क्लाइमेट चेंज: UN में 16 साल की बच्ची ने ऐसा क्या कहा, दुनियाभर में हो रही चर्चा

जलवायु परिवर्तन पर सयुक्त राष्ट्रसंघ (यूएन) में अपने भाषण से एक 16 साल की बच्ची दुनियाभर के नेताओं को झकझोर दिया। इस एक्टिविस्ट की चिंताओं और सवालों से नेताओं के रोंगटे खड़े हो गए।

नई दिल्ली: जलवायु परिवर्तन पर सयुक्त राष्ट्रसंघ (यूएन) में अपने भाषण से एक 16 साल की बच्ची दुनियाभर के नेताओं को झकझोर दिया। इस एक्टिविस्ट की चिंताओं और सवालों से नेताओं के रोंगटे खड़े हो गए।

ग्रेटा थनबर्ग ने यूएन महासचिव के सामने दुनियाभर के नेताओं से कहा कि आपने हमारे बचपन, हमारे सपनों को छीन लिया है। आपकी हिम्मत कैसे हुई? तो सभी निरूत्तर थे। बच्ची भावुक थी और उसके शब्दों ने सबको झकझोर रख दिया।

यह भी पढ़ें…यूपी: योगी कैबिनेट की बैठक में लिए गए बड़े फैसले, हुए ये ऐलान

स्वीडन की 16 साल की पर्यावरण ऐक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग ने संयुक्त राष्ट्र की उच्चस्तरीय क्लाइमेट ऐक्शन समिट के दौरान UN महासचिव गुतारेस सहित दुनिया के बड़े नेताओं के समक्ष बोल रही थी। उसने जब बोलना शुरू किया तो इन नेताओं को यह नहीं पता था कि उसके सवालों के जवाब नहीं दे पाएंगे।

 

आपको माफ नहीं करेगी युवा पीढ़ी

ग्रेटा ने दुनियाभर के बच्चों और आज की युवा पीढ़ी की आवाज को सामने रखते हुए कहा कि युवाओं को समझ में आ रहा है कि जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर आपने हमें छला है और अगर आपने कुछ नहीं किया तो युवा पीढ़ी आपको माफ नहीं करेगी।

यह भी पढ़ें…क्या शिवपाल यादव की होगी घर वापसी, सपा ने उठाया ये बड़ा कदम

संयुक्त राष्ट्र चीफ ने ग्रेटा के भाषण को सराहा है। आंखों में आंसू और गुस्से में नजर आ रहीं ग्रेटा ने कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि आपने हमारे सपने, हमारा बचपन अपने खोखले शब्दों से छीना। हालांकि मैं अभी भी भाग्यशाली हूं। लेकिन लोग झेल रहे हैं, मर रहे हैं, पूरा ईको सिस्टम बर्बाद हो रहा है।’

यह भी पढ़ें…जम्मू-कश्मीर से सामने आई ये बड़ी तस्वीर, पाकिस्तान के झूठ की खूली पोल

‘नेता कुछ नहीं कर रहे’

विश्व के नेताओं पर कुछ न करने का आरोप लगाते हुए ग्रेटा भावुक हो गईं और कहा, ‘आपने हमें असफल कर दिया। युवा समझते हैं कि आपने हमें छला है। हम युवाओं की आंखें आप पर हैं और अगर आपने हमें फिर असफल किया तो हम आपको कभी माफ नहीं करेंगे। हम आपको जाने नहीं देंगे। आपको यहां इसी समय लाइन खींचनी होगी। विश्व जग चुका है और चीजें बदलने वाली हैं, चाहे आपको यह पसंद आए या न आए।’