Health

वैक्सीनेशन को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश में अब तक चार लोगों की डेथ हुई है जिन्होंने कोरोना वायरस का टीका लगवाया था। लेकिन इनमें से एक भी मौत टीका लगने की वजह से नहीं हुई है।

वैक्सीनेशन को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि देश में अब तक चार लोगों की डेथ हुई है जिन्होंने कोरोना वायरस का टीका लगवाया था। लेकिन इनमें से एक भी मौत टीका लगने की वजह से नहीं हुई है।

'हेल्दी लिविंग विद शरण' के साथ लाइफस्टाइल एंड न्यूट्रिशियन कंसल्टेंट के तौर पर काम कर रहीं शालू निझावन ने लोगों को रोजाना पांच सुपरफूड खाने की एडवाइस दी है।

हार्ट अटैक आने का वैसे तो कोई निश्चित समय नहीं होता है। ये चलते-फिरते बोलते या सोते वक्त कभी भी आ सकता है। लेकिन ज्यादातर केस में अध्ययन करने के बाद ये पाया गया है कि हार्ट अटैक सुबह के समय बाथरूम के अंदर ज्यादा आते हैं।

जब हम ज्यादा समय के लिए घर पर रहते हैं तो मानसिक तौर पर कई तरह की समस्या आती है। जब हमारी कुछ बुनियादी जरूरते पूरी नहीं हो पाती हैं। अगर आप काफी ज्यादा समय के लिए घर से बाहर नहीं निकलते तो धीरे धीरे हमारा मस्तिष्क तनावपूर्ण होने लगता है।

वैक्सीन के डेवलपमेंट में सरकारों, संस्थानों, संगठनों और निजी तौर पर व्यक्तियों ने जबरदस्त पैसा लगाया है। चूँकि कोरोना वैक्सीन को किसी भी हाल में जल्द से जल्द चाहिए था

बिहार में सोमवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 144 नए केस सामने आए और संक्रमण से तीन और मरीजों की को अपनी जान गंवानी पड़ी। वहीं कर्नाटक के बल्लारी जिले में कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद एक स्वास्थ्यकर्मी की मौत हो गई।

नागाराजू संडूर (43)जनरल अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मी के पद पर तैनात था। सोमवार दोपहर में सीने में दर्द और सांस में दिक्कत आने पर उसे इसी अस्पताल में एडमिट किया गया था, इलाज के दौरान ही उसकी मौत हो गई।

अगर हम रिपोर्ट में लिखी बातों पर गौर करें तो उसमें साफ-साफ लिखा है कि सर्वेक्षण में पाया गया कि रक्त समूह ‘ओ’ वाले लोग संक्रमण के प्रति कम संवेदनशील हो सकते हैं, जबकि 'बी' और 'एबी' रक्त समूह वाले लोग अधिक जोखिम में हो सकते हैं।

अधिकतर लोग भोजन करने के बाद सो जाते हैं। लेकिन ये आदत सेहत के लिए सही नहीं। खाने के बाद शरीर को पाचन क्रिया के लिए टाइम लगता है।