के लिए नाश्ता, प्राथमिक उपचार किट और पानी की बोतलें बांटी।

वहीं हजारों लोगों ने ब्रुकलिन पुल को पार किया और लोअर मैनहेट्टन पहुंचे जहां अन्य समूहों के साथ मिलकर वे फोली स्कॉयर और वाशिंगटन स्कॉयर पार्क जैसे स्थानों पर एकत्र हुए।

मुख्य शहर से दूर, पुलिस ने सभी के लिए अवरोधक लगाए लेकिन टाइम्स स्क्वायर को वाहनों एवं पैदल यात्रियों के लिए बंद रखा। कर्फ्यू हटने के बाद, प्रदर्शनकारियों के बड़े समूह ने एफडीआर ड्राइव पर मार्च किया जिसके चलते पुलिस को सड़क मार्ग एक तरफ से बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा।

अमेरिका में बच्चों के लिए परेशान हैं भारतीय परिजन, सरकार से मांग रहे ये मदद

भीड़ काबू करने में पुलिस के छूटे पसीने

इसी तरह अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड की मौत को लेकर न्यूयॉर्क सिटी में शनिवार को भी प्रदर्शन जारी रहे जहां हजारों लोग पुलिस बर्बरता के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए सड़कों और उद्यानों में उतर आए।

वहीं पुलिस ने रात आठ बजे से कर्फ्यू लगाने के फैसले को वापस ले लिया है जिसके चलते पिछले कई दिनों से पुलिस और जनता आमने-सामने हो रही थी।

अमेरिका में तोड़ी गई महात्मा गांधी की प्रतिमा, हालात बेकाबू, सड़कों पर उतारी गई सेना

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story