×

डोनाल्ड ट्रंप को सता रहा डर, इसलिए बंद कर दी कोरोना पर प्रेस वार्ता

इस वक्त कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। वहीं दुनियाभर में अमेरिका सबसे बुरी तरह से कोरोना से प्रभावित हो चुका है। वहां पर मरने वालों की संख्या रोज हजारों की संख्या में बढ़ रही है।

Shreya
Updated on: 26 April 2020 8:03 AM GMT
डोनाल्ड ट्रंप को सता रहा डर, इसलिए बंद कर दी कोरोना पर प्रेस वार्ता
X
डोनाल्ड ट्रंप को सता रहा डर, इसलिए बंद कर दी कोरोना पर प्रेस वार्ता
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

वॉशिंगटन: इस वक्त कोरोना वायरस से पूरी दुनिया जूझ रही है। वहीं दुनियाभर में अमेरिका सबसे बुरी तरह से कोरोना से प्रभावित हो चुका है। वहां पर मरने वालों की संख्या रोज हजारों की संख्या में बढ़ रही है। वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप देश में कोरोना वायरस से जुड़ी खबरों और इसे लेकर सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में जानकारी देने के लिए व्हाइट हाउस में दैनिक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते थे। इस दैनिक वार्ता में ट्रंप पत्रकारों से बातचीत करते थे और उनके सवालों का भी जवाब देते थे। लेकिन उन्होंने अब ये प्रेस वार्ता करनी बंद कर दी है। ट्रंप ने ट्वीट करते हुए इसकी वजह भी बताई है।

शुक्रवार को नहीं की पत्रकारों से बातचीत

दरअसल, शुक्रवार को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रेस वार्ता में किसी भी पत्रकार का जवाब नहीं दिया। वो व्हाइट हाउस तो गए लेकिन केवल अधिकारियों के साथ ही बंद कमरे में बैठक की और इस मीटिंग के बाद वो बाहर चले आए। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ट्रंप ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों से ना तो बातचीत की और ना ही उनके सवालों का जवाब दिया।

यह भी पढ़ें: अलर्ट जारी: मौसम ने यूपी में बदली करवट, किसानों के लिए बुरा संकेत

ट्रंप ने ट्वीट कर बताई प्रेस वार्ता बंद करने की वजह

हालांकि ट्रंप ने खुद ट्वीट करते हुए प्रेस वार्ता को बंद करने के पीछे की वजह बताई है। उन्होंने कहा कि व्हाइट हाउस न्यूज कॉन्फ्रेंस होने का उद्देश्य क्या है, जब पक्षपाती मीडिया शत्रुतापूर्ण सवालों के अलावा कुछ नहीं पूछता, और फिर सच्चाई या तथ्यों की सही रिपोर्ट करने से इनकार कर देता है। वे रिकॉर्ड रेटिंग प्राप्त करते हैं, और अमेरिकी लोगों को फेक न्यूज के अलावा कुछ नहीं मिलता है। उन्होंने लिखा कि यह समय और एफर्ट के लायक नहीं!



अपने बयानों को लेकर कर चुके हैं आलोचना का सामना

डोनाल्ड ट्रंप का ये ट्वीट और यूं प्रेस वार्ता को बंद कर देना चर्चा का विषय बना हुआ है। वहीं एक्सपर्ट्स का कहना है कि ट्रंप द्वारा हाल ही में हुईं कुछ प्रेस वार्ता में कई ऐसे बयान दिए गए हैं जो चर्चा का विषय बने रहें। साथ ही उनके इन बयानों की खूब आलोचना भी हुई। ऐसा मानना है कि ट्रंप के इन बयानों के चलते उनके चुनावी कैंपेन को करारा झटका लग सकता है।

यह भी पढ़ें: कोरोना से लड़ने के ‘हथियार’ तैयार, जिले में खुले सूती मास्कों के 9 आउटलेट

उनके सलाहकारों ने वार्ता को बंद करना ही उचित समझा

साथ ही इसका एक और कारण है, वो है ट्रंप ने पिछली कई प्रेस वार्ताओं में कोरोना को लेकर ऐसे बयान दिए हैं जो न केवल अमेरिका बल्कि पूरी दुनियाभर में चर्चा का विषय रहे। जिसके चलते कोरोना पर होने वाली प्रेस वार्ता को छोड़ सारा ध्यान ट्रंप के बयानों पर ही केंद्रित हो गया था। इसलिए उनके सलाहकारों ने इस वार्ता को बंद करना ही उचित समझा।

बयानों के चलते हुए हैं कई विवाद

बता दें कि पिछले दिनों ट्रंप ने कोरोना के इलाज के लिए भी कई ऐसे बयान दिए हैं, जिनकी वजह से उनकी खूब आलोचना हुई और उन बयानों के चलते विवाद खड़ा हो गया। एक बार अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा था कि उन्होंने सूरज की किरणों को कोरोना के इलाज के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: दिल्ली में खोली जाएंगी ये दुकानें, शॉपिंग मॉल्स और मार्केट काम्प्लेक्स पर लिया ये फैसला

इन बयानों के चलते हुई आलोचना

यहीं नहीं उन्होंने एक बार कहा था कि व्यक्ति के फेफड़ों को इंजेक्शन से साफ करके कोरोना का इलाज किया जा सकता है। ट्रंप का कहना था कि कोरोना से सबसे ज्यादा व्यक्ति का फेफड़ा प्रभावित होता है इसलिए इस उपाय के बारे में सोचा जा सकता है। इस बयान के चलते भी उन्हें आलोचना का सामना करना पड़ा था। साथ ही डॉक्टरों ने उनकी इस बात को साफ तौर पर खारिज कर दिया था।

अमेरिका में अब तक 54 हजार से ज्यादा मौतें

बता दें कि अमेरिका में तेजी से कोरोना का संक्रमण फैल रहा है। वहां पर रोज हजारों की संख्या में लोगों की मृत्यु हो रही है। अमेरिका में अब तक 9 लाख 59 हजार लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं। जबकि 54 हजार से ज्यादा मौतें हो चुकी हैं और यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। इनमें से एक लाख से ज्यादा लोग रिकवर भी हो चुके हैं।

यह भी पढ़ें: फरारी से उतार कर पुलिस ने कराया उठक-बैठक, पापा कर चुके हैं एंबुलेंस दान

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shreya

Shreya

Next Story