Health

कोविड-19 बीमारी पैदा करने वाला कोरोना वायरस छह महाद्वीपों में करीब दो करोड़ लोगों को बीमार कर चुका है।

इस कोरोना काल में अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाना बहुत जरूरी है। तुलसी की पत्तियां औषधीय गुणों से भरपूर होती हैं। लोग अक्सर सर्दी-जुकाम से बचने के लिए चाय में तुलसी की पत्तियों का उपयोग करते हैं।

भारत में कोरोना वायरस का कम्यूनिटी स्प्रेड शुरू हुआ है कि नहीं इस पर विवाद बना हुआ है। कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि कम्यूनिटी स्प्रेड शुरू हो चुका है लेकिन सरकार का कहना है कि ऐसी स्थिति अभी नहीं आई है।

कोविड काल में सैनिटाइजर का चलन काफी बढ़ गया है। घरों, कर्यालयों में तो लोग बाहर से आने पर हाथ सैनिटाइज कर ही रहे हैं। साथ ही, इसकी बोतल भी साथ लेकर चलने लगे हैं। 

कोरोना वायरस बहुत कपटी है। शरीर में घुसने के बाद ये अलग अलग तरह के लक्षण उत्पन्न करता है।

यह टेस्ट मिथाइल ग्रुप के लिए ब्लड प्लाज्मा में पाए जाने वाले डीएनए की स्क्रीनिंग कर कैंसर का पता लगा सकता है। टीम ने कहा कि इस तकनीक का इस्तेमाल कर उन्हें डीएनए के बहुत छोटे स्तर तक पहुंचने में मदद मिली है।

पूरी दुनिया में आज वर्ल्ड हेपेटाइटिस डे मनाया जा रहा है। इस साल की थीम है हेपेटाइटिस मुक्त भविष्य। लिवर की बीमारी हेपेटाइटिस से दुनिया भर में हर साल करीब 13 लाख मौतें हो रही हैं।

कोरोना ने देश में तांडव मचा रखा है। तेजी से लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। हालांकि लोग इस वायरस को हराकर ठीक भी हो रहे हैं।

क्या आपको पता है कि ज्यादा सैनिटाइटर का इस्तेमाल नुकसानदेह है। जी हां, हाल ही में सैनिटाइजर को लेकर स्वास्थ्य मंत्रालय ने चेतावनी जारी की है।

कोरोना वायरस की एक और मिस्ट्री सामने आई है। वो यह कि कोरोना संक्रमित मरीज जब स्वस्थ हो गए तो उनमें से कुछ के खून में एंटीबॉडी नहीं मिलती है।