अमेरिका के साथ युद्ध के खतरे के बीच ईरान ने भारत पर किया ये बड़ा ऐलान

मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका और ईरान में जंग शुरु हो गई है। इस बीच ईरान ने कहा कि अमेरिका के साथ तनाव खत्म करने के लिए भारत के द्वारा किसी भी पहल का स्वागत करेंगे।

नई दिल्ली: मेजर जनरल कासिम सुलेमानी की हत्या के बाद अमेरिका और ईरान में जंग शुरु हो गई है। इस बीच ईरान ने कहा कि अमेरिका के साथ तनाव खत्म करने के लिए भारत के द्वारा किसी भी पहल का स्वागत करेंगे। ईरान के दूत ने बुधवार को कहा कि भारत ईरान का अच्छा दोस्त है और हम युद्ध नहीं शांति चाहते हैं।

ईरान के सैन्य कमांडर कासिम सोलीमनी की हत्या के बाद अमेरिका के साथ अपने तनाव को कम करने के लिए ईरान भारत द्वारा किसी भी शांति पहल का स्वागत करेग। बता दें अगर ईरान और अमेरिका के बीच युद्ध होता है तो भारत में भी इसका असर हो सकता है। तेल कीमतें बढ़ेंगी जिससे महंगाई बढ़ेगी।

लेकिन ईरानी दूत के इस टिप्पणी के कुछ ही घंटे बाद ईरान ने इराक में दो अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर हमला कर दिया। कमांडर जनरल कासिम सोलीमनी की हत्या के प्रतिशोध में मिसाइल हमले किए।

यह भी पढ़ें…अभी-अभी मोदी सरकार ने देशहित में लिए कई बड़े फैसले, यहां जानें उसके बारे में

मध्य इराक में बुधवार सुबह (स्थानीय समयानुसार) अल असद एयरबेस पर कम से कम 20 रॉकेटों से हमले किए गए, जहां कई अमेरिकी सैनिक तैनात हैं। ये अमेरिकी ड्रोन हमले के मद्देनजर ईरान द्वारा पहली बार किया गया जवाबी हमला है।

बता दें कि पिछले सप्ताह अमेरिकी ड्रोन हमले में ईरानी कुद्स फोर्स के कमांडर जनरल कासिम सुलमानी मारे गए थे, जिसके बाद से अमेरिका और ईरान के बीच युद्ध खतरना मंडरा रहा है।

यह भी पढ़ें…अब बर्बाद हो जाएगा ईरान: हमले के बाद ट्रंप ने किया बड़ा ऐलान

मीडिया रिपोर्ट के मुतबाकि यह अभी तक ज्ञात नहीं है कि मिसाइल हमले में कोई हताहत हुआ है या नहीं या सैन्य अड्डे में किस तरह का नुकसान हुआ है। यह भी पक्के तौर पर ज्ञात नहीं है कि कितनी मिसाइलें दागी गईं या वे किस प्रकार की थीं। लेकिन ईरान ने दावा किया है कि इस हमले में 80 अमेरिकी सैनिकों की मौत हुई है।

व्हाइट हाउस ने कहा कि राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को हमले के बारे में जनाकारी दी गई है और अपनी राष्ट्रीय सुरक्षा टीम के संपर्क में हैं, जबकि ईरान की सरकारी मीडिया ने कहा है कि रिवोल्यूशनरी गार्डस ने हमले को अंजाम दिया है।

यह भी पढ़ें…आतंकी हमले से दहला श्रीनगर: अलर्ट पर सेना, सर्च आपरेशन जारी

ईरानी मीडिया के मुताबिक बुधवार सुबह, (ईरानी रिवोल्यूशनरी गार्ड) के लड़ाकों ने ‘ओह जाहरा’ कोड के साथ आतंकवादी अड्डे और आक्रामक अमेरिकी फोर्सेज ‘एन अल असद’ पर 10 मिसाइलें दागीं ऑपरेशन शहीद सुलेमानी को सफलतापूर्वक अंजाम दिया।

एक और मीडिया रिपोर्ट में कहा गया है कि एक अमेरिकी अधिकारी ने पुष्टि की है कि इराक में कई अमेरिकी सैन्य अड्डों पर ईरान के अंदर से ‘बैलिस्टिक मिसाइलों’ को दागा गया, जिसमें उत्तरी इराक में एरबिल और पश्चिमी इराक में अल असद एयर बेस शामिल हैं।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App