Health

दावे तो आयुर्वेदिक उपचार से कोरोना वायरस ठीक करने के हुए हैं लेकिन मान्यता किसी को नहीं मिली है। अब ये नए तरीके की वैकल्पिक पद्धति सामने आयी है। जिसमें ध्वनियों की तरंगों को आधार बनाकर  ईएफवी (इलेक्ट्रो-फ्रीक्वेंसी-वाइब्रेंशन) मॉडल पेश किया गया है।

अपने देश में कोविड-19 से ज्यादा प्रभावित राज्यों में केरल का नाम भी है। शनिवार तक इस राज्य में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 306 हो चुकी थी। अब तक...

कुछ स्थितियों में कैंसर की कोशिकाएं व्यक्ति के पूरे शरीर में भी फैल सकती हैं। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि आज के समय में कैंसर...

सीएसआईआर के महानिदेशक डॉ शेखर सी. मांडे ने बताया कि नई दिल्ली स्थित “जिनोमिकी और समवेत जीव विज्ञान संस्थान (आईजीआईबी) के वैज्ञानिक जल्दी ही कोराना के परीक्षण के लिए यह किट विकसित कर लेंगे। इस किट के उपयोग से जाँच की लागत सिर्फ 100 रुपये आएगी

कोरोना वायरस की महामारी इसलिए भी दुनिया के लिए चुनौतीपूर्ण बनी हुई है, क्योंकि इस बीमारी के लक्षण आसानी से समझ नहीं आते। लोगों को इसके लक्षण इसलिए भी समझ नहीं आते, क्योंकि इसके Symptoms आम सर्दी-जुकाम जैसे ही हैं।

दिल्ली के मशहूर बड़ा हिंदूराव अस्पताल में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों और नर्सों ने इस्तीफे के पेशकश की है। इनका आरोप है कि

स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बार फिर स्पष्ट किया है कि हर किसी को मास्क पहनने की जरूरत नहीं है। कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए सामाजिक दूरी (सोशल डिस्टेंस) का पालन करना अधिक महत्वपूर्ण है। घर पर बनाए जा रहे मास्कों की तकनीकी रूप से जांच की जा रही है। जल्द ही उचित दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। 

गुवाहाटी में एक निजी अस्पताल के ऐनेस्थेटिस्ट ने कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए हाइड्रॉक्सिक्लोरोक्वीन लिया था। रविवार को डॉक्टर...

अमेरिका में भी हालात बहुत बुरे हो गए हैं। लेकिन इस बीच अमेरिका से अच्छी खबर आ रही है। अमेरिका के डॉक्टरों को इस वायरस से लड़ने के लिए दो अलग-अलग दवाइयां मिली हैं इन दोनों दवाईयों को एक साथ मिलाकर मरीज को देने पर अच्छे नतीजे सामने आए हैं।

दुनियाभर में कोरोना वायरस की वजह से इतनी दहशत फैल गई है कि सोशल मीडिया पर आए दिन इससे बचाव के लिए उपचार वायरल होते रहते हैं। ऐसा ही एक दावा इन दिनों सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए व्यक्ति को अपना मुंह और गला हमेशा नम रखना चाहिए और इसके लिए उसे हर 15 मिनट में पानी पीना होगा।