Top

हिमाचल में फैली दहशत: 2021 में इस बीमारी ने दी दस्तक, 1000 पक्षियों की मौत

मध्य प्रदेश में मृत पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों वाले मरीजों का पता करने के लिए अभियान शुरू किया गया है।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 3 Jan 2021 5:09 AM GMT

हिमाचल में फैली दहशत: 2021 में इस बीमारी ने दी दस्तक, 1000 पक्षियों की मौत
X
उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के डाला इलाके में दस कौव्वोंं की मौत के बाद सनसनी फैल गई। इनके सैंपल पोस्ट मार्टम के बाद मध्यप्रदेश भेजें गए हैं।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

नई दिल्ली: दुनिया भर में कोरोना महामारी तबाही मचा रही है। कोरोना संकट के बीच देश में बर्ड फ्लू का खतरा फैल गया है। अब हिमाचल में 1000 से अधिक पक्षियों की मौत से हड़कंप मच गया है। मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी पक्षियों की मौत हुई है। मृत पक्षियों के सैंपल भोपाल की एक प्रयोगशाला में भेजे गए हैं।

मध्य प्रदेश में मृत पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू के वायरस की पुष्टि हुई। इसके बाद प्रशासन अलर्ट हो गया है और सर्दी, खांसी और बुखार के लक्षणों वाले मरीजों का पता करने के लिए अभियान शुरू किया गया है। मध्य प्रदेश के इंदौर में हाल ही में कौए मृत पाए गए थे। अभी मृत पक्षियों की खोज की जा रही है।

राजस्थान के झालावाड़ जिले में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। प्रदेश के कोटा और पाली में भी कौवों की मौत हुई है। राजस्थान के पांच जिलों में यह फैल चुका है। शनिवार को बारां में 19, झालावाड़ में 15 और कोटा के रामगंजमंडी में 22 और कौए मृत पाए गए। इन तीन जिलों में अब तक 177 कौवों की जान जा चुकी है। मध्यप्रदेश के इंदौर में भी करीब 70 कौओं की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़ें...शिवराज कैबिनेट का विस्तार: इन नेताओं को मिलेगा मंत्री पद, सिंधिया की बढ़ेगी ताकत

Bird Flu in himachal pradesh

प्रवासी पक्षियों पर मंडराया खतरा

राजस्थान और मध्यप्रदेश के बाद हिमाचल प्रदेश में पक्षियों की मौत के बाद हड़कंप मच गया है। हिमाचल के पोंग डैम अभयारण्य में एक हफ्ते में 1,000 से अधिक प्रवासी पक्षियों की मौत हो गई है। अभयारण्य में हर साल अक्टूबर से मार्च तक रूस, साइबेरिया, मध्य एशिया, चीन, तिब्बत और अन्य देशों से कई प्रजातियों के रंग-बिरंगे पक्षी आते हैं। यह पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहते हैं। पक्षियों की अचानक मौत के बाद हड़कंप मच गया है। वन्यप्राणी विभाग ने बर्ड फ्लू की आशंका की वजह से झील में सभी प्रकार की गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया है।

ये भी पढ़ें...रांची की सड़कों पर सरपट दौड़ता है लालू रथ, 24 वर्षों से है विजय यादव की पहचान

इन शहरों में फैला बर्ड फ्लू

मध्य प्रदेश और राजस्थान में बर्ड फ्लू की पुष्टि हो चुकी है। इंदौर, कोटा और पाली में मृति पाए गए पक्षियों में बर्ड फ्लू पाया गया है। इसके बाद स्थानीय लोगों में भय का माहौल है। लोगों का डर इसलिए और बढ़ गया है, क्योंकि कोरोना वायरस फैले से कहर बरपाया रहा है। बर्ड फ्लू अगर फैलता है, तो देश के लिए बड़ा खतरा हो सकता है।

ये भी पढ़ें...मूसलाधार बारिश का अलर्ट: इन राज्यों में जमकर बरसेंगे बादल, पड़ेगी कड़ाके की ठंड

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story