इस सवाल का जवाब देकर IAS बने दीपक, UPSC में जीरो पर पूछा गया ऐसा प्रश्न

UPSC के इंटरव्यू में एक उम्मीदवार ‘जीरो’ के सवाल पर IAS बन गया। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि UPSC इंटरव्यू में उम्मीदवार की सोच और उसकी समझ परखने के लिए कई बार बिल्कुल अलग तरह के सवाल पूछ जाते हैं।

नई दिल्ली: UPSC  के इंटरव्यू में एक उम्मीदवार ‘जीरो’ के सवाल पर IAS बन गया। अक्सर ऐसा देखा जाता है कि UPSC इंटरव्यू में उम्मीदवार की सोच और उसकी समझ परखने के लिए कई बार बिल्कुल अलग तरह के सवाल पूछ जाते हैं। ऐसा ही एक सवाल 2007 बैच के एक उम्मीदवार से पूछा गया था कि जीरो से आप क्या समझते हैं? इस सवाल का जवाब देकर उन्होंने आईएएस की रैंक पाने में सफलता पाई थी।

दीपक रावत मूल रूप से उत्तराखंड के मसूरी रहने वाले हैं। वह हरिद्वार के डीएम रह चुके हैं। इससे पहले दीपक रावत नैनीताल के डीएम थे और उससे पहले दीपक रावत कुमाऊ मंडल विकास निगम के एमडी के पद पर तैनात थे। दीपक की छवि एक तेजतर्रार अधिकारी की है।

दीपक ने अपने एक भाषण में बताया था कि उनको हमेशा क्लास में खड़ा होने की सजा दी जाती थी, क्योंकि वह अपना नहीं करते थे। उनका कहना है कि वह बचपन में कभी अच्छा स्टूडेंट नहीं थे। उनकी गिनती उन बच्चों में होती थी जो घर से होमवर्क करके नहीं लाते थे जिसकी वजह से उन्हें प्रतिदिन क्लास में खड़े होने की सजा दी जाती थी।

यह भी पढ़ें…योगी कैबिनेट ने दी 5 लाख 12 हजार करोड़ के बजट को मंजूरी, जानें क्या है ख़ास

स्कूलिंग पूरी करने के बाद उन्होंने ग्रेजुएशन में इतिहास विषय में टॉप किया। इसके बाद उन्होंने यूपीएससी की तैयारी की जिसमें 2005 में इंडियन रेवन्यू सर्विस के लिए वह चुने गए और उन्होंने फिर 2007 में यूपीएससी में 12वीं रैंक हासिल की।

यह भी पढ़ें…अखिलेश यादव का योगी सरकार पर जोरदार हमला, बजट को लेकर कही ये बड़ी बात

दीपक रावत हमेशा युवाओं से जुड़े रहते हैं। उन्होंने अपने एक वीडियो में यूपीएससी इंटरव्यू के बारे में जानकारी दी थी। वह कहते हैं कि उनसे बोर्ड के एक सदस्य ने पूछा था कि जीरो से हम क्या सीख सकते हैं? इस सवाल का जवाब देते हुए दीपक ने कहा कि जीरो हमें सिखाता है कि हमें न्यूट्रल रहना चाहिए।

यह भी पढ़ें…अमर सिंह का हुआ ये हाल: रो देंगे देखकर आप, मांगी अमिताभ से माफी

इसके बाद उन्होंने जीरो का पूरा महत्व बताया। जीरो में कुछ जोड़ दो तो भी वहीं रहता है, जीरो से कुछ घटा दो तो भी अंक वहीं रहता है, उसकी वैल्यू नहीं घटती है। इसलिए जीरो ही हमें न्यूट्रल रहना सिखाता है।

उनका कहना है कि यूपीएससी इंटरव्यू देने जा रहे उम्मीदवारों को ध्यान रखना है कि किसी भी सवाल का जवाब पूरे कांफीडेंस से दें, आपके जवाब से ज्यादा आपका आत्मविश्वास यहां परखा जाता है।